Sunday, June 23, 2024
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र: ट्वीट ने 'अपराजित भारत' को पहुँचाया सलाखों के पीछे, एससी/एसटी एक्ट में मामला...

महाराष्ट्र: ट्वीट ने ‘अपराजित भारत’ को पहुँचाया सलाखों के पीछे, एससी/एसटी एक्ट में मामला दर्ज, 3 दिन की पुलिस हिरासत

महाराष्ट्र के मुलुंड में सोशल मीडिया पोस्ट की वजह से एक एक्स यूजर अमेय प्रधान को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने @AparBharat नाम के एक्स हैंडल पर कुछ पोस्ट किए थे।

महाराष्ट्र के मुलुंड में सोशल मीडिया पोस्ट की वजह से एक एक्स यूजर अमेय प्रधान को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने @AParaBharat नाम के एक्स हैंडल पर कुछ पोस्ट किए थे। बताया जा रहा है कि शुक्रवार (9 फरवरी 2024) की रात बिना किसी नोटिस के गिरफ्तार कर लिया गया।

ऑपइंडिया के पास मौजूद एफआईआर की कॉपी के मुताबिक, एक्स यूजर अमेय प्रधान ने भारत रत्न डॉ भीमराव आंबेडकर के खिलाफ कुछ ट्वीट पोस्ट किए थे, जिसकी वजह से उनके अनुयायियों की “धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँची।” इस मामले में नासिक साइबर पुलिस स्टेशन ने उन पर एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, नासिक पुलिस ने अमेय प्रधान को कोर्ट में पेश किया था, जहाँ उन्हें 3 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

इन ट्वीट्स की वजह से जेल पहुँचे अमेय प्रधान..

ट्वीट-1: “मुझे खुशी है कि आपने स्वीकार किया कि डॉ. बीआर आंबेडकर की विचारधारा इस देश में फेल हो गई है। उन्होंने भारत को कभी नहीं देखा, उन्हें बस यही पता था कि भारत के बारे में अंग्रेजों ने इतिहास को तोड़-मरोड़ कर पेश किया है।”

ट्वीट-2: “उन्हें एहसास हो गया है कि 21वीं सदी में धीरे-धीरे आंबेडकर बेनकाब हो जाएँगे। इसलिए वे फर्जी कहानी को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं।”

ट्वीट-3: “आंबेडकर का उल्लेख स्वतंत्रता सेनानी के रूप में क्यों किया जाता है…?”

नासिक पुलिस स्टेशन में हेमंत तायडे नाम के एक अन्य एक्स यूजर ने शिकायत दर्ज कराई थी।

एफआईआर के मुताबिक, शिकायतकर्ता ने प्रधान द्वारा अपने एक्स हैंडल पर किए गए तीन पोस्ट के स्क्रीनशॉट सौंपे। शिकायतकर्ता ने कहा कि उसकी आरोपित के साथ कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है और वह किसी राजनीतिक दल से जुड़ा नहीं है।

एफआईआर में इन तीन ट्वीट्स का जिक्र किया गया है।

शिकायत में कहा गया है, “7/2/2024 को सुबह 11.30 बजे अपनी प्रोफ़ाइल @hemanttayade2 पर जाते समय, मुझे प्रकाश आंबेडकर की एक पोस्ट मिली, जिस पर अपराजित भारत नाम के एक्स यूजर ने डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के अपमान के साथ जवाब दिया था।” शिकायत में आगे कहा गया है कि प्रधान के पोस्ट संभावित रूप से दो समुदायों के बीच तनाव पैदा कर सकते हैं। शिकायत में उल्लेख किया गया है कि आरोपित “उच्च जाति” से है।

शिकायत में कहा गया है कि, “हमारा समुदाय डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की पूजा करता है, उनका सम्मान करता है। हम उन्हें अपना भगवान मानते हैं और उनकी पूजा करते हैं। एक्स उपयोगकर्ता @Aparभारत ने दो समुदायों के बीच विभाजन पैदा करने और सामाजिक एकता को खतरे में डालने और अपने पोस्ट के माध्यम से शांति को बाधित करने का प्रयास करके मेरी और मेरे समुदाय की धार्मिक और सामाजिक भावनाओं को ठेस पहुँचाई है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -