Wednesday, September 22, 2021
Homeदेश-समाज'अफगानिस्तान में तालिबानी शासन के बाद J&K से 60 लड़के गायब': मीडिया रिपोर्टों को...

‘अफगानिस्तान में तालिबानी शासन के बाद J&K से 60 लड़के गायब’: मीडिया रिपोर्टों को कश्मीर पुलिस ने बताया झूठ

“कुछ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म चला रहे हैं कि अफगानिस्तान के तालिबान के अधिग्रहण के बीच कश्मीर घाटी के विभिन्न हिस्सों से 60 युवा लापता हो गए हैं। यह #फर्जी खबर है।"

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आज (1 सितंबर, 2021) को जारी अपने बयान में उन सभी रिपोर्टों का खंडन किया जिसमें दावा किया गया था कि अफगानिस्तान में तालिबान के आने के बाद कश्मीर से 60 युवा लापता हो गए हैं।

ट्वीट करते हुए, आईजीपी कश्मीर विजय कुमार ने कहा, “कुछ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म चला रहे हैं कि अफगानिस्तान के तालिबान के अधिग्रहण के बीच कश्मीर घाटी के विभिन्न हिस्सों से 60 युवा लापता हो गए हैं। यह #फर्जी खबर है।”

कई समाचार प्लेटफार्मों ने NDTV के आधार पर, इस रिपोर्ट को कवर किया है कि तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद से कश्मीर के विभिन्न हिस्सों से 60 युवा कथित तौर पर लापता हो गए हैं। नीचे NDTV का उस रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट है जिसके आधार पर कई मीडिया संस्थानों ने अपनी रिपोर्ट पब्लिश की थी।

“Amid Taliban Takeover Of Afghanistan, A Worrying Trend In J&K” शीर्षक वाली एक रिपोर्ट में, एनडीटीवी ने यह दावा किया कि अफ़ग़ानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी का प्रभाव घाटी में देखा जा सकता है। साथ कई पुलिस अधिकारियों को कोट करते हुए अपनी रिपोर्ट को वैलिडिटी दी थी जो अब फेक साबित हुआ है।

NDTV ने अपनी रिपोर्ट में एक सीनियर पुलिस अधिकारी से बातचीत का दावा करते हुए कोट किया था, “बीते एक महीने से हर दिन कोई न कोई हमला होता है। चाहे यह अटैक सिक्योरिटी फोर्सेज पर हो या फिर राजनीतिक नेताओं पर हो रहा हो।” NDTV की इसी रिपोर्ट में यह भी दावा था कि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि उन लॉन्‍च पैड में भी आतंकी गतिविधियाँ बढ़ी हैं, जहाँ फरवरी में हुए सीजफायर के बाद से ऐसी कोई हलचल नहीं थीं।

NDTV के दावे के अनुसार, कश्मीर के टॉप पुलिस अधिकारी विजय कुमार को कोट करते हुए लिखा, “पिछले कुछ महीनों में जम्‍मू कश्मीर में कम से कम 60 युवा अपने घरों से बहाने करके निकले और लापता हो गए हैं। ये लोग यह कहकर गए थे कि वे किसी काम से बाहर जा रहे हैं, लेकिन अब गायब है। सुरक्षा एजेंसियों के लिए यह बड़ी चिंता की बात है। हम जम्मू-कश्मीर के सभी मिसगाइडेड युवाओं से अपील कर रहे हैं कि वे हिंसा छोड़ें और मुख्यधारा में वापसी करें।”

हालाँकि, अब जम्मू कश्मीर पुलिस के बयान के बाद यह खबर फर्जी साबित हो चुकी है। ऑपइंडिया हिंदी ने भी NDTV और कुछ दूसरे मीडिया पोर्टलों के आधार पर यह खबर प्रकाशित की थी जिसे ताजा सूचनाओं के आधार पर अपडेट कर दिया गया है। नीचे उन कुछ दूसरे मीडिया पोर्टलों के स्क्रीनशॉट हैं जिन्होंने NDTV को ही आधार बनाते हुए खबर प्रकाशित की थी। हालाँकि, अभी भी जम्मू कश्मीर पुलिस के खंडन के बाद भी NDTV ने अपनी रिपोर्ट न हटाई है और न अपडेट की है।

ऑपइंडिया से बात करते हुए, आईजीपी कश्मीर के कार्यालय ने पुष्टि की है कि एक मानक प्रक्रिया है जिसके तहत कश्मीर पुलिस फर्जी खबरें फैलाने वाले पोर्टलों और एजेंसियों के खिलाफ कार्रवाई करती है। 60 युवाओं के लापता होने की फर्जी खबर को कवर करने वाले इन पोर्टलों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जब मोपला में हुआ हिंदुओं का नरसंहार, तब गाँधी पढ़ा रहे थे खिलाफत का पाठ; बिना प्रतिकार मरने की दे रहे थे सीख

नरसंहार के बावजूद, भारतीय नेतृत्व जिसमें प्रमुख रूप से गाँधी शामिल थे, उसने हिंदुओं को उनके चेहरे पर मुस्कान के साथ मरते रहने के लिए कहा।

‘20000 हिंदुओं को बना दिया ईसाई, मेरी माँ का भी धर्म परिवर्तन’: कर्नाटक के MLA ने विधानसभा में खोला मिशनरियों का काला चिट्ठा

कर्नाटक विधानसभा में हिंदुओं के ईसाई धर्मांतरण का मसला उठा। बीजेपी विधायक ने बताया कि कैसे मिशनरी विरोध करने पर झूठे मुकदमों में फँसा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,683FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe