Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाज'तलवार लेकर हिंदुओं की तरफ दौड़ा… मैं पकड़ने को भागा तो पीछे से गोली...

‘तलवार लेकर हिंदुओं की तरफ दौड़ा… मैं पकड़ने को भागा तो पीछे से गोली मार दी’: खरगोन के SP ने बताया- रामनवमी शोभा यात्रा पर हमला कैसे

एसपी सिद्धार्थ चौधरी ने बताया कि मुख्य झाँकी न आने की वजह से जुलूस निकलने में थोड़ी देर हो गई थी। इस दौरान मस्जिद में नमाज का समय हो गया और फिर हालात बिगड़ गए।

रामनवमी शोभा यात्रा पर देश के कई राज्यों में इस बार हमला हुआ है। ऐसी ही एक घटना मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के खरगोन से भी सामने आई थी। हिंसा करने वालों से शिवराज सरकार सख्ती से निपट रही है। जिला प्रशासन ने पत्थरबाजों के अवैध निर्माणों को बुलडोजर से ढाह दिया है।

10 अप्रैल 2022 को भड़की हिंसा में खरगोन के पुलिस अधीक्षक (SP) सिद्धार्थ चौधरी को भी गोली लगी थी। दैनिक भास्कर से बातचीत में उन्होंने विस्तार से उस दिन की घटना के बारे में बताया है। यह भी बताया है कि कैसे उनको गोली लगी और किस तरह पत्थरबाजी में उनका गनमैन घायल हुआ था।

एसपी ने बताया कि एक व्यक्ति तलवार लेकर हिंदुओं की तरफ दौड़ा था। उन्होंने 12-15 पुलिसवालों के साथ उसे पकड़ने की कोशिश की। पुलिस ने उसे पकड़ लिया, लेकिन वह छूटकर फिर से भागने लगा। फिर एसपी ने जैसे ही उसे दौड़कर पकड़ने की कोशिश की, किसी ने पीछे से उनके पैर पर गोली मार दी। चौधरी ने बताया कि शुरुआत में उन्हें लगा कि किसी ने पत्थर मारा है। लेकिन उनके गनमैन को समझ आ गया था कि गोली लगी है। सिर पर चोट लगे होने के बावजूद गनमैन खून से लथपथ एसपी को हॉस्पिटल लेकर गए।

एसपी सिद्धार्थ चौधरी ने बताया कि मुख्य झाँकी न आने की वजह से जुलूस निकलने में थोड़ी देर हो गई थी। इस दौरान मस्जिद में नमाज का समय हो गया और फिर हालात बिगड़ गए। उन्होंने बताया है कि प्रशासन झाँकियों को धीरे-धीरे आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन पीछे से कुछ लोगों ने पत्थर फेंकना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे लोग इकट्ठा हो गए और आगजनी करनी शुरू कर दी। संकरी और तंग गली होने के बावजूद पुलिस वालों ने जिन घरों में आग लगी थी, वहाँ से लोगों को सुरक्षित निकाला।

क्या है पूरा मामला?

10 अप्रैल को खरगोन के तालाब चौक इलाके में रामनवमी की शोभा यात्रा निकाली गई थी। इस यात्रा के दौरान कुछ लोगों ने पथराव किया। 30 से ज्यादा दुकानों और मकानों में आग लगा दी गई और मंदिरों में भी तोड़फोड़ की गई। इस हिंसा के दौरान छह पुलिसकर्मियों समेत 24 लोग घायल हो गए। हमले के बाद शांति-व्यवस्था कायम रखने के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया। एक रिपोर्ट के अनुसार यह घटना अचानक नहीं घटी। यह पूर्व नियोजित हमला था। उपद्रवियों ने पहले से ही छतों पर पत्थर और पेट्रोल बम जमा कर रखे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

जातिवाद, सांप्रदायिकता, परिवारवाद… PM मोदी ने देश को INDI गठबंधन की 3 बीमारियों से किया आगाह, कहा- ये कैंसर से भी अधिक विनाशक

पीएम मोदी ने कहा कि मोदी घर-घर पानी पहुँचा रहा है, सपा-कॉन्ग्रेस वाले आपके घर की पानी की टोंटी भी खोल कर ले जाएँगे और इसमें तो इनकी महारत है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -