Monday, August 15, 2022
Homeदेश-समाजगला काटने से पहले कन्हैया लाल की दुकान की CCTV किसने बंद की? माँ-पत्नी...

गला काटने से पहले कन्हैया लाल की दुकान की CCTV किसने बंद की? माँ-पत्नी की चीत्कार से रोया उदयपुर, कहा- फाँसी दो, वरना कल किसी और को मारेंगे

पुलिस और परिजनों में तनातनी भी हुई, क्योंकि पुलिस पास के श्मशान में अंतिम संस्कार की बात कह रही थी, जबकि परिवार अशोक नगर श्मशान में अंतिम क्रिया-कर्म करवाना चाहता था।

राजस्थान के उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल तेली का सिर कलम कर के आतंकियों ने हत्या कर दी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने घटना की जाँच NIA को सौंप दी है, वहीं पूरे राजस्थान में धारा-144 लागू कर दी गई है। उनके परिजनों के रो-रो कर बुरा हाल है। उनकी भतीजी ने सिसकते हुए कहा कि गुनहगारों को सिर्फ सज़ा नहीं, फाँसी मिलनी चाहिए। NIA की 4 सदस्यीय टीम उदयपुर पहुँच गई है और IB के साथ मिल कर घटना की छानबीन की जा रही है।

उदयपुर के 7 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। कन्हैया लाल तेली की पत्नी और माँ का भी रो-रो कर बुरा हाल है। उनकी पत्नी लगातार छाती पीट-पीट कर रो रही हैं। उनकी चीत्कार सुन कर आसपास खड़े पुलिस वाले अभी अपनी आँखों में आँसू आने से नहीं रोक पाए। पत्नी की माँग है कि आरोपितों को कड़ी से कड़ी सज़ा मिले। उनका कहना है, “सरकार इन हैवानों को फाँसी दे। इन्होने आज एक को मारा है, कल ये दूसरों को मारेंगे।”

कन्हैया लाल के पार्थिव शरीर के पास भी पुलिस ने परिजनों और करीबी रिश्तेदारों के अलावा किसी को भी नहीं जाने दिया। पत्नी और माँ के अलावा उनकी भतीजी भी दहाड़ मार-मार कर रो रही हैं। पुलिस और परिजनों में तनातनी भी हुई, क्योंकि पुलिस पास के श्मशान में अंतिम संस्कार की बात कह रही थी, जबकि परिवार अशोक नगर श्मशान में अंतिम क्रिया-कर्म करवाना चाहता था। अंत में पुलिस को राजी होना पड़ा। उनकी अंतिम यात्रा में कई स्थानीय लोग भी पहुँचे।

कन्हैया लाल की पत्नी जसोदा साहू ने कहा कि कई दिनों से वो चिंतित रहते थे, लेकिन परिवार को कुछ बताते नहीं थे। परिजनों का कहना है कि शिकायत के बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी और दुकान में CCTV को बंद कर दिया गया था। भांजी ने बताया कि दुकान में सीसीटीवी बंद करने का काम वैसे किसी व्यक्ति ने किया था, जो पहले से संपर्क में हो। उन्होंने कहा कि जैसे मामा को मारा है, वैसे ही उन्हें मारा जाना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विकसित भारत के लिए पंच प्रण: लाल किले की प्राचीर से PM मोदी ने दिया मंत्र, बोले – हम वो, जो कंकड़-कंकड़ में देखते...

पीएम मोदी ने बताया कि साल 2014 में वह ऐसे पहले प्रधानमंत्री बने थे जिन्होंने आजाद भारत में जन्म लेकर लाल किले की प्राचीर से झंडे को फहराया।

स्वतंत्रता के हुए 75 साल, फिर भी बाँटी जा रही मुफ्त की रेवड़ी: स्वावलंबन और स्वदेशी से ही आएगी आर्थिक आत्मनिर्भरता

जब हम यह मानते हैं कि सत्य की ही जय होती है तब ईमानदार सत्यवादी देशभक्त नेताओं और उनके समर्थकों को ईडी आदि से भयभीत नहीं होना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,900FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe