Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजदिल्ली पुलिस को घेर, गालियाँ बकती हमलावर मुस्लिम भीड़: 'पुलिसकर्मी मनोज तोमर और नमाज'...

दिल्ली पुलिस को घेर, गालियाँ बकती हमलावर मुस्लिम भीड़: ‘पुलिसकर्मी मनोज तोमर और नमाज’ मामले से अलग, DP के पक्ष पर लोग उठा रहे सवाल

वायरल वीडियो में दिख रहा है कि सैंकड़ों की भीड़ कुछ पुलिसकर्मियों को घेरकर चल रही है। इनमें कुछ लोग अपने हाथ भी छोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं पीछे से आवाज आ रही है- 'मारो सालों को &^%$ को। बहन के %&^* को मारो... मारो।'

बीते शुक्रवार (8 मार्च 2024) को दिल्ली के इंदरलोक में हुई घटना के बाद एक और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होना शुरू हुई है। इस वीडियो को लेकर कई यूजर्स ने दावा किया कि ये एसआई मनोज कुमार तोमर पर हुए हमले की वीडियो है। वीडियो में दिख रहा है कि सैंकड़ों की भीड़ कुछ पुलिसकर्मियों को घेरकर चल रही है। वहीं पीछे से आवाज आ रही है- ‘मारो सालों को &^%$ को। बहन के %&^* को मारो…’ सोशल मीडिया यूजर्स के हिसाब से ये इस वीडियो में जहाँ एसआई मनोज तोमर और अन्य पुलिसकर्मियों को घेरा जा रहा है, उन्हें गाली दी जा रही है। वहीं डीसीपी नॉर्थ ने इस वीडियो को लेकर किए गए दावों का खंडन किया है।

दरअसल, भीड़ वाली वीडियो शेयर करके लिखा जा रहा था- “कल दिल्ली में एक नमाजी को लात मारने वाले दरोगा मनोज तोमर पर पुलिस की मौजूदगी में हमला।” इसी दावे को नकारते हुए डीसीपी नॉर्थ दिल्ली के आधिकारिक हैंडल से कहा गया कि यह दावा और जानकारी गलत है।

उन्होंने कहा- “यह गलत जानकारी है। बताए गए एसआई इस वीडियो में नहीं है। वीडियो कल (9 मार्च) की नहीं है बल्कि 8 मार्च की है जब प्रदर्शनकारी इंदरलोक में इकट्ठा हुए थे। स्थानीय लोग पुलिस अधिकारियों को बचाते हुए पुलिस पोस्ट तक लेकर गए थे जिसके बाद वहाँ झड़प हुई थी।”

बता दें कि इस वीडियो से संबंधित दी गई पुलिस की जानकारी से नेटिजन्स संतुष्ट नहीं हैं। वो अलग-अलग सवाल उठा रहे हैं। कोई कह रहा है कि इस सफाई के लिए शुक्रिया, लेकिन जिस तरह का माहौल बनाया गया है उसे किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। कोई पूछ रहा है कि अगर इस वीडियो में एसआई नहीं भी हैं तो भी ये घटना जहाँ की है, वहाँ पर कार्रवाई होनी चाहिए। वीडियो को शेयर करके गौर करवाया जा रहा है कि वीडियो में भीड़ कह रही है- “यही है $$££, मारो साले को।”

डीसीपी के ट्वीट के नीचे आई प्रतिक्रिया।

गौरतलब है कि 8 मार्च 2024 को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होना शुरू हुई थी। उस वीडियो में पुलिसकर्मी मनोज तोमर सड़क पर बैठकर नमाज पढ़ने वालों को हटाते दिख रहे थे। इसी दौरान उन्होंने एक नमाजी को पैर मारकर भी हटने को कहा। इसी हरकत की वीडियो बाद में सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। अलग-अलग प्रतिक्रियाएँ आने लगीं। कुछ लोग जहाँ इस वीडियो में नजर आ रहे पुलिकर्मी का विरोध करते दिखे तो वहीं कुछ लोग समर्थन में आ गए। सोशल मीडिया पर #IStandWithManojTomar जैसे हैशटैग ट्रेंड कर रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -