Friday, July 12, 2024
Homeदेश-समाज'सा$ च%र, जान से मार देंगे': जीशान-नासिर ने अंबेडकर तालाब पर दलित युवक को...

‘सा$ च%र, जान से मार देंगे’: जीशान-नासिर ने अंबेडकर तालाब पर दलित युवक को पटक कर पीटा, चाकू घोंपने की कोशिश – पीड़ित ने बताई प्रताड़ना की कहानी

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नसिर, जीशान और अबूजर ने साथियों के साथ मिलकर आकाश नाम के दलित युवक को अंबेडकर तालाब के पास लात-घूंसों से पीटा और चाकू घोंपने की कोशिश की। इस दौरान जातिसूचक गालियाँ भी दीं। पीड़ित की शिकायत के बाद तीनों को चालान कर दिया गया है।

उत्तर प्रदेश के लखनऊ में बच्चों के आपसी विवाद के बाद जीशान, अबूजर, नासिर और उसके साथियों ने रविवार (17 दिसंबर 2023) को एक दलित परिवार पर हमला कर दिया। पीड़ित का आरोप है कि ‘सा* च*र..’ कहकर जातिसूचक गालियाँ दी गईं और चाकू घोंपने की कोशिश की गई। पुलिस ने शांतिभंग की धाराओं में तीनों का चालान कर दिया है। ऑपइंडिया से बात करते हुए पीड़ित ने खुद को मुस्लिम बहुल इलाके का निवासी बताया है।

मामला लखनऊ के ठाकुरगंज थाना क्षेत्र का है। यहाँ बाड़ी बालागंज निवासी अनुसूचित जाति के आकाश कुमार ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में आकाश ने कहा कि उनके परिवार और जीशान के घर के बच्चों के बीच किसी बात को लेकर बहस हो गई थी। इस झगड़े को बातचीत के जरिए सुलझा लिया गया था। आकाश का कहना है कि वह घटना के दिन दोपहर लगभग 3:30 पर अम्बेडकर तालाब के पास खड़ा था।

शिकायत में आकाश ने आगे बताया कि इसी दौरान वहाँ जीशान, अबूजर और नासिर अपने कुछ साथियों के साथ पहुँच गए। आरोपितों ने उससे झगड़ा करना शुरू कर दिया। इसी बीच आकाश अपने घर की तरफ आ गया। तभी जीशान ने कहा, “सा$ तुम सब चमा$ को जान से मार देंगे।” जीशान के ललकारते ही उसके बाकी साथी आकाश पर टूट पड़े। उन्होंने लात-घूँसों से आकाश को बुरी तरह से पीटा।

जब आकाश ने आत्मरक्षा का प्रयास किया तब अबूजर और नासिर ने अपने पास छिपाकर लाए गए चाकू को निकाल लिया और उसे घोंपने का प्रयास किया। जीशान ने एक बार फिर से अपने साथियों को आकाश की हत्या के लिए ललकारा। इस घटना में आकाश को गंभीर चोटें आई हैं। इस शिकायत पर पुलिस ने जीशान, नासिर और अबूजर को नामजद करते हुए कुछ अज्ञात लोगों पर FIR दर्ज की है।

ऑपइंडिया के पास FIR की कॉपी मौजूद है। इन सभी आरोपितों पर IPC की धारा 147, 323, 504 और 506 के अलावा SC/ST एक्ट के सेक्शन 3(1)(द) व 3(1)(ध) के तहत केस दर्ज हुआ है। ऑपइंडिया से बात करते हुए SHO ठाकुरगंज ने बताया कि आरोपितों का धारा 151 के तहत चालान किया गया है। हालाँकि, उन्होंने कहा कि मामले की जाँच ACP सुनील कुमार शर्मा कर रहे हैं।

हम मुस्लिम बहुल इलाके के निवासी

ऑपइंडिया ने इस मामले में पीड़ित आकाश से बात की। आकाश ने बताया कि उनके घर के चारों तरफ मुस्लिमों की आबादी और वहाँ हिन्दू काफी कम संख्या में हैं। उनका आरोप है कि इस प्रकार की घटना पहली बार नहीं है, बल्कि आए दिन उन्हें मुस्लिमों की ओर से परेशानी का सामना करना पड़ता है।

बकौल आकाश, घटना के दिन उनके परिवार के एक छोटे बच्चे के सिर में भी काफी चोटें आईं थीं। आकाश का कहना है कि अगर घटना के दिन उनका हाथ समय से न बीच में आया होता तो हमलावरों की चाकू उनके पेट में घुस जाती। आकाश ने उम्मीद जताई है कि उनकी शिकायत पर पुलिस आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी।

नेता सलीम बना रहा सुलह का दबाव

आकाश ने हमें आगे बताया कि सलीम नाम के इलाके का स्थानीय नेता उन्हें के बार-बार केस वापस लेने के लिए बोल रहा है। आकाश जिस जगह का निवासी है, वहीं से सलीम पार्षद का चुनाव लड़ता है। आकाश ने हमसे कहा कि उन्होंने सलीम को ये कहते हुए केस वापसी से मना कर दिया कि अगर उस दिन उनकी जान चली गई होती तो कैसा समझौता होता।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

उधर कॉन्ग्रेसी बक रहे गाली पर गाली, इधर राहुल गाँधी कह रहे – स्मृति ईरानी अभद्र पोस्ट मत करो: नेटीजन्स बोले – 98 चूहे...

सवाल हो रहा है कि अगर वाकई राहुल गाँधी को नैतिकता का इतना ज्ञान है तो फिर उन्होंने अपने समर्थकों के खिलाफ कभी कार्रवाई क्यों नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -