Sunday, June 13, 2021
Home देश-समाज लाल सलाम की फट गई डफली, जिस अंबानी-अडानी को देते थे गाली... वही उद्योगपति...

लाल सलाम की फट गई डफली, जिस अंबानी-अडानी को देते थे गाली… वही उद्योगपति आज कर रहे देश की मदद

वामपंथी चुन-चुन कर उन्हें ही गालियाँ देते रहे हैं, जिन्होंने मौका पड़ने पर देश की मदद की है। और ये खुद क्या करते हैं? ये AC कमरे में बैठ कर नकारात्मकता फैलाते हैं, प्रोपेगेंडा पोर्टलों के लिए लेख लिखते हैं।

वामपंथी अक्सर कॉर्पोरेट हस्तियों को गालियाँ देते हैं। यहाँ तक कि पीएम मोदी पर भी निशाना साधने के लिए अम्बानी-अडानी से उनके कथित नजदीकी संबंधों का हवाला दिया जाता है। ये सच है कि पीएम मोदी के अधिकतर कॉर्पोरेट हस्तियों के साथ अच्छे सम्बन्ध हैं क्योंकि जब वो गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तभी से वो राज्य में निवेश के लिए देश-विदेश के उद्योगपतियों के साथ बैठकें करते रहे हैं। ‘वाइब्रेंट गुजरात’ से लेकर तमाम तरह के कार्यक्रमों के जरिए उद्योगपतियों को गुजरात में निवेश के लिए बुलाया जाता था। उस दौरान नरेंद्र मोदी चीन वगैरह की भी यात्रा करते थे और वहाँ से भी बिजनेस डील हुआ करते थे।

भारत में टाटा-बिरला और अम्बानी जैसे कई ऐसे बड़े उद्योगपति हैं, जिनका परिवार दशकों से देश के विकास में योगदान देता रहा है। सरकारें बदलीं और देश पर अलग-अलग समय में कई आपदाएँ आईं, जहाँ इन लोगों ने जो भी सरकार रही, देश की मदद की है। वामपंथी कॉर्पोरेट हस्तियों का ऐसे विरोध करते हैं, जैसे उन्होंने पैसे लूट लिए हों। किसी ने अगर कोई कम्पनी खड़ी की है तो उसके पीछे उसकी मेहनत और दिमाग होता है। अगर वामपंथियों को लगता है कि अम्बानी-अडानी ने उनके पैसे लूट लिए हैं तो वो केस करें। यही लोग तो संविधान-संविधान की रट लगाते रहते हैं। वो अलग बात है कि संविधान के नियमों का पालन करते हुए बने क़ानून को नहीं मानते।

देश कोरोना वायरस के महासंकट से जूझ रहा है। रतन टाटा ने इसे अब तक का सबसे बड़ा संकट करार दिया है। देश में मरीजों की संख्या 1200 के पार हो गई है, जिनमें से 29 को अपनी जान गँवानी पड़ी है। महाराष्ट्र (215) और केरल (202) इस संक्रमण से सबसे ज्यादा जूझ रहे हैं। ऐसे समय में घर में खाली बैठे वामपंथियों के पास एक ही काम बचा है- जहाँ-तहाँ से जो भी मिले, उसकी आलोचना करते रहो और नकारात्मकता फैलाते रहो। कोई अम्बानी को गाली दे रहा है, कोई मोदी को तो कोई बीसीसीआई को।

टाटा परिवार ने इस संकट की घड़ी में 1500 करोड़ रुपए की मदद कर के देशहित में अपना योगदान किया है। ऐसा नहीं है कि उसने सिर्फ़ वित्तीय मदद देकर इतिश्री कर ली है बल्कि टाटा फाउंडेशन के लोग भी लोगों की मदद करने में लगे हुए हैं। मेडिकल कर्मचारियों के लिए उपकरणों की व्यवस्था की जा रही है क्योंकि कोरोना से लड़ने वालों का सबसे ज्यादा सुरक्षित रहना ज़रूरी है। टाटा ने 5 सूत्रीय कार्यक्रम बना कर काम शुरू कर दिया है। क्या किसी ने टाटा को इसके लिए मजबूर किया? नहीं। उन्होंने स्वेच्छा से अपने धन का देशहित में इस्तेमाल करने का निर्णय लिया है। वो सिर्फ़ बकैती नहीं कर रहे।

इसी तरह रिलायंस ने कुछ ही दिनों में देश का पहला ‘कोरोना वायरस डेडिकेटेड अस्पताल’ तैयार कर दिया। अपने अन्य अस्पतालों में कोरोना के इलाज और लोगों को क्वारंटाइन करने की व्यवस्था की। ऐसे समय में वित्त से भी ज्यादा ज़रूरी संसाधन है क्योंकि देश-विदेश का व्यापार ठप्प पड़ा हुआ है। ऐसे में रिलायंस ने प्रतिदिन एक लाख मास्कों का उत्पादन करने का फ़ैसला लिया। देश भर में ग़रीबों को अलग-अलग स्थानों पर खाना खिलाने का उपक्रम भी रिलायंस द्वारा चलाया जा रहा है। हाँ, अम्बानी को गाली देने वाले ज़रूर अपने घर का एसी ऑन कर के उनके ख़िलाफ़ लेख लिख रहे होंगे।

इसी तरह आनंद महिंद्रा ने भी अपनी 100% सैलरी कोरोना से लड़ने के लिए देने का निर्णय लिया है। साथ ही उन्होंने महिंद्रा हॉलिडे रिसॉर्ट्स को क्वारंटाइन सेंटर्स के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया है। साथ ही वो उन छोटे व्यापारियों की भी मदद करेंगे, जिन पर इस आपदा का सबसे ज्यादा असर हुआ है। इसी तरह वेदांता लिमिटेड के अनिल अग्रवाल ने 100 करोड़ रुपए की मदद का ऐलान किया है। साथ ही उन्होंने दिहाड़ी मजदूरों की व्यथा का जिक्र करते हुए उनकी भी मदद करने की घोषणा की। इसके अलावा अल्कोहल ब्रांड ‘Diageo India’ ने 3 लाख लीटर सैनिटाइजर उपलब्ध कराने की घोषणा की। जब बाजार में सैनिटाइजरों की कमी है, ऐसे में ये मदद कारगर सिद्ध होगी। इसके सीईओ आनंद कृपालु ने बताया कि ऐसे समय में उनकी कम्पनी सैनिटाइजर की उपलब्धता के लिए दिन-रात एक कर देगी।

‘हीरो साइकल्स’ ने भी 100 करोड़ रुपए के कंटिंजेंसी फण्ड की घोषणा की है। ऐसे समय में कॉर्पोरेट जगत की हस्तियों को गाली देने वाले वामपंथी क्या कर रहे हैं? वो विदेशी पोर्टलों में लेख लिख कर उन लोगों को बदनाम कर रहे हैं, जो असल में लोगों की मदद कर रहे हैं। डफली बजाने से अगर कोरोना से लड़ाई लड़ ली जाती तो शायद आज जेएनयू के वामपंथी ब्रिगेड से ही सबसे ज्यादा डॉक्टर और वैज्ञानिक निकलते। अगर प्रोपेगेंडा पोर्टलों में लेख लिखने से कोरोना भाग जाता तो राणा अयूब, सदानंद धुमे और बरखा दत्त जैसे लोगों ने अब तक वैक्सीन का अविष्कार कर लिया होता। प्रमुख बात ये है कि अगर आप सच में देशहित में काम करने वालों का सम्मान नहीं कर सकते तो कम से कम उनका विरोध करने का अधिकार तो आपको नहीं है।

गौतम अडानी ने भी 100 करोड़ रुपए पीएम केयर्स फंड में देने की घोषणा की है। आज जब देश संकट से जूझ रहा है, तब जिसके पास जो है उससे ही मदद की जानी चाहिए, आरोप-प्रत्यारोप नहीं होना चाहिए। आपके पास संसाधन हो सकता है, वित्त हो सकता है या फिर श्रमबल हो सकता है- आप तीनों से मदद कर सकते हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सहित कई संगठनों के लोग राहत कार्य में लगे हैं लेकिन वामपंथी चुन-चुन कर उन्हें ही गालियाँ देते रहे हैं, जिन्होंने मौका पड़ने पर देश की मदद की है, आगे बढ़ कर जनता के दुःख को मिटाने का काम किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शर्म आनी चाहिए 370 पर इतना बड़ा झूठ बोलते हुए…’: दिग्विजय सिंह को कश्मीरी एक्टिविस्ट डॉ अग्निशेखर ने लताड़ा

डॉ अग्रनिशेखर ने दिग्विजय सिंह की निंदा की। साथ ही अपनी व तमाम कश्मीरी पंडितों की ओर कॉन्ग्रेसी नेता के बयान का खंडन कर इसे बिलकुल गलत बताया।

‘राजस्थान में गहलोत सरकार करा रही पायलट खेमे के विधायकों की फोन टैपिंग और जासूसी’: MLA वेद प्रकाश सोलंकी

सोलंकी ने कहा कि इस मामले के सामने आने के बाद विधायकों में दहशत है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ लोकतंत्र के लिए ये सब ठीक नहीं है।

‘आग लगाओ आग’: मेवात में जुनैद की मौत के बाद भीड़ ने किया पुलिस पर हमला; लाठी-डंडे-पत्थर फेंकने के बाद लगाई आग

“मेवात में आज जुनैद के मौत के बाद पुलिस वालों को शांतिदूतों ने मारा पीटा थाने को आग के हवाले कर दिया पुलिस की गाड़ियों को तोड़ा फोड़ा गया।”

‘किसान’ आंदोलन में गैंगरेप, बात दबाने के लिए शव यात्रा: 2 महिलाओं ने भी नहीं की पीड़िता की मदद

गैंगरेप की बात को लेकर 'किसान' आंदोलन में महिलाओं ने भी पीड़िता को धोखा दिया। उन्होंने पीड़िता की आपबीती का वीडियो बनाकर...

न जॉब रही, न कार्टून बिक रहे… अब PM मोदी को कोस रहे: ट्विटर के मेल के सहारे वामपंथी मीडिया का प्रपंच

मंजुल के सहयोगी ने बताया कि मंजुल अपने इस गलत फैसले के लिए बाहरी कारणों को दोष दे रहे हैं और आशा है कि जो पब्लिसिटी उन्हें मिली है उससे अब वो ज्यादा पैसे कमा रहे होंगे।

UP के ‘ऑपरेशन’ क्लीन में अतीक गैंग की ₹46 करोड़ की संपत्ति कुर्क, 1 साल में ₹2000 करोड़ की अवैध प्रॉपर्टी पर हुई कार्रवाई

पिछले 1 हफ्ते में अतीक गैंग के सदस्यों की 46 करोड़ रुपए की संपत्ति कुर्क की गई और अब आगे 22 सदस्य ऐसे हैं जिनकी कुंडली प्रयागराज पुलिस लगातार खंगाल रही है।

प्रचलित ख़बरें

सस्पेंड हुआ था सुशांत सिंह का ट्रोल अकाउंट, लिबरलों ने फिर से करवाया रिस्टोर: दूसरों के अकाउंट करवाते थे सस्पेंड

जो दूसरों के लिए गड्ढा खोदता है, वो उस गड्ढे में खुद गिरता है। सुशांत सिंह का ट्रोल अकाउंट @TeamSaath के साथ यही हुआ।

सुशांत ड्रग एडिक्ट था, सुसाइड से मोदी सरकार ने बॉलीवुड को ठिकाने लगाया: आतिश तासीर की नई स्क्रिप्ट, ‘खान’ के घटते स्टारडम पर भी...

बॉलीवुड के तीनों खान-सलमान, शाहरुख और आमिर के पतन के पीछे कौन? मोदी सरकार। लेख लिखकर बताया गया है।

‘भाईजान’ के साथ निकाह से इनकार, बॉयफ्रेंड संग रहना चाहती थी समन अब्बास, अब खेत में दफन? – चचेरा भाई गिरफ्तार

तथाकथित ऑनर किलिंग में समन अब्बास के परिवार वालों ने उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी और उसके शव को खेत में दफन कर दिया?

‘तुम्हारी लड़कियों को फँसा कर रोज… ‘: ‘भीम आर्मी’ के कार्यकर्ता का ऑडियो वायरल, पंडितों-ठाकुरों को मारने का दावा

'भीम आर्मी' के दीपू कुमार ने कहा कि उसने कई ब्राह्मण और राजपूत लड़कियों का बलात्कार किया है और पंडितों और ठाकुरों को मौत के घाट उतारा है।

नुसरत जहाँ की बेबी बंप की तस्वीर आई सामने, यश दासगुप्ता के साथ रोमांटिक फोटो भी वायरल

नुसरत जहाँ की एक तस्वीर सामने आई है, जिसमें उनकी बेबी बंप साफ दिख रहा है। उनके पति निखिल जैन पहले ही कह चुके हैं कि यह उनका बच्चा नहीं है।

11 साल से रहमान से साथ रह रही थी गायब हुई लड़की, परिवार या आस-पड़ोस में किसी को भनक तक नहीं: केरल की घटना

रहमान ने कुछ ऐसा तिकड़म आजमाया कि सजीथा को पूरे 11 साल घर में भी रख लिया और परिवार या आस-पड़ोस तक में भी किसी को भनक तक न लगी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,458FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe