Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजजॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वैक्सीन को भारत में इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए...

जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वैक्सीन को भारत में इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मिली मंजूरी: स्वास्थ्य मंत्री ने दी जानकारी

जॉनसन एंड जॉनसन के अलावा देश में पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड, हैदराबाद के भारत बायोटेक की कोवैक्सिन, रूस की स्पूतनिक-V और ब्रिटेन की मॉडर्ना की वैक्सीन भी शामिल है। हालाँकि, जॉनसन एंड जॉनसन में खास बात यह है कि यह वैक्सीन सिंगल डोज वैक्सीन है।

कोरोना की तीसरी लहर से पहले अच्छी खबर सामने आई है। मोदी सरकार ने अमेरिकी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वैक्सीन के इमजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने सोशल मीडिया पर यह जानकारी साझा की है। मनसुख मंडाविया ने शनिवार (7 अगस्त) को ट्वीट किया, ”भारत ने अपनी वैक्सीन बास्केट का विस्तार कर लिया है। जॉनसन एंड जॉनसन को भारत में इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिल गई है। अब तक भारत में 5 वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है।” उन्होंने कहा कि इससे कोरोना के खिलाफ हमारे देश की जंग को बढ़ावा मिलेगा।

वहीं मंजूरी मिलने के बाद जॉनसन एंड जॉनसन इंडिया के प्रवक्ता ने भी खुशी जताई है। उन्होंने कहा कि हमें यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि 7 अगस्त 2021 को, भारत सरकार ने जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी। इससे अब 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों में कोरोना संक्रमण को तेजी से रोका जा सकेगा।  

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जॉनसन एंड जॉनसन की एक डोज में ही काम हो सकेगा और वैक्सीन को फ्रीज करने की भी जरूरत नहीं होगी। दरअसल, अमेरिका की कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ऐसे फॉर्मूले का इस्तेमाल कर रही है, जिसका दूसरी बीमारियों से लड़ने में बेहतरीन रिकॉर्ड रहा है। जॉनसन एंड जॉनसन जिस वैक्सीन का निर्माण कर रही है, उसे अस्पताल भेजे जाने तक फ्रीजर में रखने की भी जरूरत नहीं होगी।

बता दें कि जॉनसन एंड जॉनसन के अलावा देश में पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड, हैदराबाद के भारत बायोटेक की कोवैक्सिन, रूस की स्पूतनिक-V और ब्रिटेन की मॉडर्ना की वैक्सीन भी शामिल है। हालाँकि, जॉनसन एंड जॉनसन में खास बात यह है कि यह वैक्सीन सिंगल डोज वैक्सीन है। यानी कोरोना के खिलाफ इसकी एक ही डोज काफी होगी। वहीं, इससे पहले भारत में अब तक जितनी भी वैक्सीन इस्तेमाल में लाई जा रही हैं, वे सभी डबल डोज हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe