Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र सरकार के खिलाफ न करें कोई नकारात्मक टिप्पणी: IMA ने डॉक्टरों को दी...

महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ न करें कोई नकारात्मक टिप्पणी: IMA ने डॉक्टरों को दी हिदायत

“मुझे यकीन है, हम IMA के सदस्य समाज के प्रतिष्ठित लोग हैं और हम ऐसी किसी भी गतिविधि में शामिल नहीं होंगे। हम कोरोना वायरस की महामारी को नियंत्रित करने के लिए अपना अभियान जारी रखेंगे।”

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) की महाराष्ट्र इकाई ने राज्य में डॉक्टरों को सूचित किया है कि व्हाट्सएप ग्रुपों में राज्य सरकार के फैसलों के खिलाफ कोई ‘अपमानजनक’ टिप्पणी नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने कहा है कि वो व्हाट्सएप ग्रुप में मैसेज भेज सकते हैं, अपनी प्रतिक्रियाएँ दे सकते हैं, मगर इसकी भाषा ‘गैर-अपमानजनक’ होनी चाहिए।

दरअसल, एक पत्र सामने आया है, जिसमें IMA की महाराष्ट्र इकाई के प्रदेश अध्यक्ष डॉ अविनाश भोंडवे और राज्य सचिव डॉ पंकज बंदरकर के दस्तखत हैं। इसमें डॉक्टरों से कहा गया है कि उन्हें महराष्ट्र साइबर सेल से ‘सूचना’ मिली थी कि व्हाट्सएप ग्रुपों में कुछ डॉक्टर महाराष्ट्र सरकार और उनके अधिकारियों के खिलाफ टिप्पणी कर रहे हैं।

ऑपइंडिया द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार, यह एक आधिकारिक पत्र है जो IMA की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष ने अपने व्हाट्सएप ग्रुपों में पोस्ट किया है। पत्र में कहा गया, “मुझे यकीन है, हम IMA के सदस्य समाज के प्रतिष्ठित लोग हैं और हम ऐसी किसी भी गतिविधि में शामिल नहीं होंगे। हम कोरोना वायरस की महामारी को नियंत्रित करने के लिए अपना अभियान जारी रखेंगे।” पत्र को संगठन के सभी पदाधिकारियों को संबोधित किया गया था और उन्हें व्हाट्सएप ग्रुप पर सरकार की आलोचना के खिलाफ एहतियात बरतने के लिए कहा गया था।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले ही मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल के कर्मचारी ने वीडियो बनाकर अस्पताल के अंदर PPE (Personal Protection Equipment) की कमी को उजागर करने की कोशिश की तो उनके खिलाफ कार्रवाई की गई। स्टाफ यह दिखाने की कोशिश कर रहा था कि PPE किट की कमी है, इसके बावजूद भी वो लोग अपनी जान को जोखिम में डालकर मरीजों का इलाज कर रहे हैं। उन्हें भी इस संक्रमण का खतरा है। आखिर वो भी तो इंसान ही हैं। मगर स्टाफ को PPE किट की बात को उजागर करना भारी पड़ गया।

कोरोना संकट से निपटने में नाकाम महाराष्ट्र सरकार

बता दें कि वुहान कोरोनावायरस संकट से निपटने के लिए महाराष्ट्र सरकार की काफी आलोचना हो रही है। आरोप लगाए गए हैं कि राज्य सरकार अपने प्रदेश में लॉकडाउन लागू कराने में बुरी तरह विफल रही है। हाल ही में, बांद्रा में एक मस्जिद के पास अफवाहों की वजह से प्रवासी मजदूरों का एक विशाल जमावड़ा इकट्ठा हुआ था, जो गलत सूचनाओं के कारण इकठ्ठा हुआ था। परिवार और स्वास्थ्य कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट के अनुसार अभी तक राज्य में कोरोना संक्रमण के कुल 4203 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 507 डिस्चार्ज हो गए हैं और 223 लोगों की मौत हो चुकी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe