Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजकेरल में बिल्ली का कच्चा मांस खाते युवक को देख सहमे लोग, कई सालों...

केरल में बिल्ली का कच्चा मांस खाते युवक को देख सहमे लोग, कई सालों से था लापता: असम निवासी युवक को मानसिक अस्पताल में कराया गया भर्ती

केरल के मलप्पुरम से चौंकाने वाली घटना सामने आई है। यहाँ के कुट्टीपुरम बस स्टैंड पर एक युवक बिल्ली का कच्चा मांस खाते हुए मिला। असम के धुबरी जिले के रहने वाले इस व्यक्ति को तालुक अस्पताल में शुरुआती जाँच के बाद कोझिकोड के सरकारी मानसिक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहाँ उसके मानसिक समस्याओं का संकेत मिला है।

केरल के मलप्पुरम से चौंकाने वाली घटना सामने आई है। यहाँ के कुट्टीपुरम बस स्टैंड पर एक युवक बिल्ली का कच्चा मांस खाते हुए मिला। असम के धुबरी जिले के रहने वाले इस व्यक्ति को तालुक अस्पताल में शुरुआती जाँच के बाद कोझिकोड के सरकारी मानसिक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहाँ उसके मानसिक समस्याओं का संकेत मिला है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, कुट्टीपुरम बस स्टैंड पर खड़े लोगों ने जब युवक को बिल्ली का कच्चा मांस खाते हुए देखा तो वे डर गए। इसके बाद लोगों ने इसकी सूचना तुरंत मलप्पुरम पुलिस को दी। मौके पर पहुँचकर पुलिस ने युवक को ऐसा करने से रोका तो उसने बताया कि वो पिछले 4-5 दिनों से भूखा है। उसने कुछ खाया नहीं है।

इसके बाद पुलिस वालों ने युवक को खाना खिलाया। युवक की पहचान देबोजीत रॉय के रूप में हुई है। कुट्टीपुरम के पुलिस निरीक्षक पीके पद्मराजन ने बताया कि युवक शनिवार (03 फरवरी 2024) की शाम को घटनास्थल से लापता हो गया था, लेकिन रविवार (04 फरवरी 2024) की सुबह वो कुट्टीपुरम रेलवे स्टेशन के पास पाया गया।

पूछताछ के दौरान पता चला कि देबोजीत रॉय तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई से केरल के कोझिकोड आया था। चेन्नई में उसका भाई रहता है। उसके भाई ने पुलिस को बताया कि देबोजीत रॉय चेन्नई से लापता हो गया था। एक वरिष्ठ पुलिसकर्मी ने कहा कि वह व्यक्ति कुछ साल पहले अपना गृह राज्य छोड़कर केरल पहुँच गया था।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि युवक काफी समय से लापता था। उसके भाई ने बताया कि देबोजीत रॉय उसका ही भाई है, जो कुछ साल से लापता था। उसके भाई ने उसे मानसिक रूप से बीमार भी बताया। इस पूरे घटनाक्रम के बाद उसके भाई को पुलिस ने मलप्पुरम बुलाया है और युवक को आगे की जाँच के लिए कोझिकोड मानसिक अस्पताल में भर्ती कराया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -