Thursday, March 4, 2021
Home देश-समाज '41 किसानों की मौत': लौट आया 'नोटबंदी से होने वाली मौत' वाला नैरेटिव किसान...

’41 किसानों की मौत’: लौट आया ‘नोटबंदी से होने वाली मौत’ वाला नैरेटिव किसान आंदोलन में भी

जिस तरह से किसी भी मौत को किसान आंदोलन से जोड़ दिया जा रहा है, ठीक ऐसा ही चलन मीडिया से लेकर राजनीतिक बयानबाजी में नोटबंदी के दौरान भी देखने को मिला था जब किसी भी दुर्घटना के कारण हुई मौत को नोटबंदी से हुई मौत को ठहराया जाने लगा था।

तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन एक महीने से ज्यादा समय से चल रहा है। अपनी माँगों पर अड़े हुए किसान दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों में धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच रविवार (दिसंबर 27, 2020) को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने भी किसान आंदोलनों को अपना समर्थन देते हुए कहा कि ‘हमारे किसान साथियों को 32 दिनों से सर्दी में रहना पड़ रहा है’ और आंदोलन के दौरान हुई 40 किसानों की मौत ने उन्हें बहुत दुःख पहुँचाया है।

किसान आंदोलनों के दौरान हुई किसानों की कथित मौत को लेकर काफी बयानबाजी देखने को मिल रही है। लेकिन क्या किसान आंदोलनों में सामने आ रही किसानों की मौत वास्तव में उनकी माँगों या फिर धरना प्रदर्शन से जुड़ी हुई हैं? लेकिन जिस तरह से किसी भी मौत को किसान आंदोलन से जोड़ दिया जा रहा है, ठीक ऐसा ही चलन मीडिया से लेकर राजनीतिक बयानबाजी में नोटबंदी के दौरान भी देखने को मिला था जब किसी भी दुर्घटना के कारण हुई मौत को नोटबंदी से हुई मौत को ठहराया जाने लगा था। यहाँ तक दावे किए गए कि नोटबंदी की मार से 32 दिन में 100 से अधिक लोगों ने अपनी जान गँवाई। 

बताया जा रहा है कि पंजाब और हरियाणा में 15 सितंबर से अब तक पंजाब के साथ-साथ दिल्ली में 41 किसानों की मौत हो चुकी है। इनमें से 30 मौतें अकेले पंजाब के मालवा बेल्ट से, दोआब बेल्ट से 6, माझा बेल्ट से 2 और हरियाणा से 3 बताई जा रही हैं।

किसानों की जिन मौतों को इस आंदोलन से जोड़कर सामने रखा जा रहा है, उनमें से कई मौत तो वास्तव में किसी व्यक्ति के सल्फास खाने, दुर्घटना का शिकार होने आदि कारणों से हुई हैं। यहाँ तक कि इनमें से कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने कर्ज के चलते कथित तौर पर आत्महत्या की हैं।

हमने सिर्फ जाँचने के लिए सबसे पहले आई कथित तौर पर ‘किसान आंदोलनों से जुड़ी मौतों’ की कुछ खबरों की पड़ताल की, तो पता लग गया कि ये आँकड़ा और कहानियाँ भ्रामक और गुमराह करने वाली हैं। इन लोगों की मौत की वजहों को देखकर उन तमाम मौतों पर संदेह पैदाता है, जिन्हें इस आंदोलन से जोड़कर बताया जा रहा है।

किसान आंदोलनों के कारण होने वाली कथित तौर पर पहली मौत 18 सितंबर को बताई जा रही है। दरअसल, पंजाब के मनसा गाँव के रहने वाले 65 वर्षीय प्रीतम सिंह ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के घर के बाहर धरने पर जानलेवा सल्फास की गोलियाँ खा ली थीं। प्रीतम सिंह के परिवार को सरकार द्वारा 3 लाख रुपए का मुआवजा, एक परिवार के सदस्य को नौकरी और कर्ज माफ़ी के आश्वासन के वायदे के बाद ही मृतक के शरीर का अंतिम संस्कार किया गया।

इन्हीं मौतों में दो महिलाएँ की मौत भी जोड़ी गई हैं। इन महिलाओं में से एक थीं 80 साल की तेज कौर! तेज कौर की मौत बुढलाडा में 8 अक्टूबर को रेलवे ट्रैक पर गिरने से हुई थी। जबकि गुरमेल कौर की मौत बठिंडा में विरोध प्रदर्शन के दौरान दिल का दौरा पड़ने से हुई। ख़ास बात यह है कि रेलवे ट्रैक पर गिरने और दिल का दौरा पड़ने से हुई मौतें भी किसान आंदोलन का हिस्सा बताई जा रही हैं।

26 नवंबर को जब किसान पंजाब से दिल्ली की ओर रवाना हुए तो 27 नवंबर को एक और मौत दर्ज की गई। पंजाब के मनसा गाँव के 45 वर्षीय धन्ना सिंह के ट्रैक्टर के भिवानी के पास एक ट्रक की चपेट में आने से मौत हो गई। उनके परिवार को पंजाब सरकार द्वारा मुआवजे में 5 लाख रुपए दिए गए।

समाचार पत्र ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, कई प्रदर्शनकारियों की मौत दिल्ली में ठंड के कारण भी हुई हैं। जबकि कुछ लोग कोहरे के कारण सड़क दुर्घटनाओं में मारे गए। वहीं, गुरलभ सिंह, जिस पर 6 लाख से अधिक का कर्ज था, की मौत की जाँच पंजाब पुलिस कर रही है और बताया जा रहा है कि उसकी मौत का कारण विषैला पदार्थ खाकर आत्महत्या करना है।

इन लोगों की मौत का वास्तविक कारण सामने रखने का कारण यह भी है कि ठीक ऐसा ही माहौल राजनेताओं द्वारा नोटबंदी के दौरान भी बनाया गया था। ऐसा प्रतीत होता है कि नोटबंदी के समय भी सौ लाशों की गिनती पूरी करने वाले विपक्ष ने जैसे सामान्य मौतों को भी लाइन में खड़े हो कर मरने वाली मौत कह दी थी, वैसे ही कोई भी, कहीं भी आत्महत्या कर रहा है, या फिर ट्रक के टक्कर से दुर्घटनावश मर रहा है, उसे किसान आंदोलन वाले तत्परता से वैसे ही अपना बना रहे हैं जैसे खालिस्तानियों के नेताओं को।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

4 शहर-28 ठिकाने, ₹300 करोड़ का हिसाब नहीं: अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू सहित अन्य पर रेड में टैक्स चोरी के बड़े सबूत

आयकर विभाग की छापेमारी लगातार दूसरे दिन भी जारी रही। बड़े पैमाने पर कर चोरी के सबूत मिलने की बात सामने आ रही है।

किसान आंदोलन राजनीतिक, PM मोदी को हराना मकसद: ‘आन्दोलनजीवी’ योगेंद्र यादव ने कबूली सच्चाई

वे केवल बीजेपी को हराना चाहते हैं और उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं है कि कौन जीतता है। यहाँ तक कि अब्बास सिद्दीकी के बंगाल जीतने पर भी वे खुश हैं। उनका दावा है कि जब तक मोदी और भाजपा को अनिवार्य रूप से सत्ता से बाहर रखा जाता है। तब तक ही सही मायने में लोकतंत्र है।

70 नहीं, अब 107 एकड़ में होंगे रामलला विराजमान: 7285 वर्ग फुट जमीन और खरीदी गई

अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण अब 70 एकड़ की जगह 107 में एकड़ में किया जाएगा। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने परिसर के आसपास की 7,285 वर्ग फुट ज़मीन खरीदी है।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।

100 मदरसे-50 हजार छात्र, गीता-रामायण की करनी ही होगी पढ़ाई: मीडिया के दावों की हकीकत

मीडिया रिपोर्टों में दावा किया जा रहा है कि मदरसों में गीता और रामायण की पढ़ाई को लेकर सरकार दबाव बना रही है।

प्रचलित ख़बरें

BBC के शो में PM नरेंद्र मोदी को माँ की गंदी गाली, अश्लील भाषा का प्रयोग: किसान आंदोलन पर हो रहा था ‘Big Debate’

दिल्ली में चल रहे 'किसान आंदोलन' को लेकर 'BBC एशियन नेटवर्क' के शो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी (माँ की गाली) की गई।

पुलिसकर्मियों ने गर्ल्स हॉस्टल की महिलाओं को नंगा कर नचवाया, वीडियो सामने आने पर जाँच शुरू: महाराष्ट्र विधानसभा में गूँजा मामला

लड़कियों ने बताया कि हॉस्टल कर्मचारियों की मदद से पूछताछ के बहाने कुछ पुलिसकर्मियों और बाहरी लोगों को हॉस्टल में एंट्री दे दी जाती थी।

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

‘हाथ पकड़ 20 मिनट तक आँखें बंद किए बैठे रहे, किस भी किया’: पूर्व DGP के खिलाफ महिला IPS अधिकारी ने दर्ज कराई FIR

कुछ दिनों बाद उनके ससुर के पास फोन कॉल कर दास ने कॉम्प्रोमाइज करने को कहा और दावा किया कि वो पीड़िता के पाँव पर गिरने को भी तैयार हैं।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,284FansLike
81,900FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe