Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाज'अल्लाह-हू-अकबर' और 'हत्या' को इस्लाम से नहीं जोड़ा जा सकता: दिल्ली दंगों के 'मास्टरमाइंड'...

‘अल्लाह-हू-अकबर’ और ‘हत्या’ को इस्लाम से नहीं जोड़ा जा सकता: दिल्ली दंगों के ‘मास्टरमाइंड’ अपूर्वानंद का फ्रांस पर मास्टरस्ट्रोक

इस्लामिक मॉब द्वारा किए गए अपराधों को हमेशा से ढकने की कोशिश करने वाले दिल्ली विश्वविद्यालय के वामपंथी प्रोफेसर ने दावा किया कि 'अल्लाह-हू-अकबर' और 'हत्या' को इस्लाम के साथ नहीं जोड़ा जा सकता। फ्रांस में बिल्कुल निंदनीय कार्य किया गया है।

दिल्ली हिंदू विरोधी दंगों के कथित मास्टरमाइंड में से एक अपूर्वानंद ने गुरुवार (30 अक्टूबर, 2020) को ट्विटर पर इस्लामिक आतंकवादियों के अपराधों पर पर्दा डालने का काम किया है। बता दें इस्लामिक कट्टरपंथियों ने ईशनिंदा की आड़ में फ्रांस में कई गैर-मुस्लिमों को मौत के घाट उतार दिया।

इस्लामिक मॉब द्वारा किए गए अपराधों को हमेशा से ढकने की कोशिश करने वाले दिल्ली विश्वविद्यालय के वामपंथी प्रोफेसर ने दावा किया कि ‘अल्लाह-हू-अकबर’ और ‘हत्या’ को इस्लाम के साथ नहीं जोड़ा जा सकता। उन्होंने आगे कहा कि फ्रांस में बिल्कुल निंदनीय कार्य किया गया है।

अपूर्वानंद का बयान हाल ही में इस्लामिक आतंकवादियों द्वारा फ्रांस में हुई हत्याओं के बाद आया है। फ्रांस की सड़कों पर निर्दोष नागरिकों को पैगंबर मुहम्मद और इस्लाम के खिलाफ ईशनिंदा वालीं ’टिप्पणियाँ करने की वजह से अल्लाह-हू-अकबर चिल्लाते हुए मार दिया गया था।

अपूर्वानंद ने अपने ट्वीट के माध्यम से यह बताना चाहा कि पिछले कुछ दिनों में फ्रांस में इस्लामिक आतंकवादियों द्वारा किए गए गैर-मुस्लिमों की हत्या का इस्लाम के साथ कोई लेना-देना नहीं है। अपूर्वानंद के अनुसार, ‘अल्लाह-हू-अकबर’ का नारा फ्रांस की सड़कों पर हुई हत्या की कार्रवाई को एक साथ नहीं जोड़ा जा सकता।

अपूर्वानंद सरल शब्दों में दुनिया को यह बताना चाहते हैं कि फ्रांस में गैर-मुस्लिमों की हत्या का इस्लाम से कोई लेना-देना नहीं है, बल्कि यह अकेले की एक आपराधिक घटना थी।

गौरतलब है कि पेरिस में 47 वर्षीय शिक्षक द्वारा क्लास में पैगम्बर मोहम्मद का कार्टून दिखाने के बाद उसके सर को कलम कर दिया गया था। इस घटना के बाद कट्टरपंथी इस्लामवादियों ने गैर मुस्लिमों को मौत के घाट उतारना शुरू कर दिया। इन घटनाओं को देखते हुए फ्रांस सरकार ने कट्टरपंथियों के खिलाफ सख्त बयान जारी किया था। वहीं दूसरी ओर देश में अपूर्वानंद जैसे ‘लिबरल-धर्मनिरपेक्ष’ पहले से ही इन इस्लामिक आतंकवादियों के अपराधों पर लिपा-पोती करने में लगे हैं।

अपूर्वानंद ने ट्वीट कर फ्रांस में कायरतापूर्ण आतंकी हमलों के पीछे के धार्मिक मकसद को नजरअंदाज करने का काम किया है। दरअसल, प्रोफेसर ने इस तथ्य को जानने के बाद भी ऐसे आतंकवादियों का समर्थन किया, जिन्होंने फ्रांस में गैर-मुस्लिमों की हत्या इस्लाम को बदनाम करने के आरोप में की थी।

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर नैतिकता का ढकोसला करने वाले वामपंथी अपूर्वानंद पर हिंदू विरोधी दिल्ली दंगों के ‘मास्टरमाइंड‘ होने का आरोप है।

दिल्ली दंगों के मामले में मुख्य आरोपितों में से एक – गुलफिशा उर्फ ​​गुल, जिसे गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत गिरफ्तार किया गया है, ने दिल्ली पुलिस के सामने स्वीकार किया था कि दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अपूर्वानंद दंगे भड़काने की साजिश के पीछे मास्टरमाइंड थे।

आरोपित गुल ने दावा किया था कि अपूर्वानंद ने एंटी-हिंदू दिल्ली दंगों में आगे से नेतृत्व के लिए बुर्का पहने ख़वातीनों की टीम तैयार की थी। गुलफिशा ने खुलासा किया था कि अपूर्वानंद ने उन्हें अग्रिम दंगों की सूचना दे दी थी। इसके अलावा उन्होंने प्रदर्शन की आड़ में दंगा करने का निर्देश भी दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खुले मंच से हिंदुओं के लिए घृणा, PM मोदी और अमित शाह के लिए बहुत ही गंदी बात: पादरी जॉर्ज पोन्नैया गिरफ्तार

पादरी जॉर्ज पोन्नैया को धार्मिक समूहों के बीच नफरत फैलाने, पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह के खिलाफ टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ्तार कर...

कल्याण सिंह की हालत गंभीर: लेखक आसिफ रेयाज ने कहा – ‘एक विवादित ढाँचा गिरने जा रहा है’

आसिफ रेयाज नाम के व्यक्ति ने कल्याण सिंह के बारे में आपत्तिजनक व संवेदनहीन टिप्पणी करते हुए लिखा, "एक विवादित ढाँचा गिरने जा रहा है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,978FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe