Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजजामिया के दो गुटों में भिड़ंत: जलाल ने अस्पताल में घुसकर नोमान अली को...

जामिया के दो गुटों में भिड़ंत: जलाल ने अस्पताल में घुसकर नोमान अली को गोली मारी, छात्र अस्पताल में भर्ती

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में छात्रों के 2 गुटों में लड़ाई हो गई। जिसके बाद घायलों को अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहाँ भी एक छात्र पर गोली चलाई गई। फिलहाल पीड़ित को एम्स के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती किया गया है।

दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में छात्रों के 2 गुटों में लड़ाई हो गई। जिसके बाद घायलों को अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहाँ भी एक छात्र पर गोली चलाई गई। फिलहाल पीड़ित को एम्स के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती किया गया है, उसे खतरे से बाहर बताया जा रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गुरुवार (29 सितंबर 2022) की देर शाम पुलिस को घटना की जानकारी हुई। पुलिस ने बताया कि जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों के दो गुटों के बीच झगड़ा हुआ। इसमें कुछ छात्र घायल हो गए। इन्हें इलाज के लिए होली फैमिली अस्पताल ले जाया गया।

दिल्ली पुलिस द्वारा दी जा रही जानकारी के मुताबिक एक गुट के छात्रों का इलाज अस्पताल में चल रहा था कि यहाँ फिर से दूसरे गुट के छात्र आ पहुँचे और फिर उनके द्वारा फायरिंग शुरू कर दी गई। इसी फायरिंग के दौरान एक छात्र को एक गोली छूकर निकली गई, उसके बाद छात्र को घायल अवस्था में हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।

क्या है पूरा मामला

इस मामले में पुलिस ने मीडिया एजेंसी को बताया कि रात करीब 8 बजकर 30 मिनट पर जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी में छात्रों के दो समूहों के बीच किसी बात को लेकर लड़ाई हुई थी। इसमें यूपी के मेरठ जिले के निवासी छात्र 26 वर्षीय नौमान चौधरी के सिर पर गंभीर चोट आ गई। उसे इलाज के लिए दिल्ली के होली फैमिली अस्पताल पहुँचाया गया।

इस दौरान उसके साथ उसका दोस्त नौमान अली भी था। लेकिन, तभी अस्पताल में दूसरे गुट के छात्र भी हथियार के साथ आ पहुँचे। दूसरे समूह के छात्रों में से एक लड़का हरियाणा के मेवात का रहने वाला है और उसका नाम जलाल बताया जा रहा है। उसी ने ही अपने एक दोस्त के साथ अस्पताल में गोलीबारी की और नौमान अली को गोली मारी।

गौरतलब है कि दिल्ली के जामिया इलाके में 19 सितंबर से 17 नवंबर तक धारा 144 लगाई गई थी। इस दौरान जामिया यूनिवर्सिटी प्रशासन ने छात्रों को सर्कुलर जारी कर कहा गया था कि छात्र कैंपस के अंदर या बाहर समूह में इकट्ठा ना रहें। इसमें छात्रों को यह भी कहा गया कि यदि कोई छात्र कानून तोड़ेगा तो यूनिवर्सिटी उसके खिलाफ सख्त एक्शन लेगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -