Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजसरकारी बंगलों पर कब्जा जमाए पूर्व MP/MLA/अधिकारियों पर मोदी सरकार के बाद अब दिल्ली...

सरकारी बंगलों पर कब्जा जमाए पूर्व MP/MLA/अधिकारियों पर मोदी सरकार के बाद अब दिल्ली HC सख्त

सरकारी बंगलों पर कब्जा जमाए बैठे पूर्व सांसदों और पूर्व विधायकों के खिलाफ सख्त रुख अपनाते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने एक सप्ताह के भीतर केंद्र सरकार से इनका विवरण माँगा है।

सरकारी बंगलों पर कब्जा जमाए बैठे पूर्व सांसदों और पूर्व विधायकों के खिलाफ सख्त रुख अपनाते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने एक सप्ताह के भीतर केंद्र सरकार से इनका विवरण माँगा है। इसके लिए केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया गया है। इसमें कहा गया है कि जो पूर्व विधायक, पूर्व सांसद या फिर कोई अन्य सरकारी अधिकारी, जो अवैध तरीके से सरकारी बंगले पर कब्जा करके बैठे हुए हैं, केंद्र सरकार उनके नाम और पता बताते हुए एक हलफनामा दायर करे।

बता दें कि जो अधिकारी अभी तक सरकारी बंगले पर कब्जा जमाए बैठे हैं, उनसे अनधिकृत तरीके से रहने के पैसे भी वसूले जाएँगे। चीफ जस्टिस डीएन पटेल और जस्टिस हरि शंकर की डिवीजन बेंच ने केंद्र सरकार से अपने हलफनामा में इस बात का भी जिक्र करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि इसमें सरकार उस बकाया राशि का भी जिक्र करे, जिन्हें सरकारी बंगलों में अनधिकृत तरीके से रहने वाले अधिकारियों से वसूल करना है।

जानकारी के मुताबिक 100 से अधिक ऐसे पूर्व सांसद, पूर्व विधायक और अन्य सरकारी कर्मचारी हैं, जो अपनी सरकारी सेवा समाप्त होने के बाद भी सरकारी बंगलों पर कब्जा जमाए बैठे हैं। हालाँकि अब वो इसके हकदार नहीं हैं, लेकिन फिर भी बार-बार नोटिस दिए जाने के बाद भी वो बंगला खाली नहीं कर रहे हैं।

इसकी वजह से वर्तमान सांसदों को सरकारी आवास नहीं मिल पा रहा है। सरकारी बंगलों और फ्लैटों की अनुपलब्धता के कारण वो बाहर रह रहे हैं। इसको लेकर अदालत के समक्ष एंटी करप्शन काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा एक जनहित याचिका दायर की गई, जिसमें कहा गया कि वर्तमान सांसद, जो फिलहाल बाहर रह रहे हैं, उनकी वर्तमान आवासीय सुविधाओं पर होने वाले विस्तृत खर्च का विवरण देने के लिए सरकार को निर्देश दिए जाएँ।

गौरतलब है कि इससे पहले हाउसिंग कमिटी ने सभी पूर्व सांसदों को सरकारी आवास खाली करने के लिए 7 दिनों की समय-सीमा दी गई थी। सोमवार (19 अगस्त) को संसदीय पैनल ने चेतावनी दी थी कि जो पूर्व सासंद सरकारी आवास खाली करने में आनाकानी कर रहे हैं, उनके आवास में बिजली-पानी की सप्लाई काट दी जाएगी। जिसके बाद पानी और बिजली के कनेक्शन काट दिए जाने के निर्देश के कारण, या यूँ कहें कि डर के कारण सरकारी बंगलों में रहने वाले 50% से अधिक पूर्व सांसदों ने अपना-अपना सरकारी आवास खाली कर दिया था। जिसके बाद उस समय बंगला खाली न करने वाले पूर्व सांसदों की संख्या 109 रह गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe