Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजतीन तलाक से परेशान शगुफ्ता ने कोर्ट के बाहर पकड़ा ससुर का कॉलर, फिर...

तीन तलाक से परेशान शगुफ्ता ने कोर्ट के बाहर पकड़ा ससुर का कॉलर, फिर चप्पल से कर दिया मुँह लाल

शगुफ्ता परवीन के निकाह के बाद उसकी दो बेटियाँ हुईं। जिसके बाद शौहर अली अख्तर विदेश कमाने चला गया। जब वापस आया तो उसने शगुफ्ता को तीन तलाक देकर दूसरी लड़की आफरीन से निकाह कर लिया। शगुफ्ता पिछले 9 साल से अपनी बेटियों के साथ न्याय के लिए दर-दर भटक रही है।

बिहार के गोपालगंज कोर्ट के परिसर के बाहर बुधवार को एक बहुत ही चौंकाने वाली घटना हुई। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो यहाँ तीन तलाक से पीड़ित एक महिला ने अपने ससुर का पहले कॉलर पकड़कर पति के बारे पूछा और जवाब न मिलने पर उसने अपने ससुर की चप्पल से पिटाई कर दी।

इस घटना से लोग सकते में आ गए। बाद में स्थानीय दुकानदारों की मदद से मसले को सुलझाया। इस दौरान पीड़ित महिला बार-बार तलाक देने और अपने बच्चियों के जीवन यापन के लिए पैसा नहीं देने का आरोप उनपर लगाती रही।

जानकारी के मुताबिक महिला का नाम शगुफ्ता परवीन है। वह बरौली के सरेया नरेंद्र गाँव की निवासी है। 14 मार्च 2007 में उसका निकाह कुचायकोट के बली खरेया निवासी अली अख्तर से हुआ था। निकाह के बाद उसकी दो बेटियाँ हुईं। जिसके बाद अली अख्तर विदेश कमाने चला गया। जब वापस आया 2010 में तो उसने शगुफ्ता को तीन तलाक देकर दूसरी लड़की आफरीन से निकाह कर लिया। जिसके बाद इस मामले के मद्देनदर न्यायालय में प्रताड़ना का मुकदमा चला। इसमें कोर्ट ने पीड़ित महिला को गुजाराभत्ता के नाम पर 2000 रुपए महीना देने के लिए निर्देश दिए। शगुफ्ता पिछले 9 साल से अपनी बेटियों के साथ न्याय के लिए दर-दर भटक रही है।

लेकिन महिला का कहना है कि उसे आजतक कोई पैसा नहीं मिला। न ही उसकी अपनी पति से मुलाकात हुई। उसने बहुत परेशान होकर अपने ससुर से अपने पति के बारे में पूछा और जब ससुर ने जवाब देने में आना-कानी की, तो उसने गुस्से में आकर उसकी चप्पल से पिटाई कर दी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe