Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजसंतोष जब हो गया अनाथ... तो उसे बना दिया गया अब्दुल्ला: अब सगे हिंदू...

संतोष जब हो गया अनाथ… तो उसे बना दिया गया अब्दुल्ला: अब सगे हिंदू भाइयों को गुंडों से मरवाने की चाहत

16 साल का नाबालिग संतोष घर से काम के लिए निकला तो वापस नहीं लौटा। माता-पिता का देहांत भी हो चुका था। 7-8 साल बाद खुद को अब्दुल्ला बताया। जब सगे भाइयों ने घरवापसी का प्रयास किया तो गुंडों से उन्हें मरवाना चाहा।

देश में इस्लामिक धर्मान्तरण की एक के बाद एक खबर आ रही है। अब गुजरात से भी धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है। राज्य के सूरत शहर स्थित आजाद नगर का रहने वाला संतोष पंढारे धर्मान्तरण कर अब्दुल्ला बन गया है। इस मामले की जानकारी मिलते ही उसके बड़े भाइयों ने उसे वापस लाने की कोशिश की लेकिन वो नाकाम रहे।

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक, सूरत का रहने वाला संतोष धर्मान्तरण का शिकार हो गया है। वह आजाद नगर में अपने दो बड़े भाइयों के साथ रहता था। तीनों के माता-पिता का बेचपन में देहांत हो गया था। अनाथ होने के बाद तीनों का जीवन गरीबी में कट रहा था। वर्ष 2013 में एक दिन 16 वर्षीय नाबालिग संतोष (अब अब्दुल्ला) घर से काम की तलाश में निकला तो वापस नहीं लौटा।

उसके भाइयों ने उसे काफी ढूँढा, लेकिन वो नहीं मिला। करीब 7-8 साल बीतने के बाद एक दिन वह अपने भाइयों के माोबाइल पर फोन करता है और अपने बारे में बताता है। फोन पर बात होने के बाद उसके भाइयों राजेश और दिनेश ने उसे सूरत वापस लाने की काफी कोशिश की, लेकिन वो उसमें सफल नहीं हुए।

संतोष के भाई राजेश के मुताबिक, उस दौरान वो नाबालिग था, इसलिए उसे पहला-फुसला कर कुछ लोग अपने साथ ले गए और धर्मान्तरण करवा दिया। उसने ये भी बताया कि दो साल पहले उसे सूरत लाया गया था, जहाँ उसने अपने ही भाइयों को मारने के लिए गुंडे बुलाए थे। हालाँकि, एक दिन अचानक से वो गायब हो गया था।

संतोष के भाइयों के मुताबिक, उन्होंने बजरंग दल के देवी प्रसाद दुबे से मदद माँगी थी। इसके अलावा सूरत के तत्कालीन कमिश्नर सतीश शर्मा ने मामले में संज्ञान लिया था। जिसके बाद क्राइम ब्राँच की टीम उसे सूरत वापस लाई थी। फिलहाल वो उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में कहीं रह रहा है।

इस्लामिक धर्मान्तरण

गौरतलब है कि रविवार (27 जून 2021) को उत्तर प्रदेश की फिरोजाबाद पुलिस ने गुजरात की 15 साल की नाबालिग लड़की से रेप और धर्मांतरण के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था।

इससे पहले उत्तर प्रदेश एटीएस ने गाजियाबाद मोहम्मद उमर गौतम और मौलाना जहांगीर काजी कासमी को धर्मान्तरण के मामले में गिरफ्तार किया था। इन्होंने कबूल किया था कि आरोपितों ने अब तक 1000 से ज्यादा लोगों के धर्मान्तरण कराए हैं। दिल्ली के जामिया नगर में इस्लामिक सेंटर से ये रैकेट चला रहे थे।

इसके अलावा जम्मू कश्मीर में सिख लड़कियों के जबरन धर्मान्तरण के मामले के बाद भी उत्तर प्रदेश में भी सिख धर्मान्तरण का मामला सामने आया। इन मामलों के सामने आने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कड़े एक्शन लेने की बात कही थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe