Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजBHU में 'हिंदुत्व की कब्र खुदेगी' के नारे, दलित छात्र पर हमला किया, महिला...

BHU में ‘हिंदुत्व की कब्र खुदेगी’ के नारे, दलित छात्र पर हमला किया, महिला सुरक्षाकर्मी का गला दबाया, जातिसूचक गालियाँ: वामपंथियों के उपद्रव के बाद FIR दर्ज

शिकायत के अंत में पुलिस से सभी आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई की माँग की गई है। इस शिकायत पर पुलिस ने पीड़िता द्वारा बताए गए सभी 17 आरोपितों को नामजद किया है।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी (BHU) के अंदर हिंदुत्व विरोधी और आज़ादी के नारे लगने की खबर है। इस मामले में पुलिस ने कुल 17 नामजद सहित अन्य अज्ञात लोगों पर FIR दर्ज की है। बताया गया है कि आरोपितों ने आज़ादी के नारों का विरोध करने पहुँचे छात्रों पर हमला भी किया। इस हमले में कुछ छात्रों को फैक्चर भी हुआ है। घटना रविवार (5 नवंबर, 2023) की है। पुलिस मामले की जाँच कर रही है।

इस मामले की FIR वाराणसी के लंका थाने में 6 नवंबर (सोमवार) को दर्ज हुई है। शिकायत एक छात्रा की तरफ से दर्ज करवाई गई है। पीड़िता का कहना है कि पिछले 2 दिनों से यूनिवर्सिटी के छात्र BHU कैम्पस में धरना दे रहे थे। इस दौरान पीड़िता यूनिवर्सिटी की एक छात्रा व 2 अन्य छात्रों के साथ धरनास्थल पर पहुँची। धरनास्थल पर इन सभी को यूनिवर्सिटी के छात्रों के बजाय कई बाहरी लोग भी दिखाई पड़े। आरोप है कि ये लोग ‘हिंदुत्व की कब्र खुदेगी’ और ‘आज़ादी’ के नारे लगा रहे थे। एक वायरल वीडियो में वामपंथी छात्राओं द्वारा पुलिस के आगे ही ‘मोदी-योगी मुर्दाबाद’ के नारे लगाए जा रहे हैं।

पीड़िता ने अपनी शिकायत में आगे बताया है कि BHU कैम्पस में लग रहे आपत्तिजनक नारों का धरने या छात्राओं के हित से कोई वास्ता न होने की वजह से उन्होंने इस नारेबाजी का विरोध किया। इस विरोध से नाराज हो कर वहाँ मौजूद कई लोगो ने पीड़िता और उसके साथियों पर हमला बोल दिया। पीड़िता ने इन हमलावरों में आकांक्षा शर्मा उर्फ़ आज़ाद, चंदा यादव, रोशन पांडेय, इप्शिता, राजेश कुमार, राणा रोहित, राजीव नयन, सुमन आनंद, अक्षय आदर्श, ऋषि तिवारी, मानव उमेश, अमन सिंह, अमित, अनुपम और विश्वजीत और अनुरति को नामजद करते हुए 15 अज्ञात लोगों के होने का दावा किया। ABVP ने वीडियो शेयर कर के वामपंथी छात्राओं द्वारा महिला सुरक्षाकर्मी का गला दबाने का आरोप लगाया है।

शिकयत में पीड़िता ने आगे बताया कि हमलावरों की भीड़ ने उन्हें और उनके साथियो को घसीट कर मारा। पीड़िता के कपड़ों को खींचा गया और उनके साथ मौजूद एक दलित समुदाय के युवक को जातिसूचक गालियाँ दीं गईं। भीड़ में से कई लोग पीड़ितों को देश लेने की धमकी भी देते रहे। हमले में पीड़िता व उनके साथियों के हाथ, पैर में फैक्चर के साथ आँख के पास घाव हो गया। नामजद आकांक्षा, चंदा यादव, इप्शिता और रिद्धि के पहले भी आपराधिक मामलों में शामिल रहने की जानकारी देते हुए पीड़िता ने खुद को बेहद डरा बताया है।

शिकायत के अंत में पुलिस से सभी आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई की माँग की गई है। इस शिकायत पर पुलिस ने पीड़िता द्वारा बताए गए सभी 17 आरोपितों को नामजद किया है। बाकी अन्य हमलावरों को अज्ञात में रख कर मामले की विवेचना की जा रही है। इन सभी हमलावरों पर IPC की धारा 147, 323, 504, 506, 505 (2) और 354 (ख) के साथ SC/ST एक्ट में केस दर्ज किया गया। पुलिस मामले की जाँच कर रही है। ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है। एक अन्य वीडियो में वामपंथी छात्राओं को महिला शिक्षिकाओं से अभद्रता करते देखा और सुना जा सकता है।

पीड़ित हैं ABVP से, हमलावर वामपंथी

ऑपइंडिया ने इस मामले में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के पदाधिकारी अभय प्रताप सिंह से बात की। अभय ने हमें बताया कि हमलावर छात्रों में कुछ NSUI और तमाम AISA के हैं। छात्रा आकांक्षा भगत सिंह स्टूडेंट्स मोर्चा (BSM) से बताई गई। अभय का दावा है कि इस संगठन पर नक्सलियों से रिश्तों की जाँच ख़ुफ़िया एजेंसियाँ कर रहीं हैं। हमें बताया गया कि अगर मौके पर ABVP से जुड़े लोग चारों पीड़ित छात्रों को बचाने कुछ लोग न पहुँचे होते तो उनकी मॉब लिन्चिग में हत्या हो जाती।

CAA-NRC हिंसा से भी कनेक्शन

ABVP पदाधिकारी अभय ने हमें बताया कि हमलावरों में प्रमुख चंदा यादव पहले जामिया मिलिया की छात्र थी। वह वामपंथी छात्र संगठन आइसा (AISA) की राष्ट्रीय सचिव हैं। दावा है कि वो CAA-NRC हिंसा के दौरान सरकार के विरोध में और अराजकता फैलाने में काफी सक्रिय रही थी। इन हरकतों के चलते चंदा यादव पर FIR भी दर्ज हुई थी जिसका कोर्ट में ट्रायल भी चलने वाला है। चंदा यादव का CAA-NRC विरोध प्रदर्शनों के दौरान एक फोटो भी सामने आया है जब वो मंच पर हिजाब में दिख रही एक छात्र के बगल खड़ी हो कर डफली बजा रही है।

एक अन्य आरोपित रोशन भी AISA से जुड़ा हुआ है। अभय प्रताप सिंह ने वाराणसी पुलिस पर भी आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई में देरी करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ABVP के छात्रों की पिटाई के दौरान पुलिस बुलाई गई थी। दावा है कि इस दौरान नामजदों में से कुछ लोग हिरासत में भी लिए गए थे लेकिन पुलिस ने थोड़ी दूर जा कर उन्हें छोड़ दिया। अब FIR दर्ज होने के बाद ABVP पदाधिकारी ने उम्मीद जताई है कि आरोपितों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

हालाँकि आकांक्षा और चंदा यादव ने खुद पर लगे हमले के आरोपों से इंकार किया है। उन्होंने उलटे ABVP पर ही हमले का आरोप लगाया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -