Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाजQS वर्ल्ड रैंकिंग में भारत ने चीन को पछाड़ा: एशिया के टॉप 10 में...

QS वर्ल्ड रैंकिंग में भारत ने चीन को पछाड़ा: एशिया के टॉप 10 में 7 भारतीय संस्थान, 37 नए यूनिवर्सिटी की एंट्री

QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में भारत के 148 संस्थानों ने जगह बनाई है। इसी के साथ भारत ने चीन को पीछे छोड़ दिया है। यह रैंकिंग एशिया के संस्थानों के लिए जारी की गई है, जिसमें भारत के बाद चीन और जापान का स्थान है। इसमें भारत के कई संस्थानों ने अपने पूर्व की रैंकिंग में भी सुधार किया है।

QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में भारत के 148 संस्थानों ने जगह बनाई है। इसी के साथ भारत ने चीन को पीछे छोड़ दिया है। यह रैंकिंग एशिया के संस्थानों के लिए जारी की गई है। इसमें भारत के बाद चीन और जापान का स्थान है। पिछली बार की तुलना में इस बार भारत के 37 और शिक्षण संस्थान इसमें शामिल किए गए हैं।

बीते वर्ष इस QS वर्ल्ड रैंकिंग में भारत के 111 शिक्षण संस्थान शामिल थे, जो कि इस बार बढ़कर 148 हो गए। QS की इस रैंकिंग में IIT दिल्ली और IIT मुंबई शीर्ष 50 में जगह बनाने में सफल रही हैं। वहीं, IIT मद्रास, IIT कानपुर और IISc बैंगलोर सहित पाँच अन्य संस्थान शीर्ष 100 में शामिल हैं।

इस रैंकिंग में कुल 25 देशों के 856 यूनिवर्सिटी को शामिल किया गया है। यह रैंकिंग पूरी दुनिया में उच्च शिक्षण संस्थानों की गुणवत्ता, उनमें हो रहे शोध, छात्रों में उनकी माँग और शिक्षा-जगत में उनके प्रदर्शन को आधार बनाकर तैयार की जाती है। इसे Topuniversities.com नाम की एक वेबसाइट द्वारा हर साल प्रकाशित किया जाता है।

यह रैंकिंग पूरी दुनिया के पाँच हिस्सों – एशिया, लैटिन अमेरिका, इमर्जिंग यूरोप, मध्य एशिया और अरब क्षेत्र के अतिरिक्त BRICS देशों के लिए जारी की जाती है। वर्तमान रैंकिंग, जिसमें भारत शीर्ष पर है, एशिया के लिए है। इस बार की रैंकिंग में चीन के कुल 133 यूनिवर्सिटी और जापान के 96 यूनिवर्सिटी शामिल हुए हैं।

इस रैंकिंग में ना सिर्फ भारत के अधिक संस्थानों ने जगह बनाई है, बल्कि उनकी पिछले वर्ष की रैंकिंग में भी सुधार हुआ है। भारत के कुल 21 संस्थानों ने अपनी रैंकिंग में सुधार किया है। वहीं, 15 यूनिवर्सिटी की रैंकिंग में कोई बदलाव नहीं हुआ है। IIT मुंबई, IIT दिल्ली और IIT मद्रास क्रमशः 40 और 46 तथा 53 की रैंकिंग के साथ पूर्ववत हैं।

वहीं, IISc बैंगलोर अब 58 से 52 और IIT खड़गपुर 61 से 59वें स्थान पर पहुँच गया है। IIT कानपुर की रैंकिंग 66 से 63 हो गई है। सबसे बड़ी छलांग IIT गुवाहाटी ने मारी है, जो कि 124 से सीधे 111वें स्थान पर पहुँच गई है। वहीं, जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी 119 से 117वें स्थान पर पहुँच गया है।

भारत के लगातार बढ़ते संस्थानों की संख्या प्रदर्शित कर रही है कि देश में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में बीते वर्षों में काफी सुधार हुआ है। वर्ष 2014 में इस रैंकिंग में भारत के मात्र 16 संस्थान शामिल थे। अब 9 वर्षों के बाद यह संख्या लगभग 10 गुनी हो गई है। हालाँकि, वैश्विक रैंकिंग में अभी भी भारत के संस्थान पिछड़ रहे हैं।

भारत अनुसंधान के क्षेत्र में असाधारण रुप से आगे आया है। प्रति संकाय पेपर के मामले में एशिया के 10 सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में से 7 विश्वविद्यालय भारतीय हैं। वहीं, अन्ना विश्वविद्यालय ने अनुसंधान उत्पादकता में क्षेत्रीय श्रेष्ठता हासिल की है। इस सूचकांक में इसने पहला स्थान हासिल किया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गलत वीडियो डालने वाले अब नहीं बचेंगे: संसद के अगले सत्र में ‘डिजिटल इंडिया बिल’ ला सकती है मोदी सरकार, डीपफेक पर लगाम की...

नरेंद्र मोदी सरकार आगामी संसद सत्र में डीपफेक वीडियो और यूट्यूब कंटेंट को लेकर डिजिटल इंडिया बिल के नाम से पेश किया जाएगा।

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -