Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजहिन्दू बहुल इलाके में ख्वाजा गरीब नवाज मस्जिद, बिहार से आए इमाम ने भीड़...

हिन्दू बहुल इलाके में ख्वाजा गरीब नवाज मस्जिद, बिहार से आए इमाम ने भीड़ जुटा कर सड़क पर पढ़वाई नमाज़: गाजियाबाद पुलिस ने दर्ज की FIR

यह मामला खोड़ा थाना क्षेत्र का है। पुलिस में हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता विकास तिवारी द्वारा शिकायत दर्ज करवाई गई है। विकास के मुताबिक, हिन्दू बहुल दीपक विहार इलाके में 50 गज के दायरे में एक मस्जिद है।

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में मुस्लिम भीड़ द्वारा सड़क पर नमाज़ पढ़ने का मामला सामने आया है। वीडियो वायरल होने के बाद हिन्दू संगठनों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने इमाम मोहम्मद नाज़िर हुसैन और अज्ञात नमाज़ियों के खिलाफ FIR दर्ज करते हुए मामले की जाँच शुरू कर दी है। पुलिस फुटेज के आधार पर बाकी नमाज़ियों की पहचान कर रही है। शिकायत में इलाके को हिन्दू बहुल बताया गया है। मामला शुक्रवार (4 नवम्बर 2022) का है।

यह मामला खोड़ा थाना क्षेत्र का है। पुलिस में हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता विकास तिवारी द्वारा शिकायत दर्ज करवाई गई है। विकास के मुताबिक, हिन्दू बहुल दीपक विहार इलाके में 50 गज के दायरे में एक मस्जिद है। यहाँ 300 गज की सड़क पर पहले से नमाज़ पढ़ी जाती रही है। शिकायतकर्ता ने पहले भी की गई शिकायतों का हवाला देते हुए प्रशासन ने नमाज़ियों पर कड़ी कार्रवाई की माँग की। उन्होंने लिखा कि सख्ती होने पर बीच-बीच में नमाज़ बंद हो जाती है, लेकिन थोड़े समय बाद वो फिर से शुरू कर दी जाती है।

विकास ने 5 नवंबर, 2022 को सोशल मीडिया पर पुलिस को टैग करते हुए नमाज़ का वीडियो भी शेयर किया था। मामले की जाँच नेहरू गार्डन चौकी इंचार्ज ने की। अपनी जाँच में उन्होंने पाया कि जहाँ नमाज़ पढ़ी गई, वहाँ ख्वाजा गरीब नवाज़ नाम की मस्जिद है। इस मस्जिद में मूल रूप से बिहार के कटिहार का रहने वाला इमाम मोहम्मद नाज़िर हुसैन रहता है। नाजिर के अब्बा का नाम मोहम्मद फज़लुल रहमान है। उसी के द्वारा लगभग 25 से 30 लोगों को गली में जमा कर के नमाज़ पढ़वाई गई थी। पुलिस ने इमाम की हरकत को इलाके में लगी धारा 144 का उल्लंघन माना है।

विकास की शिकायत पर पुलिस ने IPC की धारा 188 के तहत केस दर्ज किया है। इस केस में इमाम नाज़िर को नामजद करते हुए 25 से 30 नमाज़ियों को अज्ञात में दिखाया गया है। ऑपइंडिया के पास मामले में दर्ज FIR मौजूद है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -