Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजजिस विशाल गुप्ता ने नौकरी दी, उसी का 'सर तन से जुदा' करने पहुँच...

जिस विशाल गुप्ता ने नौकरी दी, उसी का ‘सर तन से जुदा’ करने पहुँच गया मुख्तार सुलेमानी: गर्दन में ताबड़तोड़ घोंपा चाकू

विशाल और मुख़्तार सुलेमानी एक ही मोहल्ले में रहते हैं। उन्होंने पुराना परिचय होने की वजह से सुलेमानी को अपने साथ काम करने का अवसर दिया था। मुख़्तार सुलेमानी के पास चाकू कहाँ से आया ये विशाल को नहीं पता। ढाबे के मालिक तौफीक ने शुरुआत में विशाल के इलाज का थोड़ा-बहुत खर्च उठाया। बाद में यह पूरा खर्च पीड़ित के परिजनों ने वहन करना पड़ा।

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले में मुख्तार सुलेमानी ने सिर तन से जुदा करने का प्रयास करते हुए विशाल गुप्ता नाम के व्यक्ति के गर्दन में चाकू घोंप दिया। दूसरे वार से खुद को बचाने के चक्कर में विशाल के हाथ का पंजा कट गया। विशाल आरोपित को ठीक से काम नहीं करने पर नसीहत देता था। इससे वह नाराज था। घटना मंगलवार (14 मई 2024) की है। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है।

यह घटना गाजीपुर के थाना क्षेत्र दिलदारनगर की है। यहाँ 17 मई को विशाल गुप्ता ने पुलिस में तहरीर दी और बताया कि वो गाजीपुर के हुसैनाबाद स्थित प्रधान ढाबा पर कारीगर का काम करते हैं। ढाबे का मालिक का नाम तौफीक है। यहाँ हेल्पर की जरूरत पड़ी तो विशाल ने गाजीपुर के ही मुख़्तार सुलेमानी को काम पर रख लिया। विशाल ने ही 3-4 दिनों तक ढाबे पर ले जाकर काम सिखाया।

ठीक से काम नहीं सीखने पर 14 मई को विशाल ने सुलेमानी को डाँट दिया। उन्होंने कहा कि अगर सुलेमानी ठीक से काम नहीं कर सकता तो बेहतर है कि वो अपने घर लौट जाए। इसके बाद से सुलेमानी ने मन में खुन्नस पाल ली। इसी रात लगभग 11:40 बजे खाना खाकर विशाल सो गया। तभी मुख़्तार सुलेमानी चाकू लेकर वहाँ पहुँचा।

सुलेमानी ने सोते हुए विशाल की गर्दन पर वार कर दिया। पहले वार से हुए घाव के बाद विशाल हड़बड़ा कर उठ गया। तब तक सुलेमानी दूसरा वार करने के लिए तैयार था। पीड़ित ने दूसरे वार से पहले सुलेमानी का चाकू पकड़ लिया। छीना-झपटी में चाकू से विशाल के हाथ का एक पंजा कट गया। तब तक आसपास मौजूद लोग वहाँ पहुँच गए।

विशाल का कहना है कि लोगों को आता देखकर मुख़्तार सुलेमानी वहाँ से भाग निकला। आनन-फानन में विशाल को स्थानीय अस्पताल पहुँचाया गया। हालात गंभीर देखकर डॉक्टरों ने विशाल को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। काफी खून बह जाने की वजह से विशाल की हालत गंभीर हो गई थी। डॉक्टरों ने ट्रॉमा सेंटर में विशाल का इलाज किया।

इसी ढाबे पर सुबैव खान और राजा आदि भी काम करते थे। इन्होंने विशाल को अस्पताल पहुँचाने में मदद की, लेकिन पुलिस को किसी ने सूचना नहीं दी। 17 मई को सेहत में थोड़ा सुधार होने के बाद विशाल ने खुद ही पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। पीड़िता ने मुख़्तार सुलेमानी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की माँग की है। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ IPC की धारा 307 के तहत FIR दर्ज की है।

गाजीपुर बजरंग दल पदाधिकारी अविनाश चौबे ने पुलिस से आरोपितों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की माँग की है। रविवार (19 मई 2024) को पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है। ऑपइंडिया ने पीड़ित विशाल से बात की। बड़ी मुश्किल से बोले गए कुछ शब्दों में विशाल ने बताया कि अब वो तौफीक के ढाबे पर काम नहीं करेंगे।

विशाल और मुख़्तार सुलेमानी एक ही मोहल्ले में रहते हैं। उन्होंने पुराना परिचय होने की वजह से सुलेमानी को अपने साथ काम करने का अवसर दिया था। मुख़्तार सुलेमानी के पास चाकू कहाँ से आया ये विशाल को नहीं पता। ढाबे के मालिक तौफीक ने शुरुआत में विशाल के इलाज का थोड़ा-बहुत खर्च उठाया। बाद में यह पूरा खर्च पीड़ित के परिजनों ने वहन करना पड़ा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

NEET पर जिस आयुषी पटेल के दावों को प्रियंका गाँधी ने दी हवा, उसके खुद के दस्तावेज फर्जी: कहा था- NTA ने रिजल्ट नहीं...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में झूठी साबित होने के बाद आयुषी पटेल ने अपनी याचिका भी वापस लेने का अनुरोध किया। कोर्ट ने NTA को छूट दी है कि वह आयुषी पटेल के खिलाफ नियमानुसार एक्शन ले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -