Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजजावेद ने स्टेटस पर लगाया कुर्बानी का फोटो, हिन्दू संगठनों का आरोप- गाय काटी:...

जावेद ने स्टेटस पर लगाया कुर्बानी का फोटो, हिन्दू संगठनों का आरोप- गाय काटी: सहारनपुर से जाकर नाहन में करता था दुकान, शुरुआती जाँच के बाद पुलिस बोली- यह गोवंश नहीं

हिन्दू संगठनों का आरोप है कि जावेद ने गोवंश की हत्या की है और इसी का फोटो अपने व्हाट्सएप पर लगाया है। इसको लेकर उन्होंने प्रशासन से कार्रवाई की माँग की है। हिन्दू संगठनों ने नाहन में जावेद की दुकान पर पहुँच कर प्रदर्शन किया और कार्रवाई की माँग की।

नोट: पुलिस की शुरुआती जाँच आने के बाद इस खबर को अपडेट किया गया है।

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में बकरीद पर कुर्बानी का आरोप लगाकर बड़ा हंगामा हुआ है। हिन्दू संगठनों का आरोप है कि सिरमौर के नाहन में दुकान करने वाले एक बाहरी मुस्लिम युवक ने गोकशी की। इसको लेकर हिन्दू संगठनों में आक्रोश है, उन्होंने जावेद की दुकान पर प्रदर्शन किया है। जावेद अभी फरार है। हालाँकि, पुलिस ने शुरुआती जाँच में पाया है कि जिसे कुर्बानी दी गई, वह गोवंश नहीं है।

जानकारी के अनुसार, उत्तर प्रदेश के सहारनपुर का रहने वाला एक युवक जावेद हिमाचल प्रदेश के नाहन में पिछले लगभग डेढ़ दो वर्षों से रेडीमेड कपड़ों की दुकान करता है। उसने बकरीद (17 जून, 2024) के दौरान अपने व्हाट्सएप स्टेटस पर एक पशु की कुर्बानी के फोटो लगाए थे। जावेद ने जो स्टेटस अपने व्हाट्सएप पर लगाए थे, उनमें वह एक कटे गए पशु के पास चाकू लेकर खड़ा है और हँस रहा है। उसके आसपास में और भी लोग मौजूद हैं।

हिन्दू संगठनों का आरोप है कि जावेद ने गोवंश की हत्या की है और इसी का फोटो अपने व्हाट्सएप पर लगाया है। इसको लेकर उन्होंने प्रशासन से कार्रवाई की माँग की है। हिन्दू संगठनों ने नाहन में जावेद की दुकान पर पहुँच कर प्रदर्शन किया और कार्रवाई की माँग की। उन्होंने जावेद को नाहन में आगे काम ना करने देने की बात भी कही। बताया गया है कि कुछ लोग इस प्रदर्शन के दौरान उग्र भी हो गए। हिन्दू संगठनों ने नाहन में एक रैली का भी आयोजन किया है।

घटना के बाद से जावेद नाहन से फरार है। उसकी तलाश की जा रही है। हिन्दू संगठनों ने पुलिस को भी इस मामले में शिकायत दी है। दूसरी तरफ पुलिस अभी मामले की जाँच कर रही है। नाहन थाने के SHO ने इस मामले में ऑपइंडिया को बताया है कि संभवतः जावेद ने यह कुर्बानी नाहन में नहीं दी है।

उन्होंने बताया कि जावेद के संबंध में अभी जाँच की जा रही है और उसकी लोकेशन पता की जा रही है। उन्होंने बताया कि किस पशु की कुर्बानी दी गई है, यह अभी स्पष्ट नहीं है। उन्होंने बताया है कि जावेद के इस कृत्य के चलते नाहन में आक्रोश है।

हालाँकि, शामली (UP) पुलिस की जाँच में वह गोमांस नहीं निकला। SP ने शुक्रवार (22 जून) को कहा, “वैध पशु की कुर्बानी दी गई। सोशल मीडिया पर तस्वीर थोड़ी वीभत्स थी, इसलिए साम्प्रदायिक भावनाओं को भड़काने के संबंध में FIR दर्ज की गई है।”

हिन्दू संगठनों के प्रदर्शन का एक वीडियो भी वायरल हुआ है। इसमें बड़ी भीड़ जावेद की दुकान के बाहर मौजूद है। हिन्दू संगठनों ने माँग की है कि नाहन में बाहर से आकर दुकान करने वाले अन्य समुदाय के लोगों का दुबारा सत्यापन किया जाए और उन्हें ऐसे ही दुकान ना दी जाए।

विश्व हिन्दू परिषद के एक कार्यकर्ता ने आरोप लगाया कि नाहन समेत पूरे हिमाचल प्रदेश में बाहर से आकर मुस्लिम व्यापारी ऊँचे किराए पर दुकानें ले रहे हैं। यह लोग यहाँ सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं, यह ऐसे किराए पर दुकानें ले रहे हैं, जो सामान्य आदमी नहीं दे सकता। उन्होंने जावेद के विरुद्ध सहारनपुर में भी कार्रवाई करने की भी बात कही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -