Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजयूपी पुलिस के खौफ से भगोड़े हिस्ट्रीशीटर बशीरुद्दीन ने खुद हाथ जोड़े थाने पहुँच...

यूपी पुलिस के खौफ से भगोड़े हिस्ट्रीशीटर बशीरुद्दीन ने खुद हाथ जोड़े थाने पहुँच किया सरेंडर, अपराध से की तौबा

"मुजफ्फरनगर के कुख्यात बशीरूद्दीन को देख बाहुबली भी हाथ जोड़ लेते थे, पर पुलिस के ख़ौफ़ से भागे बशीरुद्दीन ने खुद हाथ जोड़े थाने पहुँच सरेंडर कर दिया, ये है नया यूपी।"

उत्तर प्रदेश में एनकाउंटर के खौफ से अब तक सैकड़ों अपराधी अपराध से तौबा कर पुलिस के समक्ष आत्मससमर्पण कर चुके हैं। मेरठ, बागपत के बाद सोमवार  (अक्टूबर 25, 2021) को मुजफ्फरनगर में एक हिस्ट्रीशीटर ने अपराध से तौबा कर पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। हिस्ट्रीशीटर हाथ जोड़कर थाने पहुँचा और भविष्य में अपराध न करने की कसम खाई। कोतवाली में जाते हुए उसका वीडियो भी सामने आया है।

शहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक आनंद देव मिश्रा ने बताया कि एसएसपी के आदेश पर अपराधियों की धर-पकड़ के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। पुलिस की कार्रवाई से डर कर खालापार निवासी गैंगस्टर बशीरुद्दीन ने शहर कोतवाली पहुँच कर सरेंडर कर दिया। उस पर चोरी और चोरी का माल ठिकाने लगाने के कई मुकदमे दर्ज हैं।

मुजफ्फरनगर पुलिस ने इसकी जानकारी देते हुए ट्वीट किया, “गैंगस्टर के अभियोग में वांछित अभियुक्त ने थाने पहुँच कर किया आत्मसमर्पण। शातिर अभियुक्त द्वारा कार्यवाही के डर से थाना कोतवाली नगर पहुँच कर आत्मसमर्पण किया गया। अभियुक्त थाना कोतवाली नगर से गैंगस्टर के अभियोग में वांछित अपराधी है।”

वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने इसका वीडियो शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा, “मुजफ्फरनगर के कुख्यात बशीरूद्दीन को देख बाहुबली भी हाथ जोड़ लेते थे, पर पुलिस के ख़ौफ़ से भागे बशीरुद्दीन ने खुद हाथ जोड़े थाने पहुँच सरेंडर कर दिया, ये है नया यूपी।”

मुठभेड़ में मारे जाने के डर से किया सरेंडर

बदमाशों को जेल की सलाखों के पीछे भेजने के लिए पुलिस सख्त कार्रवाई कर रही है। ऐसे में पुलिस की गोली से बचने के लिए बशीरुद्दीन ने सरेंडर करना ही सही समझा। पुलिस कार्रवाई के डर ने उसे सरेंडर करने के लिए मजबूर कर दिया।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पुलिस से डर कर 5 अपराधियों ने सरेंडर कर दिया था। यह सभी आरोपित हत्या का प्रयास और लूट सहित कई संगीन मामलों में फरार चल रहे थे। लंबे समय से फरार चल रहे इन अपराधियों के खिलाफ पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट लगाया था। इन अपराधियों पर बलवा, हत्या का प्रयास व लूट सहित कई मामले दर्ज थे। गैंगस्टर एक्ट लगाने के बाद इन अपराधियों को योगी की पुलिस से जान का खतरा सताने लगा था। पुलिस एनकाउंटर में जान जाने के डर से पाँचों अपराधियों ने शामली पुलिस के आगे सरेंडर कर दिया।

कैराना कोतवाली के एसएचओ प्रेमवीर राणा ने कहा कि आरोपित हाथ उठाकर थाने आए थे। पुलिस के सामने आने से पहले अपराधियों ने कहा कि वे सभी आपराधिक गतिविधियों को छोड़ना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने आत्मसमर्पण करने का फैसला किया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe