Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजजिस पालघर में पीट-पीटकर हुई थी साधुओं की हत्या, वहाँ अब ST महिला के...

जिस पालघर में पीट-पीटकर हुई थी साधुओं की हत्या, वहाँ अब ST महिला के घर में घुसे ईसाई मिशनरी के एजेंट: धर्मांतरण का बना रहे थे दबाव, 4 गिरफ्तार

वनवासी महिला को पहले लालच दे देकर ईसाई धर्म स्वीकारने के लिए मजबूर बनाया गया और जब उसने कोई बात नहीं सुनी तो इन मिशनरियों ने उसके घर में घुसकर उसे धमकी दी।

महाराष्ट्र के पालघर जिले के डहाणू इलाके में वनवासी महिला को ईसाई बनाने के लिए घर में घुसे 4 मिशनरी एजेंटों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। ये लोग वनवासी महिला की स्थिति को देख उसके पास आए थे और उसे पैसों का लालच देकर ईसाई धर्म स्वीकारने को कह रहे थे। महिला का आरोप है कि उसके मना करने के बावजूद इन लोगों ने उसपर दबाव बनाया और न मानने पर घर में घुस धमकी भी दी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इन आरोपितों की पहचान क्लेमंत डी बेला, मरियम टी फिलिप्स, परमजीत कौर और परशुराम धर्म ढिंगाणा के तौर पर हुई है। वनवासी महिला की शिकायत के आधार पर इनके विरुद्ध आईपीसी की धारा 153, 295, 448 और 34 में केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने इन्हें 5 अगस्त को गिरफ्तार किया था।

इन चारों पर आरोप है कि ये वनवासी महिला के घर में तब घुसे जब वो घर में अकेली थी। इसके बाद इन्होंने उसे पैसे का लालच दिया व अन्य कई लुभावने ऑफर दिए। मगर, जब महिला ने नहीं सुना तो इन लोगों ने उसे धमकी देनी शुरू कर दी।

हालाँकि, मौके पर पहुँचे ग्रामीणों के कारण महिला को इन लोगों के चंगुल से छुड़ा लिया गया और पुलिस को इस संबंध में सूचित किया गया। इसके बाद इन चारों की गिरफ्तारी हुई।

वकील आशुतोष जे दुबे ने अपने ट्विटर पर घटना संबंधी वीडियो को शेयर किया। इसमें दो महिला और एक पुरुष सफेद कपड़े पहने देखा जा सकता है। इसके अलावा एक गाड़ी की वीडियो है जिसमें ‘गॉड इज लव, गुड एंड ग्रेट लिखा है।’

वीडियो में राष्ट्रीय हिंदू सेवा संघ के लोगों को ईसाई मिशनरियों से सवाल करते देखा जा सकता हैं। वहीं आसपास देख सकते हैं कि इन मिशनरियों के पास छानबीन में पैसों के लिफाफे मिले। वीडियो बनाने वाले लोग इन लिफाफों और पैसों को दिखाकर दावा करते हैं कि इन्हीं को देकर ये लोग आदिवासियों पर ईसाई धर्म स्वीकारने के दबाव बनाते हैं।

पालघर में सक्रिय ईसाई मिशनरियाँ

बता दें कि महाराष्ट्र के पालघर जिले के सूदुर आदिवासी इलाकों में लंबे समय से ईसाई मिशनरियाँ सक्रिय हैं। ये लोग न केवल लोगों को ईसाई धर्म में आने के लिए तरह-तरह के ऑफर देते हैं। बल्कि हिंदू आस्था के प्रति घृणा को भी बढ़ावा देते हैं। कथिततौर पर हिंदू धर्म, संस्कृति और पूजा पाठ करने की पद्धति का मजाक उड़ाना इन लोगों के लिए आम हैं।

2019 में पालघर में कुछ ईसाई उपदेशकों व नाराज स्थानीयों में झड़प भी हुई थी। तब, इन मिशनरियों ने आकर हनुमान जी को बंदर और भगवान गणेश को हाथी कहा था। इसके अलावा साल 2020 में इसी पालघर में दो साधुओं की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। तब भी यही सामने आया था कि लेफ्ट विंग नक्सलियों और मिशनरियों का इन सबमें हाथ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -