Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजअब जागो, हथियार उठाओ और अपने घर से बाहर आओ: भुज की मस्जिद से...

अब जागो, हथियार उठाओ और अपने घर से बाहर आओ: भुज की मस्जिद से देर रात अजान

अजान देने वाले ने कथित तौर पर कहा, "मैं कच्छ का राजा हूँ। मुस्लिमों को जाग जाना चाहिए और हथियार उठाकर अपने घरों से बाहर आना चाहिए।" आरोपित को गिरफ्तार कर पुलिस मामले की जॉंच कर रही है।

गुजरात के भुज में एक मस्जिद से देर रात को अजान दी गई। समुदाय विशेष से हथियार उठाकर घर से निकलने की अपील की गई। संदेश में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार घटना भुज के कोकड़ी रोड स्थित बाकली कॉलोनी की है। यहॉं मस्जिद से बेवक्त अजान देकर अपील की गई, “मुस्लिमों अब जागो, हथियार उठाओ और अपने घर से बाहर आओ।”

पुलिस ने कथित तौर पर अजान देने वाले शख्स को गिरफ्तार कर लिया है। मामले में आगे की जाँच की जा रही है। अब्दुल्ला लुहार कथित तौर इमाम-ए-रब्बानी नामक मस्जिद में देर रात करीब 2:30 बजे घुस गया और लाउडस्पीकर से असमय अजान दी।

बेवक्त के अजान से जाहिर होता है कि सांप्रदायिकता विद्वेष फैलाने के इरादे से ऐसा किया गया है। आरोपी ने लाउडस्पीकर से भड़काऊ ऐलान किए। कथित तौर पर उसने घोषणा की, “मैं कच्छ का राजा हूँ। मुस्लिमों को जाग जाना चाहिए और हथियार उठाकर अपने घरों से बाहर आना चाहिए।” इसकी जानकारी मिलते ही पुलिस हरकत में आ गई और मौके पर पहुँच गई।

लॉकडाउन के कारण जमावड़े पर है प्रतिबंध

यहाँ यह बताना बेहद जरूरी है कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी लॉकडाउन में किसी भी स्थान पर लोगों का एकत्र होना प्रतिबंधित है। धार्मिक स्थलों पर भी जुटान की मनाही है।

कई राज्यों में स्थानीय प्रशासन कोरोना के प्रति समुदाय विशेष में जागरुकता फैलाने के लिए मस्जिद के मौलवियों और इमामों के साथ समन्वय बनाए हुए हैं। ऐसी स्थिति में बिना समय के अजान देना सांप्रदायिक हिंसा को भड़का सकता है।

मस्जिदों से हिंसा फैलाने की कुछ पिछली घटनाएँ

पिछले महीने बेंगलुरु में आशा कार्यकर्ताओं और नर्सों के एक समूह पर कोरोना वायरस के हॉटस्पॉट सादिक लेआउट क्षेत्र में स्थानीय लोगों द्वारा हमला किया गया था। स्वास्थ्यकर्मियों ने बताया था कि पॉजिटिव केस मिलने के बाद वे इलाके में सैंपल लेने गए थे। उसी समय स्थानीय लोगों की भीड़ ने उन पर हमला किया और उन्हें पीटा। उन्होंने आरोप लगाया था कि उन्हें पीटने के लिए स्थानीय मस्जिद से आह्वान किया गया था।

28 अप्रैल को गुजरात के वडोदरा में कसम आला मस्जिद क्षेत्र के पास सेहरी के बाद एक पुलिस टीम पर स्थानीय लोगों द्वारा हमला किया गया था। जब पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो कथित तौर पर मुख्य आरोपित नजीर और उसके सहयोगियों की एक भीड़ उन पर हमला कर दिया।

कुछ इसी तरह 27 अप्रैल को औरंगाबाद में लॉकडाउन का पालन कराने और मस्जिद में इबादत के लिए इकट्ठा हो रही भीड़ को रोकने के लिए जब पुलिस की टीम मौके पर पहुँची तो महिलाओं सहित भीड़ ने हमला कर दिया।

वहीं 2 अप्रैल को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में लोगों की भीड़ ने पुलिस को घेरकर उन पर पत्थर बरसाए थे। यह घटना उस समय घटित हुई कि जब पुलिस सराय रहमान क्षेत्र की एक मस्जिद में सामूहिक नमाज को रोकने के लिए गई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -