Wednesday, April 21, 2021
Home विविध विषय भारत की बात इस बाल दिवस छपरा के भगेरन तिवारी के बेटे और दरभंगा के अभिराम दास...

इस बाल दिवस छपरा के भगेरन तिवारी के बेटे और दरभंगा के अभिराम दास को याद कीजिए

लिबरलों, वामपंथियों और कॉन्ग्रेसियों के लिए ही नेहरू ने 4 जून 1949 को लिखा था, "मुझे यह कहना पड़ेगा कि कॉन्ग्रेस के लोग सुस्त हो गए हैं। तेजी से बदलती दुनिया में दिमाग के जड़ हो जाने और मुगालते में रहने से ज्यादा खतरनाक कोई चीज नहीं है।"

कार्टूनिस्ट आरके लक्ष्मण ने 1959 में कहा था, “जैसे-जैसे वक्त बीतता जा रहा है नेहरू की प्रतिष्ठा और प्रसिद्धि का आधार कमजोर होता जा रहा है।” 60 साल बाद यह आधार कितना खोखला हो चुका है यह दबी-छिपी बात नहीं। सो, बाल दिवस पर कॉन्ग्रेस के ‘चाचा नेहरू’ को याद करने से बेहतर है बिहार के छपरा के भगेरन तिवारी के बेटे और दरभंगा के अभिराम दास को याद कर लीजिए।

इन दोनों की कहानी में भी नेहरू आएँगे। लेकिन, भगेरन तिवारी के बटे और अभिराम दास आपको जिस छोर पर खड़े मिलेंगे, ठीक उसके विपरीत ध्रुव पर नेहरू दिखेंगे। इनको याद करने का एक कारण यह भी है कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण की हाल में ही नींव रखी गई है। करीब 500 साल बाद राम जन्मभूमि पर दीपोत्सव मनाया जा रहा है। यहाँ तक पहुॅंचने की लंबी संघर्ष यात्रा में भगेरन तिवारी के बेटे और अभिराम दास का बेहद महत्वपूर्ण योगदान है। योगदान तो नेहरू का भी है। रामलला की मूर्ति हटाने की नाकाम कोशिश का।

हेमंत शर्मा ‘युद्ध में अयोध्या’ में लिखते हैं कि भगेरन तिवारी के बेटे चंद्रशेखर तिवारी 1930 में जब अयोध्या आए तो वे आयुर्वेदाचार्य थे। दिगंबर अखाड़े की छावनी में परमहंस रामकिंकरदास से मिल वे रामचंद्रदास हो गए। काम मिला राम जन्मभूमि की मुक्ति का। 1934 में वे इस आंदोलन से जुड़े, 1975 में दिगंबर अखाड़े के महंत बने और 1989 में राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष। 1990 में अयोध्या में कारसेवकों के जिस जत्थे पर गोली चली उसका नेतृत्व भी परमहंस रामचंद्रदास ही कर रहे थे। राम जन्मभूमि पर मालिकाने और पूजा-पाठ के अधिकार को लेकर 1 जनवरी 1950 को फैजाबाद की अदालत में मुकदमा दायर करने वाले महंत रामचंद्र परमहंस ने 31 जुलाई 2003 को अंतिम सॉंसें ली। आखिरी दम तक वे राम जन्मभूमि के लिए लड़ते रहे।

कहानी के दूसरे नायक दरभंगा के मैथिल ब्राह्मण अभिराम दास गरीब परिवार से आते थे। 6 फुट के बलिष्ठ और हठी साधु अभिरामदास की गिनती अयोध्या के लड़ाकू साधुओं में होती थी। उनके बारे में ख्यात था कि उन्हें हनुमान जी की सिद्धि मिली हुई है। उनकी ख्याति रामजन्मभूमि के ‘उद्धारक बाबा’ के तौर पर थी। 3 दिसंबर 1981 को जब उनकी मौत हुई और हनुमानगढ़ी से उनका विमान (साधु की अर्थी) उठा तो ‘राम जन्मभूमि के उद्धारक अमर रहे’ के नारे लग रहे थे।

जिस मोड़ के कारण इन दोनों की कहानी में नेहरू आते हैं, वह 22-23 दिसंबर 1949 की दरम्यानी रात थी। ‘युद्ध में अयोध्या’ के मुताबिक हाड़ तोड़ने वाली ठंड की उस रात रामचंद्र परमहंस और अभिराम दास साधु-संतों के एक समूह के साथ सरयू स्नान करते हैं। नए वस्त्र धारण करते हैं। उनके साथ गीता प्रेस गोरखपुर के संस्थापक हनुमान प्रसाद पोद्दार (भाईजी) भी थे। भाईजी अष्टधातु की भगवान राम के बचपन की एक मूर्ति लेकर आए थे। मूर्ति का नदी किनारे ही पूजन-अर्चन होता। फिर मूर्ति को एक बॉंस की टोकरी में रख कपड़ों से ढका जाता है। बाबा अभिराम दास उसे सिर पर उठाते हैं। परमहंस रामचंद्र के हाथ सरयू जल से भरा एक तॉंबे का कलश होता है। समूह रामधुन गाता हुआ आगे बढ़ता है… और फिर विवादित ढॉंचे के नीचे रामलला बाल स्वरुप में भाइयों संग प्रकट होते हैं। सुबह के चार बजते-बजते रामजन्मभूमि स्थान पर मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा हो चुकी थी।

फिर इस कहानी में उस समय देश के प्रधानमंत्री रहे जवाहर लाल नेहरू की एंट्री होती है। हेमंत शर्मा लिखते हैं, “उत्तर प्रदेश के कुछ मुस्लिम नेताओं और देवबंद के उलेमाओं ने नेहरू को तार भेजकर उनका ध्यान अयोध्या की ओर दिलाया। नेहरू ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री गोविंद वल्लभ पंत और राज्य के गृह मंत्री लाल बहादुर शास्त्री को तत्काल मूर्तियों को हटाने के निर्देश दिए। लगातार केंद्र से संदेश लखनऊ आते और वैसे ही तार लखनऊ से फैजाबाद भेजे जाते कि मूर्तियॉं तुरंत हटाई जाएँ। 24 और 25 दिसंबर 1949 को लखनऊ में इस मुद्दे पर दिन भर उच्च स्तरीय बैठक होती रही। तय किया गया कि मूर्तियों को गर्भगृह से बाहर ले जाकर राम चबूतरे पर रखा जाएगा। पर फैजाबाद के सिटी मजिस्ट्रेट केकेके नायर इस बात पर अड़े रहे कि मूर्ति हटाने की घोषणा मात्र से खून-खराबा हो जाएगा।”

नायर के अड़ जाने के कारण मूर्तियॉं तो नहीं हटीं, पर नेहरू ने प्रयास नहीं छोड़े। देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभाई पटेल से भी पंत पर दबाव डलवाने की कोशिश की। शर्मा ने ​अपनी किताब में जिन घटनाओं और चिट्ठियों का जिक्र किया है, उनसे जाहिर होता है कि नेहरू मूर्तियॉं हटाने पर अमादा थे। लेकिन, नायर के अड़ने और पंत तथा पटेल के नरम रुख के कारण वे इसमें कामयाब नहीं हो पाए। शायद उस दिन नेहरू कामयाब हो जाते तो आज रामलला अपनी जन्मभूमि पर विराजमान नहीं होते।

ऐसा नहीं है कि नेहरू को ​अयोध्या में रामलला का होना ही नागवार था। उन्हें तो उस सोमनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण भी खटक रहा था, जिसे मुस्लिम अक्रांताओं ने कई बार तबाह किया था। वे यह भी नहीं चाहते थे कि 1951 में इस मंदिर के उद्घाटन समारोह में उस समय के राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद जाएँ। रामचंद्र गुहा ने अपनी किताब ‘भारत: गॉंधी के बाद’ में लिखा है कि जब राष्ट्रपति ने मंदिर के उद्धाटन समारोह में भाग लेने का फैसला किया तो यह बात नेहरू को पसंद नहीं आई। उन्होंने डॉ. राजेंद्र प्रसाद से कहा कि वे इसमें शामिल न हों, क्योंकि इसके कई मतलब निकाले जाएँगे। नेहरू ने कहा, “व्यक्तिगत रूप से मैं सोचता हूॅं कि सोमनाथ में विशाल मंदिर बनाने पर जोर देना का यह उचित समय नहीं था।” हालॉंकि प्रसाद ने उनकी बात नहीं मानी और उस गौरवशाली क्षण के साक्षी बने।

आखिर में लिबरलों, वामपंथियों और कॉन्ग्रेसियों के लिए ह्वाटसएप यूनिवर्सिटी का ज्ञान छोड़े जा रहा हूँ। इसका जिक्र पीयूष बबेले ने अपनी किताब ‘नेहरू: मिथक और सत्य’ में किया है। इस किताब के मुताबिक 4 जून 1949 को कॉन्ग्रेसी मुख्यमंत्रियों को नेहरू एक पत्र लिखते हैं। इसमें कहते हैं, “मुझे यह कहना पड़ेगा कि कॉन्ग्रेस के लोग सुस्त हो गए हैं। तेजी से बदलती दुनिया में दिमाग के जड़ हो जाने और मुगालते में रहने से ज्यादा खतरनाक कोई चीज नहीं है।” जिन्हें यह भी गोदी मीडिया का प्रोपेगेंडा ​लग रहा हो उनके लिए गौर करने वाली बात यह है कि इस किताब की भूमिका काली स्क्रीन वाले रवीश कुमार ने लिखी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश के 3 सबसे बड़े डॉक्टर की 35 बातें: कोरोना में Remdesivir रामबाण नहीं, अस्पताल एक विकल्प… एकमात्र नहीं

देश में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। 2.95 लाख नए मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़ कर...

‘गैर मुस्लिम नहीं कर सकते अल्लाह शब्द का इस्तेमाल, किसी अन्य ईश्वर से तुलना गुनाह’: इस्लामी संस्था ने कहा- फतवे के हिसाब से चलें

मलेशिया की एक इस्लामी संस्था ने कहा है कि 'अल्लाह' एक बेहद ही पवित्र शब्द है और इसका इस्तेमाल सिर्फ इस्लाम के लिए और मुस्लिमों द्वारा ही होना चाहिए।

आज वैक्सीन का शोर, फरवरी में था बेकारः कोरोना टीके पर छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार ने ही रचा प्रोपेगेंडा

आज छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री इस बात से नाखुश हैं कि पीएम ने राज्यों को कोरोना वैक्सीन देने की बात नहीं की। लेकिन, फरवरी में वही इसके असर पर सवाल उठा रहे थे।

पंजाब के 1650 गाँव से आएँगे 20000 ‘किसान’, दिल्ली पहुँच करेंगे प्रदर्शनः कोरोना की लहर के बीच एक और तमाशा

संयुक्त किसान मोर्चा ने 'फिर दिल्ली चलो' का नारा दिया है। किसान नेताओं ने कहा कि इस बार अधिकतर प्रदर्शनकारी महिलाएँ होंगी।

हम 1 साल में कितने तैयार हुए? सरकारों की नाकामी के बाद आखिर किस अवतार की बाट जोह रहे हम?

मुफ्त वाई-फाई, मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी से आगे लोगों को सोचने लायक ही नहीं छोड़ती समाजवाद। सरकार के भरोसे हाथ बाँध कर...

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,653FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe