Sunday, September 19, 2021
Homeदेश-समाज'तुमको और पूरे परिवार को मार डालेंगे' - मुस्लिम लीग के MLA को 24...

‘तुमको और पूरे परिवार को मार डालेंगे’ – मुस्लिम लीग के MLA को 24 घंटे का समय, लिखा था तालिबान विरोधी पोस्ट

"...24 घंटों में अपना सोशल मीडिया पोस्ट नहीं हटाया तो तुम्हारी और तुम्हारे पूरे परिवार की हत्या कर दी जाएगी। तुम्हारा फेसबुक पोस्ट ‘मुस्लिम विरोधी’ विचारों पर आधारित है... तुम पर भी प्रोफेसर टीजे जैसा ही हमला किया जाएगा।"

केरल के पूर्व मंत्री और मुस्लिम लीग के वरिष्ठ विधायक एमके मुनीर को तालिबान की तरफ से जान से मारने की धमकी दी गई है। एम के मुनीर ने दावा किया है कि तालिबान के नाम पर एक चिट्ठी भेज कर उन्हें धमकी दी गई है कि वो उन्हें और उनके पूरे परिवार को मार डालेगा। 

उनका दावा है कि उन्हें यह धमकी तालिबान की ओर से अफगानिस्तान के लोगों के साथ बर्बर सलूक करने के खिलाफ सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखने की वजह से मिली है। दरअसल हाल ही में विधायक ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखा था। इस पोस्ट में एमके मुनीर ने इस बात का जिक्र किया था कि तालिबान ने अफगानिस्तान के लोगों पर क्रूरतापूर्वक कार्रवाई की है।

एमके मुनीर का कहना है कि बुधवार (अगस्त 25, 2021) की सुबह उन्हें यह खत मिला। इस खत में कहा गया था कि अगर उन्होंने 24 घंटे में अपना सोशल मीडिया पोस्ट नहीं हटाया तो उनकी और उनके पूरे परिवार की हत्या कर दी जाएगी। यह खत ‘Taliban Oru Vismayam’ (तालिबान, एक विस्मय) शीर्षक से लिखी गई है। इसमें यह भी कहा गया है कि मुनीर का यह फेसबुक पोस्ट उनके ‘मुस्लिम विरोधी’ विचारों पर आधारित है। यह खत सरकारी मेडिकल कॉलेज इलाके से पोस्ट की गई थी।

इसमें प्रोफेसर टीजे जोसेफ का भी जिक्र किया गया है और कहा गया कि उन पर भी प्रोफेसर जैसा ही हमला किया जाएगा। बता दें कि जोसेफ पर ईशनिंदा का आरोप लगा था और साल 2010 में उनके हाथ काट दिए गए थे।

4 जुलाई 2010 को ईशनिंदा के आरोप में मुस्लिम कट्टरपंथियों ने उनका दाहिना हाथ काट दिया था। कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन के 7 युवकों ने ​उन पर तब हमला किया था, जब वे अपने परिवार के साथ चर्च से प्रार्थना कर लौट रहे थे। कट्टरपंथियों का आरोप था कि जोसेफ ने परीक्षा के लिए जो प्रश्न तैयार किए थे, उसमें ईशनिंदा वाले सवाल पूछे गए थे।

एम के मुनीर ने कहा है कि इस मामले में वो थाने में शिकायत दर्ज कराएँगे और जाँच की माँग करेंगे। आपको बता दें कि इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के नेता ने कई एंटी-तालिबान पोस्ट किए थे जिसके बाद सोशल मीडिया के जरिए पर उन पर हमले जारी हैं। 

तमाल भट्टाचार्य के खिलाफ याचिका दायर

वहीं ‘अच्छा खाना’ और ‘क्रिकेट खेलने’ के लिए तालिबान की तारीफो के पुल बाँध चुके कोलकाता के तमाल भट्टाचार्य के खिलाफ याचिका दायर की गई है। गृह मंत्रालय के शिकायत प्रकोष्ठ को याचिका मिली है। कोलकाता के एक व्यक्ति ने यह याचिका गृह मंत्रालय को सौंपी है।

तमाल ने कट्टरपंथी इस्लामी संगठन को ‘भरोसेमंद’ भी बताया था। बता दें कि तमाल उन 10 बंगालियों में से एक हैं, जिन्हें 21 अगस्त की रात भारत सरकार अफगानिस्तान के हामिद करजई इंटरनेशल एयरपोर्ट से सुरक्षित बचाकर लाई थी। टीवी9 को दिए इंटरव्यू में तमाल ने तालिबान की भरोसेमंद होने के लिए की सराहना की थी।

गौरतलब है कि उत्तरी दमदम इलाके के निमटा में रहने वाले 34 वर्षीय तमाल अफगानिस्तान में तब से फँसे हुए थे, जब से तालिबान ने काबुल पर कब्जा जमा लिया था। मैकेनिकल इंजीनियर तमाल काबुल के कर्दन इंटरनेशनल स्कूल में फिजिक्स और केमिस्ट्री पढ़ाते थे। मैकेनिकल इंजीनियरिंग की ट्रेनिंग के वक्त से तमाल अपने स्कूल के स्टाफ क्वार्टर में रह रहे थे। हालाँकि, तालिबान के काबुल शहर पर कब्जा करने के बाद उन्हें खुद को प्रिंसिपल के आवास के अंदर बंद होने के लिए मजबूर होना पड़ा था। बाद में तमाल को 10 अन्य बंगाल निवासियों के साथ भारतीय वायु सेना (IAF) के कर्मियों ने वहाँ से बाहर निकाला था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe