Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजमौत वाली रात 4 लोगों ने दिशा सालियान से रेप किया था: चश्मदीद के...

मौत वाली रात 4 लोगों ने दिशा सालियान से रेप किया था: चश्मदीद के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में दावा

इन दावों से अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की तरह ही दिशा सालियान की मौत का रहस्य दिनोंदिन गहराता जा रहा है। इससे पहले मीडिया रिपोर्टों में फोरेंसिक एक्सपर्ट के हवाले से दिशा के शरीर पर दो तरह के निशान मिलने की बात कही गई थी।

सुशांत सिंह राजपूत की मैनेजर रहीं दिशा सालियान के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट में चश्मदीद के हवाले से दावा किया गया है कि 8 जून की रात दिशा से चार लोगों ने रेप किया था। इस रात उन्होंने अपने घर पर पार्टी रखी थी। बाद में 14वीं मंजिल से गिरने से उसकी मौत हो गई थी।

मुंबई पुलिस ने इसे आत्महत्या बताया था। लेकिन लगातार ऐसे दावे सामने आए हैं जिससे उनकी हत्या किए जाने का शक गहराता जा रहा है। चश्मदीद ने न्यूज नेशन को बताया कि उस रात पार्टी में काफी तेज म्यूजिक था। इसके कारण दिशा सालियान की चीख-पुकार दब गई थी।

चश्मदीद के मुताबिक वह एक एक्टर भी है और मलाड वाले फ्लैट पर उस रात 9 से 9.30 बजे के बीच पहुॅंचा था। उसने बताया कि वह जॉंच एजेंसियों के सामने गवाही देने के लिए भी तैयार है। चश्मदीद के अनुसार दिशा का शव देखने के बाद उसके मंगेतर रोहन राय और उसका दोस्त बांद्रा रेलवे स्टेशन की तरफ भागे और अपने घर जाने वाली पहली ट्रेन पकड़कर चले गए। उसने कहा कि अगर पुलिस चाहे तो रेलवे स्टेशन का सीसीटीवी देख सकती है।

उल्लेखनीय है कि 8 जून की रात मौत होने के बावजूद दिशा का 17 जून तक एक्टिव था। बताया जा रहा है कि उनके फोन से कई इंटरनेट कॉल भी किए गए थे। ऐसे में यह सवाल भी उठ रहा है कि मौत के बाद उनका फोन कौन इस्तेमाल कर रहा था।

इन दावों से अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की तरह ही दिशा सालियान की मौत का रहस्य दिनोंदिन गहराता जा रहा है। इससे पहले मीडिया रिपोर्टों में फोरेंसिक एक्सपर्ट के हवाले से दिशा के शरीर पर दो तरह के निशान मिलने की बात कही गई थी। साथ ही उनके मंगेतर रोहन राय का पता चलने और सीबीआई द्वारा जल्द समन भेजे जाने की बात भी कही जा रही है।

एक फोरेंसिक विशेषज्ञ ने दावा किया था कि दिशा के शव पर दो तरह के चोट के निशान थे। एक गिरने से पहले और दूसरा गिरने के बाद के। रिपब्लिक टीवी पर एक बहस के दौरान फोरेंसिक विशेषज्ञ डॉ. दिनेश राव ने कहा, “दिशा के शव पर चोट के पैटर्न को देखकर मैं इसमें एक अहम जानकारी जोड़ना चाहता हूँ। मैंने निश्चित तौर पर दो तरह की चोट के निशान देखे थे। एक चोट ऊँचाई से गिरने की वजह से आई थी और दूसरी गिरने से पहले की है, जिसकी जाँच होनी चाहिए।”

विशेषज्ञ ने यह भी कहा कि या तो दिशा के साथ मारपीट की गई या उन्हें प्रताड़ित किया गया था। या यह भी ही सकता है कि उन्होंने हमले से बचने की कोशिश की हो जो उनकी मौत की वजह बन गई हो। डॉ. दिनेश राव प्रोफेसर और ऑक्सफोर्ड मेडिकल कॉलेज, अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, बेंगलुरु में फोरेंसिक चिकित्सा विभाग के प्रमुख रहे हैं। वह किंग्स्टन, जमैका में निदेशक और मुख्य फोरेंसिक पैथोलोजिस्ट रहे हैं।

कुछ दिन पहले, भाजपा नेता नितेश राणे ने दिशा सालियान की मौत पर संदेह जताया था। राणे ने कहा था कि दिशा की मौत आत्महत्या नहीं थी और उनके मंगेतर रोहन राय को सामने आकर पूरा सच बताना चाहिए। रिपब्लिक टीवी के अनुसार शीर्ष जॉंच एजेंसियॉं रोहन पर नजर रख रही हैं और वे जॉंच के दायरे में हैं। राणे ने दावा किया था कि उन्होंने दिशा की मौत के 15 दिन बाद रोहन से बात की थी और उन्हें सब पता है कि 8 जून को दिशा की मौत कैसे हुई।

गौरतलब है कि 8 और 9 जून की मध्यरात्रि को मलाड की 14 वीं मंजिल से गिरने की वजह से दिशा की मौत हो गई थी और मुंबई पुलिस ने इसे आत्महत्या करार दिया था। वहीं सुशांत 14 जून को अपने बांद्रा स्थित आवास पर रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाए गए थे। वर्तमान में तीन एजेंसियाँ- सीबीआई, ईडी और एनसीबी दिवंगत अभिनेता की मौत के मामले से संबंधित विभिन्न एंगल की जाँच कर रही हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -