Monday, March 8, 2021
Home देश-समाज महिला डॉक्टर पर गंदे कॉमेंट्स... गेट तोड़ कर हमला की कोशिश: तबलीगी कोरोना मरीजों...

महिला डॉक्टर पर गंदे कॉमेंट्स… गेट तोड़ कर हमला की कोशिश: तबलीगी कोरोना मरीजों का दिल्ली में हंगामा

ऑपइंडिया ने जब लोकनायक अस्पताल में कॉल कर इस घटना से संबंधित जानकारी जुटाई तो मरीजों के तबलीगी जमात से जुड़े होने की बात सामने आई। कोरोना संक्रमण का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने...

दिल्ली के लोकनायक अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए गई महिला डॉक्टर के साथ मरीज ने अभद्रता की और जब एक पुरूष डॉक्टर उन्हें बचाने वहाँ पहुँचा तो मरीजों ने उन पर भी हमला कर दिया। स्थिति को देखते हुए डॉक्टरों ने खुद को ड्यूटी रूम में छिपाया। बाद में उन्होंने इसकी जानकारी सुरक्षाकर्मियों को दी, मगर उनकी गुहार किसी ने नहीं सुनी।

ऑपइंडिया ने जब लोकनायक अस्पताल में कॉल कर इस घटना से संबंधित जानकारी जुटाई तो मरीजों के तबलीगी जमात से जुड़े होने की बात सामने आई। कोरोना संक्रमण के बीच हर स्वास्थ्यकर्मी अपना घर-परिवार सब छोड़कर मरीजों की सेवा में जुझारू रूप से जुटा है। ऐसे में उनके साथ होती अभद्रता बिलकुल भी बर्दाश्त योग्य नहीं है। पिछले दिनों गाजियाबाद समेत कई इलाकों से महिला स्वास्थ्यकर्मियों के साथ हुई बदसलूकी की खबरें आईं और अब मामला राष्ट्रीय राजधानी का है।

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा शेयर की गई जानकारी के अनुसार, इस घटना के संबंध में डॉक्टरों ने लोकनायक अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर को भी पत्र लिखा। जिसमें पूरी घटना का जिक्र करते हुए सिक्यॉरिटी की कमी पर ध्यान आकर्षित कराया गया। पत्र में बताया गया कि कल यानी 14 अप्रैल को सर्जिकल ब्लॉक के वार्ड नंबर 5a में शाम 5:20 पर एक मरीज ने महिला डॉक्टर पर फब्तियाँ कसनी शुरू की और उन पर अभद्र टिप्पणी करने लगा। तभी उनके साथी डॉक्टर ने जब इस पर आपत्ति जताई, तो मरीज इकट्ठा हो गए और डॉक्टरों को धमकाने लगे। ऐसे में जब डॉक्टरों ने खुद को बचाने के लिए ड्यूटी रूम में बंद कर लिया तो मरीजों की भीड़ गेट खुलवाने के लिए उसे तोड़ने पर आतुर हो गई।

इसके बाद इस पत्र में सुरक्षा अभाव पर प्रकाश डालते हुए इस घटना से संबंधित कुछ वाकये बताए गए। उन्होंने लिखा कि ऐसी स्थिति में फँसने के बाद दोनों डॉक्टरों ने दो फ्लोर इंचार्ज को संपर्क किया। मगर, उनका फोन नहीं लगा। ऐसे में उन्हें व्हॉट्सअप से सूचित किया गया। लेकिन घटना जानने के बाद भी वो खुद वहाँ नहीं आए और न ही सुरक्षाकर्मियों को भेजा। उनका कहना है कि फ्लोर इंचार्ज ने उनके कॉल की अनदेखी की और मुश्किल में फँसे डॉक्टर्स को वहीं फँसे रहने दिया। इसके अलावा सीएमओ ने भी उनकी कॉल नहीं उठाई। कुछ सिक्यॉरिटी अधिकारियों ने भी डॉक्टरों का साथ नहीं दिया। सुरक्षा गार्डों ने भी सिक्यॉरिटी अलार्म सुनने के बाद प्रतिक्रिया नहीं दी। वहीं मार्शल व गार्ड्स भी सुरक्षा उपकरण न होने के कारण वार्ड में आने से इंकार कर दिया।

पत्र के माध्यम से शिकायत करते हुए डॉक्टरों ने सभी स्थिति को साफ करते हुए पूछा है कि अगर इस बीच उन्हें कुछ हो जाता, तो इसके लिए कौन जिम्मेदार होता। पत्र में डॉक्टरों ने आरोपित मरीजों पर फौरन एफआईआर की माँग की है। इसके अलावा हथियारों सहित पुलिसकर्मियों की तैनाती की गुहार भी लगाई है। डॉक्टरों ने कैज्युएलटी में तैनात सुरक्षाकर्मियों को निलंबित करने का मुद्दा उठाया है और घटना के समय सर्जिकल वार्ड के बाहर तैनात सुरक्षाकर्मियों के ख़िलाफ़ एक्शन लेने को कहा है। इसके अतिरिक्त दोनों फ्लोर इंचार्ज समेत ड्यूटी पर तैनात सीएमओ से स्पष्टीकरण की माँग की है।

बता दें कि इस घटना से पहले गाजियाबाद से भी स्वास्थ्यकर्मियों के साथ बदसलूकी की खबर आई थी। खुद सीएमओ ने गाजियाबाद कोतवाली में पत्र लिखकर बताया था कि आइसोलेशन वार्ड में रखे गए संभावित कोरोनावायरस तबलीगी जमाती मरीज बिना कपड़े, पैंट के नंगे घूम रहे हैं। यही नहीं, आइसोलेशन में रखे गए जमाती अश्लील वीडियो चलाने के साथ ही नर्सों को गंदे-गंदे इशारे भी कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान: FIR दर्ज कराने गई थी महिला, सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही 3 दिन तक किया रेप

एक महिला खड़ेली थाना में अपने पति के खिलाफ FIR लिखवाने गई थी। वहाँ तैनात सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही उसके साथ रेप किया।

सबसे आगे उत्तर प्रदेश: 20 लाख कोरोना वैक्सीन की डोज लगाने वाला पहला राज्य बना

उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है, जहाँ 20 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन का लाभ मिला है।

रेल इंजनों पर देश की महिला वीरांगनाओं के नाम: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भारतीय रेलवे ने दिया सम्मान

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई, इंदौर की रानी अहिल्याबाई और रामगढ़ की रानी अवंतीबाई इनमें प्रमुख हैं। ऐसे ही दक्षिण भारत में कित्तूर की रानी चिन्नम्मा, शिवगंगा की रानी वेलु नचियार को सम्मान दिया गया।

बुर्का बैन करने के लिए स्विट्जरलैंड तैयार, 51% से अधिक वोटरों का समर्थन: एमनेस्टी और इस्लामी संगठनों ने बताया खतरनाक

स्विट्जरलैंड में हुए रेफेरेंडम में 51% वोटरों ने सार्वजनिक जगहों पर बुर्का और हिजाब पहनने पर प्रतिबंध के पक्ष में वोट दिया है।

BJP पैसे दे तो ले लो… वोट TMC के लिए करो: ‘अकेली महिला ममता बहन’ को मिला शरद पवार का साथ

“मैं आमना-सामना करने के लिए तैयार हूँ। अगर वे (भाजपा) वोट खरीदना चाहते हैं तो पैसे ले लो और वोट टीएमसी के लिए करो।”

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

‘हराम की बोटी’ को काट कर फेंक दो, खतने के बाद लड़कियाँ शादी तक पवित्र रहेंगी: FGM का भयावह सच

खतने के जरिए महिलाएँ पवित्र होती हैं। इससे समुदाय में उनका मान बढ़ता है और ज्यादा कामेच्छा नहीं जगती। - यही वो सोच है, जिसके कारण छोटी बच्चियों के जननांगों के साथ इतनी क्रूर प्रक्रिया अपनाई जाती है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,339FansLike
81,970FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe