Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाज32 साल की बेटी के अब्बू अख्तर ने मुकेश बनकर 22 वर्षीय हिंदू लड़की...

32 साल की बेटी के अब्बू अख्तर ने मुकेश बनकर 22 वर्षीय हिंदू लड़की को फँसाया: शादी के बाद अब इस्लाम कबूलने का बना रहा दबाव

मामले का खुलासा होने के बाद युवती ने उसका विरोध किया। इसके बाद से ही अख्तर ने उस पर धर्म परिवर्तन कर इस्लाम अपनाने, बुर्का पहनने और नमाज पढ़ने के लिए प्रताड़ित करने लगा। अख्तर उसके बेटे का भी धर्मान्तरण कराना चाहता था।

गुजरात के सूरत जिले में लव जिहाद का मामला सामने आया है, जिसमें 51 साल के शेख मोहम्मद अख्तर ने 22 साल की एक हिंदू लड़की से नाम बदलकर पहले दोस्ती की और फिर उससे शादी कर ली। बाद में उसे इस्लामिक रीति-रिवाजों के अनुसार बुर्का पहनने और नमाज पढ़ने के लिए दबाव बनाने लगा। जब लड़की ने ऐसा नहीं किया तो उसे प्रताड़ित करना शुरू कर दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपित अख्तर युवती से एक कंपनी में मिला था। उसने हिंदू युवती को अपने जाल में फंसाने के लिए उसे मुकेश के नाम से अपना परिचय दिया था और युवती से झूठ बोला कि वह रेलवे में काम करता है। धीरे-धीरे दोनों करीब आते चले गए और वर्ष 2019 में दोनों ने हिंदू रीति-रिवाज से शादी कर ली। समय बीतने के साथ युवती को एक बच्चा भी हुआ। एक दिन अख्तर की हरकतों पर लड़की को शक हुआ तो उसने आरोपित की आईडी चेक की। इसके बाद उसकी असलियत का खुलासा हुआ।

मामले का खुलासा होने के बाद युवती ने उसका विरोध किया। इसके बाद से ही अख्तर ने उस पर धर्म परिवर्तन कर इस्लाम अपनाने, बुर्का पहनने और नमाज पढ़ने के लिए प्रताड़ित करने लगा। पीड़िता ने अपनी आपबीती में पुलिस को बताया है कि अख्तर उसके बेटे का भी धर्मान्तरण कराना चाहता है। पुलिस ने बताया कि आरोपित ने पीड़िता की रेलवे में नौकरी लगवाने के नाम पर उससे और उसके मायके वालों से 14 लाख रुपए भी ऐंठ लिए।

इस मामले में पीड़िता ने डिंडोली पुलिस थाने में संपर्क किया और अपनी आपबीती पुलिस को बताई। पुलिस ने पहले तो रिपोर्ट लिखने में आनाकानी की, लेकिन बाद में दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज करने के लिए तैयार हो गई। पीड़िता मामले को हाल ही में बने लव जिहाद कानून के तहत दर्ज करवाना चाहती थी, लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया।

इसके बाद पीड़िता ने हिंदू जागरण मंच से संपर्क किया। हिंदू जागरण मंच ने इस मामले में पुलिस के खिलाफ 28 घंटों तक प्रदर्शन किया। उसके बाद पुलिस ने मामले को लव जिहाद विरोधी कानून के तहत पंजीकृत किया।

पहले से है शादीशुदा आरोपित

रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपित अख्तर (51) का पहले ही निकाह हो चुका था और उसकी एक 32 साल की एक बेटी भी है। इतना ही नहीं उसकी बेटी की संतान भी है। वहीं, शहर के पुलिस कमिश्नर अजय तोमर इस केस की जाँच कर रहे हैं। उन्होंने कहा है कि मामले में पुलिस की भूमिका की भी जाँचने की जरूरत है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -