Monday, August 15, 2022
Homeदेश-समाजउस जज का तबादला जिसने अनिल देशमुख को जेल में नहीं दी थी घर...

उस जज का तबादला जिसने अनिल देशमुख को जेल में नहीं दी थी घर के खाने की इजाजत

अनिल देशमुख ने कोर्ट में याचिका दायर कर जेल में घर का बना खाना देने की माँग की थी, जिसे खारिज करते हुए जस्टिस सतभाई ने भ्रष्टाचार के मामले में देशमुख को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

₹100 करोड़ रुपए की वसूली केस में जेल में बंद महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के ख़िलाफ़ ईडी की रिमांड याचिका पर सुनवाई करने वाले एडिशनल सेशन जज एचएस सतभाई का तबादला कर दिया गया। बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस सप्ताह उनका ट्रांसफर कर उन्हें यवतमाल भेज दिया। अजीब बात यह है कि हाल ही में जस्टिस सतभाई ने अनिल देशमुख के घर के खाने की माँग को ठुकरा दिया था। इसके बाद अब उनका ट्रांसफर हुआ है।

अनिल देशमुख ने कोर्ट में याचिका दायर कर जेल में घर का बना खाना देने की माँग की थी, जिसे खारिज करते हुए जस्टिस सतभाई ने भ्रष्टाचार के मामले में देशमुख को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। हालाँकि, कोर्ट ने 71 साल के देशमुख के स्वास्थ्य को देखते हुए जेल में उनके लिए बेड को मंजूरी अवश्य दे दी थी। जज के फैसले के बावजूद भी देशमुख घर के बने खाने की माँग पर अड़े रहे। इस पर जज ने कहा, “आप पहले जेल का खाना खाइए, अगर नहीं खाएँगे तो मामले पर मैं विचार करूँगा।”

उल्लेखनीय है कि अनिल देशमुख के भ्रष्टाचार के मामले की सुनवाई करने से पहले जस्टिस सतभाई अगस्त 2020 से जुलाई 2021 तक स्पेशल जज के तौर पर नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम से संबंधित मामलों की सुनवाई कर रहे थे।

किसी भी हाईकोर्ट के पास स्पेशल जज का ट्रांसफर करने के पॉवर नहीं होते। अगर उच्च न्यायालय किसी भी विशेष न्यायाधीश का ट्रांसफर करना चाहता है तो इसके लिए उसे पहले सर्वोच्च न्यायालय की विशेष अनुमति लेनी पड़ती है। इस मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल ने अनिल देशमुख का केस देख रहे जस्टिस सतभाई का ट्रांसफर करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय की इजाजत ली थी। इसके लिए उन्होंने शीर्ष अदालत को प्रशासनिक आवश्यकताओं का हावाला दिया है। कोर्ट ने 13 नवंबर को उक्त जज के ट्रांसफर की इजाजत दी थी।

15 नवंबर को जारी आधिकारिक आदेश के मुताबिक, “हाईकोर्ट ने सिटी सिविल कोर्ट और मुबई के अतिरिक्त सेशन जज एचएस सतभाई का तबादला यवतमाल जिले के केलापुर में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश के तौर पर किया गया है।”

पवार ने देशमुख को जेल भेजने वालों को धमकाया

भले ही जस्टिस सतभाई का तबादला कर दिया गया है, लेकिन इसके पीछे शरद पवार का बड़ा हाथ माना जा रहा है। पवार ने अनिल देशमुख को जेल भेजने वालों को धमकाते हुए कीमत चुकाने की बात कही थी। उन्होंने यह बात बुधवार शाम नागपुर में एक रैली के दौरान कही।

उन्होंने कहा, “आप एक व्यक्ति के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं। वह (देशमुख) मुझसे मिले थे और कहा था कि पुलिस कमिश्नर ने शिकायत की है। जाँच पूरी होने तक वह इस पद पर नहीं रहना चाहते और गृह मंत्री का पद छोड़ रहे हैं। आपने उसे जेल भेज दिया। आपको देशमुख के हर दिन और घंटे की कीमत चुकानी होगी।”

देशमुख की गिरफ्तारी

महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख को ₹100 करोड़ के वसूली (मनी लॉन्ड्रिंग) केस में इसी महीने 2 नवंबर को करीब 12 घंटे तक पूछताछ करने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया था। 71 वर्षीय देशमुख ने करीब पाँच बार एनसीबी के नोटिस को नजरअंदाज कर दिया था। अधिकारियों के अनुसार, देशमुख पूछताछ के दौरान एजेंसियों का सहयोग नहीं कर रहे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विकसित भारत के लिए पंच प्रण: लाल किले की प्राचीर से PM मोदी ने दिया मंत्र, बोले – हम वो, जो कंकड़-कंकड़ में देखते...

पीएम मोदी ने बताया कि साल 2014 में वह ऐसे पहले प्रधानमंत्री बने थे जिन्होंने आजाद भारत में जन्म लेकर लाल किले की प्राचीर से झंडे को फहराया।

स्वतंत्रता के हुए 75 साल, फिर भी बाँटी जा रही मुफ्त की रेवड़ी: स्वावलंबन और स्वदेशी से ही आएगी आर्थिक आत्मनिर्भरता

जब हम यह मानते हैं कि सत्य की ही जय होती है तब ईमानदार सत्यवादी देशभक्त नेताओं और उनके समर्थकों को ईडी आदि से भयभीत नहीं होना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,900FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe