Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजदेश लौटते ही PM मोदी ने मणिपुर पर लिया अपडेट: एक्शन में सुरक्षा बल,...

देश लौटते ही PM मोदी ने मणिपुर पर लिया अपडेट: एक्शन में सुरक्षा बल, 12 बंकर ध्वस्त; 135 दंगाई दबोचे

नष्ट करने से पहले इन बंकरों की तलाशी ली गई। इस तलाशी में 51 mm और 84 mm के 3-3 मोर्टार सेल पाए गए। ये हथियार साहूमफाई नामक गाँव में एक धान के खेत में बने बंकर में छिपाए गए थे।

मणिपुर में शान्ति बहाली के प्रयासों में लगे सुरक्षा बलों ने पिछले 24 घंटों में 12 बंकरों को ध्वस्त कर दिया है। ये बंकर प्रदेश के अलग-अलग जिलों में बनाए गए थे। इन बंकरों से हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए हैं। इस कार्रवाई में मणिपुर राज्य पुलिस बल के अलावा केंद्रीय सुरक्षा बल शामिल हैं। तलाशी के साथ उपद्रवियों की धरपकड़ का अभियान अभी जारी है। पुलिस ने हालात को तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण ने बताया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर के उन्हें अब तक के हालत से अवगत करवाया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 25 जून, 2023 (रविवार) को मणिपुर पुलिस ने एक बयान जारी कर के अब तक हुई कार्रवाई की जानकारी दी है। पुलिस ने बताया कि केंद्रीय बलों के साथ कर तलाशी अभियान पूर्वी इंफाल, तामेंगलॉन्ग, विष्णुपुर, कांगपोकरी, चूड़ाचंदपुर और ककचिंग जिलों में चलाया गया। इस दौरान पुलिस को पहाड़ों की घाटी और चोटी दोनों स्थानों पर दर्जन भर बंकर बने मिले। ये बंकर उपद्रवियों द्वारा बनाए गए थे जिन्हें नष्ट कर दिया गया है।

नष्ट करने से पहले इन बंकरों की तलाशी ली गई। इस तलाशी में 51 mm और 84 mm के 3-3 मोर्टार सेल पाए गए। ये हथियार साहूमफाई नामक गाँव में एक धान के खेत में बने बंकर में छिपाए गए थे। इसके अतिरिक्त कांगवाई गाँव के पास एक खेत में विस्फोटक IED बरामद हुई है। मोर्टार और IED को छापेमारी दस्ते के साथ चल रहे बम निरोध दस्ते ने फ़ौरन ही निष्क्रिय कर दिया। मणिपुर पुलिस ने कई जिलों में हालत सामान्य बताया है। हालाँकि कुछ जिलों में हालात तनावपूर्ण होना स्वीकार करते हुए पुलिस ने वहाँ स्थिति नियंत्रण में बताया।

पुलिस ने बताया कि अब तक कुल 135 उपद्रवियों की गिरफ्तारियाँ हुई हैं। ये उपद्रवी दुकानों-मकानों को लूटने, कर्फ्यू का उल्लंघन करने, चोरी करने और तनाव फैलाने जैसे मामलों में आरोपित हैं। हिंसा के बाद कुल 1100 अवैध हथियार बरामद किए गए हैं। इसके अतिरिक्त 13702 गोलियाँ और 250 बमों को भी पुलिस ने जब्त किया है। पुलिस ने बताया कि तनावपूर्ण क्षेत्रों में तलाशी अभियान के साथ फ्लैग मार्च किया जा रहा है।

किसी भी प्रकार की अफवाह फैलने पर उसकी पुष्टि के लिए कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है जिसका नंबर 9233522822 है। पुलिस ने लोगों से शांति स्थापना में सहयोग करने की अपील की है।

पीएम मोदी ने लिया हालात का अपडेट

एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी दौरे से लौट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मणिपुर के हालात की जानकारी ली। सोमवार (26 जून) को उन्होंने इस मामले के तमाम अपडेट पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को बुला कर पूरे मामले पर बातचीत की। रविवार (25 जून) को मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने दिल्ली में अमित शाह से मिल कर उन्हें पूरे मामले से अवगत करवाया था। अमित शाह ने राज्य सरकार को हर सम्भव मदद कर भरोसा दिया था और उपद्रवियों से सख्ती से निबटने के निर्देश दिए थे। इस बीच प्रदेश में इंटरनेट बैन को 30 जून तक बढ़ा दिया गया है।

बताते चलें कि 3 मई 2023 को ऑल ट्राइबल स्टूडेंट यूनियन (ATSU) की रैली के बाद मणिपुर में हिंसा भड़क गई थी। हिंसा का कारण बहुसंख्यक मेइती समुदाय को अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने का फैसला और सरकारी भूमि का सर्वेक्षण है। मैतेई को जनजाति का दर्जा देने का विरोध कुकी और नागा समुदाय कर रहे हैं। आजादी के बाद से कुकी और नागा समुदायों को आदिवासी का दर्जा मिला हुआ है। मैतेई बहुसंख्यक हैं और पड़ोसी देशों से हो रहे लगातार घुसपैठ को लेकर वे चिंतित हैं।

उनका कहना है कि म्यांमार और बांग्लादेश के अवैध प्रवासी पहाड़ी इलाकों में बड़े पैमाने पर बस रहे हैं। इससे उनकी सांस्कृतिक पहचान को खतरा उत्पन्न हो गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -