Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाजइस्लाम अपनाने को मजबूर दलित महिला ऑटो-चालक, केरल की वामपंथी सरकार पर लगाया जातिगत...

इस्लाम अपनाने को मजबूर दलित महिला ऑटो-चालक, केरल की वामपंथी सरकार पर लगाया जातिगत भेदभाव का आरोप

चित्रा लेख ने आरोप लगाया कि उन्हें उनकी जाति के कारण सीपीएम सरकार द्वारा निशाना बनाया गया और उन्होंने न्याय पाने की सभी उम्मीदें खो दी थीं, इसलिए वह धर्म परिवर्तन करने की योजना बना रही हैं।

केरल के कन्नूर की रहने वाली चित्रा लेखा नाम की एक दलित महिला ऑटो चालक ने घोषणा की है कि वह राज्य में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) के हाथों कथित रूप से जातिगत भेदभाव का सामना करने के बाद इस्लाम में धर्मांतरण करने जा रही हैं। केरल की चित्रा लेखा ने सोमवार, 16 नवंबर को एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से यह घोषणा की।

कथित तौर पर, चित्रा लेखा ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा था कि केरल की सत्तारूढ़ सीपीएम पार्टी द्वारा उनकी जाति के कारण उन्हें लगातार निशाना बनाया गया। उन्होंने कहा कि उसने सरकार या अदालतों से न्याय पाने की सारी उम्मीदें खो दी हैं। इसलिए, वह इस्लाम में परिवर्तित होकर अपनी दलित पहचान से छुटकारा पाने की योजना बना रही थी।

चित्रा ने लिखा कि उन्होंने 20 साल तक सीपीएम के जातिगत भेदभाव के खिलाफ अकेले संघर्ष किया और वह अब और नहीं सहन कर सकती। उन्होंने कहा कि वह सीपीएम को फर्जी धर्मनिरपेक्ष पार्टी कहते हुए कहा कि वह उसके डर में जीना नहीं चाहती।

सीपीएम सरकार ने छीन ली थी पिछली सरकार द्वारा आवंटित जमीन

कथित तौर पर, चित्रा लेखा ने पहले आरोप लगाया था कि सीपीएम कार्यकर्ताओं ने उन्हें जातिगत भेदभाव के कारण काम नहीं करने दिया। उसका ऑटोरिक्शा भी कथित रूप से जला दिया गया था।

चित्रा लेखा को दो साल पहले कन्नमपल्ली, कन्नूर में राज्य की पिछली यूडीएफ सरकार द्वारा एक मकान के लिए कुछ जमीन और धन आवंटित किया गया था।लेकिन, सीपीएम सरकार ने उसे आवंटित भूमि को रद्द कर दिया और उसे आवंटित धन प्रदान करने से इनकार कर दिया। चित्रा लेखा ने कलक्ट्रेट कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया था लेकिन केरल की वामपंथी सरकार ने अपना फैसला नहीं बदला।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार की हाउस टैक्स और शराब-बीयर पर टैक्स बढ़ाने की तैयारी, ₹9.5 करोड़ खर्च करके अमेरिकी फर्म से लिया ‘आइडिया’

जनता से किस तरह से पैसे उगाहा जाए, उसका 'आइडिया' देने के लिए एक अमेरिकी कंपनी को भी काम पर लगाया गया है

दिल्ली की अदालत ने ED के दस्तावेज पढ़े बिना ही CM केजरीवाल को दे दी थी जमानत, कहा- हजारों पन्ने पढ़ने का समय नहीं:...

निचली अदालत ने ED द्वारा केजरीवाल की गिरफ्तारी को 'दुर्भावनापूर्ण' बताया और दोनों पक्षों के दस्तावेजों को पढ़े बिना ही जमानत दे दी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -