Friday, August 6, 2021
Homeदेश-समाजजिसने 70 साल लड़ी रामलला की लड़ाई उनके उत्तराधिकारी चुने गए राम मंदिर ट्रस्ट...

जिसने 70 साल लड़ी रामलला की लड़ाई उनके उत्तराधिकारी चुने गए राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली औपचारिक बैठक में 9 प्रस्ताव पारित हुए। विहिप के चंपत राय को महासचिव चुना गया है। मोदी के प्रधान सचिव रहे नृपेंद्र मिश्रा को मंदिर निर्माण समिति का अध्यक्ष बनाया गया है।

अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के बनाए गए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक बुधवार को दिल्ली में हुई। इस ट्रस्ट का गठन सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केंद्र की मोदी सरकार ने किया था। बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। महंत नृत्य गोपाल दास को ट्रस्ट का अध्यक्ष और विहिप के चंपत राय को महासचिव चुना गया है। मोदी के प्रधान सचिव रहे नृपेंद्र मिश्रा को मंदिर निर्माण समिति का अध्यक्ष बनाया गया है।

उल्लेखनीय है कि महंत नृत्य गोपाल दास रामजन्भूमि न्यास के भी अध्यक्ष हैं। परमहंस रामचंद्र दास के निधन के बाद वे न्यास के अध्यक्ष चुने गए थे। परमहंस रामचंद्र दास ने करीब 70 साल तक रामलला की लड़ाई थी।

ट्रस्ट की पहली औपचारिक बैठक में 9 प्रस्ताव पारित हुए। बैठक में बसुदेवनन्द जी सरस्वती ने प्रस्ताव दिया कि नृत्यगोपाल दास को अध्यक्ष बनाया जाए। इसके बाद महंत नृत्यगोपाल दास को ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाया गया। वहीं गोविंद देव गिरी को कोषाध्यक्ष बनाया गया। ट्रस्ट की अगली बैठक अयोध्या में 15 दिनों के अंदर होगी। इस बैठक में मंदिर निर्माण की तारीख तय की जा सकती है।

आज सम्पन्न हुई बैठक में निर्माण कार्य पूरा करने की समयसीमा निर्धारित करने के मसलों पर भी चर्चा की गई। बैठक में हिस्सा लेने के लिए महंत धीरेंद्र दास, स्वामी परमानंद जी महाराज, वासुदेवानंद जी महाराज, चंपत राय, महंत नृत्य गोपाल दास, कामेश्वर चौपाल, अवनीश अवस्थी, महंत गोविंद गोविंद देव जी महाराज प्रसन्ना तीर्थ पहुँचे।

उत्‍तर प्रदेश सरकार की ओर से दो IAS अधिकरियों ने ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट’ की बैठक में भाग लिया। इन अधिकारियों में अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी और अयोध्या के जिला मजिस्ट्रेट अनुज झा शामिल थे। रिपोर्ट्स के अनुसार, उक्‍त दोनों अधिकारी ट्रस्ट में पदेन सदस्य होंगे और मंदिर निर्माण की प्रक्रिया में कानून और व्यवस्था की स्थितियों की देखरेख करते हुए मदद करेंगे। भविष्य में होने वाली बैठकों में भी पारदर्शी तरीकों पर खास तौर पर ध्यान दिया जाएगा, ताकि ‌भविष्य में किसी तरह का विवाद पैदा नहीं हो।

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने महंत नृत्य गोपाल दास और चंपत राय को ट्वीट कर बधाई दी।

बैठक में फैसला लिया गया है कि राम मंदिर का प्रारूप वही होगा जिस प्रारूप को विश्व हिंदू परिषद (VHP) और श्री राम जन्मभूमि न्यास ने पूरे देश में प्रसारित किया है। इसी प्रारूप पर विश्वास करके जनता ने सवा-सवा रुपए अंशदान करके सवा आठ करोड़ रुपए राम जन्मभूमि न्यास को दिया था। इस योगदान से 30 करोड़ रुपए के पत्थर बन कर तैयार हैं।

सोने का गर्भगृह, 2022 तक निर्माण पूरा: भव्य राम मंदिर के लिए महावीर मंदिर देगा ₹10 करोड़

15 दिन में 2.75 लाख गाँव में लगेगी भगवान राम की प्रतिमा, इन्हीं गाँवों से 30 साल पहले राम मंदिर के लिए आई थी ईंटे

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsश्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट, महंत नृत्य गोपाल दास, परमहंस रामचंद्र दास, विहिप चंपत राय, विश्व हिन्दू परिषद राम प्रतिमा, विहिप रामोत्सव, राम मंदिर मोदी सरकार, अयोध्या मोदी सरकार, अयोध्या पर गृह मंत्रालय में डेस्क, राम मंदिर अमित शाह, अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण, राम मंदिर अयोध्या फैसला, सुप्रीम कोर्ट अयोध्या मामला, अयोध्या राम मंदिर, विश्व हिन्दू परिषद, विश्व हिन्दू परिषद गीत, विश्व हिन्दू परिषद सदस्य, विश्व हिन्दू परिषद राम मंदिर, विहिप राम मंदिर, VHP राम मंदिर, रामजन्मभूमि न्यास, मंदिर निर्माण कार्यशाला, अयोध्या राम मंदिर, राम मंदिर सुप्रीम कोर्ट, राम मंदिर डिजाइन
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,145FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe