Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजअयोध्या पर फैसले के बाद उत्तराखंड के CM को धमकी भरा कॉल, कहा- उड़ा...

अयोध्या पर फैसले के बाद उत्तराखंड के CM को धमकी भरा कॉल, कहा- उड़ा दूॅंगा ‘हर की पौड़ी घाट’

9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट द्वारा रामजन्मभूमि का फैसला सुनाए जाने के कुछ ही घंटों बाद दोपहर लगभग 3:30 बजे, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को उनके मोबाइल फोन पर एक गुमनाम कॉल आया, जिसमें हर की पौड़ी घाट को बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी।

हरिद्वार में ‘हर की पौड़ी घाट’ को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले एक शख़्स को उत्तराखंड पुलिस ने सोमवार (11 नवंबर) को गिरफ़्तार कर लिया है। आरोपित को उसी जगह से गिरफ़्तार किया गया था, जहाँ से उसने धमकी दी थी। फ़िलहाल, उससे पूछताछ की जा रही है।

जानकारी के मुताबिक़, 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट द्वारा रामजन्मभूमि का फैसला सुनाए जाने के कुछ ही घंटों बाद दोपहर लगभग 3:30 बजे, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को उनके मोबाइल फोन पर एक गुमनाम कॉल आया, जिसमें हर की पौड़ी घाट को बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी।

यह कॉल सीएम के प्रोटोकॉल अधिकारी आनंद सिंह रावत के पास आई थी। इस धमकी भरे कॉल के बाद, इलाके की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। बस स्टॉप और रेलवे स्टेशनों के आसपास की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है।

बता दें कि हरिद्वार में हरि कि पौड़ी नाम का एक घाट है, जिसमें रोजाना लाखों की संख्या में श्रद्धालु स्नान करने आते हैं। इस धमकी भरी कॉल के बाद प्रशासन ने घाट में सुरक्षा-व्यवस्था बढ़ा दी है और आने-जाने वालों पर लगातार कड़ी निगरानी रखी जा रही है। इस समय उत्तराखंड में राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर कई जगहों पर कार्यक्रम भी आयोजित किए जा रहे हैं ऐसे में धमकी भरी कॉल से पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -