Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजधनतेरस पर ₹75000 करोड़ का बिका सोना, 15 टन गहने-सिक्कों का हुआ कारोबार: वापस...

धनतेरस पर ₹75000 करोड़ का बिका सोना, 15 टन गहने-सिक्कों का हुआ कारोबार: वापस लौटी Gold की चमक

कैट के मुताबिक इसमें दिल्ली में 1,000 करोड़ रुपए, महाराष्ट्र में करीब 1,500 करोड़, उत्तर प्रदेश में करीब 600 करोड़ की अनुमानित बिक्री भी शामिल है। वहीं दक्षिण भारत में, लगभग 2,000 करोड़ रुपए की बिक्री होने का अनुमान है।

धनतेरस पर सोना सस्ता क्या हुआ एक दिन में लोगों ने 15 टन सोना, सोने के आभूषण और सिक्कों के रूप में खरीद डाले और इस तरह से गोल्ड की खोई चमक वापस पाते हुए सोने के आभूषणों और सिक्कों की बिक्री कोविड-पूर्व के स्तर पर पहुँच गई। धनतेरस पर देशभर में लगभग 75,000 करोड़ रुपए की लगभग 15 टन सोने की बिक्री हुई

कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने बताया कि खुशी की बात है कि आभूषण उद्योग कोरोना महामारी की वजह से आयी मंदी से उबर रहा है और सोने की कीमतों में आगे अच्छी बढ़त होने के संकेत हैं।

कैट (CAIT) ने अपने एक बयान में कहा, “धनतेरस पर देशभर में लगभग 75,000 करोड़ रुपए की 15 टन सोने के आभूषणों की बिक्री हुई है।” कैट के मुताबिक इसमें दिल्ली में 1,000 करोड़ रुपए, महाराष्ट्र में करीब 1,500 करोड़, उत्तर प्रदेश में करीब 600 करोड़ की अनुमानित बिक्री भी शामिल है। वहीं दक्षिण भारत में, लगभग 2,000 करोड़ रुपए की बिक्री होने का अनुमान है।

कैट के अनुसार, दुकानों में और ऑनलाइन बिक्री तेज होने के साथ सोने की कीमतों के अगस्त के 57,000 रुपए प्रति 10 ग्राम के रिकॉर्ड स्तर की तुलना में अपेक्षाकृत नरम होने के साथ धनतेरस को खरीदारी में वृद्धि हुई, विशेष रूप से हल्के वाले सोने के आभूषणों की बिक्री में तेजी आई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सोने की कीमत को राष्ट्रीय राजधानी में 46,000-47,000 रुपए प्रति 10 ग्राम (टैक्स को छोड़कर) के दायरे में थीं, जो इस साल अगस्त में 57,000 रुपए से अधिक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गई थी। हालाँकि, सोने की दर अभी भी धनतेरस, 2020 के भाव 39,240 रुपए प्रति 10 ग्राम की तुलना में 17.5 प्रतिशत अधिक है।

गौरतलब है कि आभूषणों की दुकानों में उपभोक्ताओं की बढ़ी हुई भीड़ देखी गई जिससे ऑफलाइन खरीदारी के फिर से बढ़ने का पता चलता है। एक साल पहले की तुलना में दुकान पर जाकर खरीदारी करने वाले उपभोक्ताओं की संख्या में भी 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -