कमलेश तिवारी हत्याकांड में सामने आया नया वीडियो, हत्यारों को पकड़ने के क़रीब है पुलिस

फुटेज में दिख रहे संदिग्धों में एक महिला भी है जो बाद में अलग होकर घटनास्थल से निकलती है, इसके बाद दोनों संदिग्ध युवक निकलते हैं। इसी आधार पर पुलिस आरोपितों की तलाश कर रही है।

लखनऊ के कमलेश तिवारी हत्याकांड में कुछ नए वीडियो पुलिस के हाथ लगे हैं। माना जा रहा है कि इस गुत्थी को सुलझाने में जुटी पुलिस इसके ज़रिये कमलेश तिवारी के हत्यारों के काफी करीब पहुँच सकती है। इससे पहले शुक्रवार (18 अक्टूबर) को भी एक वीडियो पुलिस के हाथ लगा था जिसमें नारंगी कपड़े पहने दो युवक जा रहे हैं। उनमे से एक के हाथ में पीले रंग की पॉलीथीन है। माना जा रहा है कि रहा इसमें मिठाई का वह डब्बा रहा होगा जिसमें बन्दूक छिपा कर रखी गई थी।

वीडियो में साफ़ है कि इस घटनाक्रम को अंजाम देने में तीन लोगों का हाथ है इनमें से दो पुरुष और एक महिला है। एक सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि हत्या को अंजाम देने के बाद तीनो अलग-अलग भाग जाते हैं। यूपी सरकार ने इस मामले में एसआईटी का भी गठन कर दिया है ताकि जल्द से जल्द हत्यारों को ढूँढा जा सके।

एक आधिकारिक रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि कमलेश तिवारी को एक गनर और एक गार्ड मुहैया कराया गया था। हत्या के एक दिन के भीतर पुलिस ने जो वीडियो जो हासिल किए हैं उनसे इस हत्याकांड में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिल सकती है। पुलिस असल अपराधी को पकड़ने करीब पहुँचती दिख रही है, क्योंकि वारदात को अंजाम देने वाले संदिग्ध हत्यारे सीसीटीवी फुटेज में क़ैद हो गए हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि फुटेज में दिख रहे संदिग्धों में एक महिला भी है जो बाद में अलग होकर घटनास्थल से निकलती है, इसके बाद दोनों संदिग्ध युवक निकलते हैं। इसी आधार पर पुलिस आरोपितों की तलाश कर रही है। एसपी कलानिधि नैथानी के निर्देश पर पुलिस की कई टीमें आरोपितों की तलाशी में जुट गई हैं। पुलिस ने भी इस विषय में यह दावा किया है कि जल्द ही हत्याकांड की गुत्थी को सुलाझा लिया जाएगा।

इस पूरे घटनाक्रम में अभी तक पुलिस ने कुल तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और जाँच जारी है। इस पूरे मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि दहशत फ़ैलाने की कोई भी कोशिश सफल नहीं होने दी जाएगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: