Monday, May 27, 2024
Homeदेश-समाजशौहर ने संतान की चाह में बीवी को किया आलिम इस्माइल के हवाले... उसने...

शौहर ने संतान की चाह में बीवी को किया आलिम इस्माइल के हवाले… उसने किया रेप: AajTak बता रहा ‘तांत्रिक’

2 साल पहले ताहिर का निकाह हुआ। संतान न होने के कारण ताहिर ने आलिम इस्माइल को इस बारे में बताया। इस्माइल ने झाँसा देकर दुष्कर्म किया। दुष्कर्म के वक्त पीड़िता ने अपने शौहर से उसे बचाने की गुहार भी लगाई लेकिन बेशर्म ताहिर सब कुछ देखता रहा।

उत्तर प्रदेश के मेरठ में संतान की चाहत में एक शौहर की शर्मनाक करतूत सामने आई है। शौहर ने अपनी ही बीवी को अपने दोस्त इस्माइल के हवाले कर दिया। मीडिया ने उसे ‘तांत्रिक’ बताया। तंत्र-मंत्र का झाँसा देकर इस्माइल ने महिला के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दे डाला। जिसके बाद शौहर फैयाज अली और इस्माइल द्वारा छली गई महिला की शिकायत पर पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया।

मामला मेरठ के थाना दिल्ली गेट क्षेत्र के पूर्व फैयाज अली का है। यहाँ 2 साल पहले ताहिर का निकाह हुआ। 2 साल में संतान न होने के कारण ताहिर और उसकी बीवी के बीच अक्सर झगड़ा रहने लगा। जिसके बाद ताहिर ने अपने दोस्त इस्माइल को इस बारे में बताया। इस्माइल पेशे से आलिम है, इसीलिए ताहिर उसकी मदद लेकर संतान की उत्पत्ति का सपना देखने लगा। संतान के सुख के सपने दिखाकर ताहिर बीबी को आलिम के पास जाने के लिए राजी कर लिया, जिसके बाद आलिम इस्माइल उसके घर में आना-जाना शुरू कर दिया।

पीड़ित महिला का आरोप है कि इस्माइल ने झाँसा देकर उसके साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दे डाला। दुष्कर्म के वक्त महिला ने अपने शौहर से उसे बचाने की गुहार भी लगाई लेकिन बेशर्म ताहिर सब कुछ देखता रहा। इस्माइल की इस शर्मनाक करतूत में ताहिर की सहमति भी शामिल थी। जिसके चलते महिला ने दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी।

पुलिस ने इस मामले की जाँच की तो हकीकत खुलकर सामने आ गई। सीओ, कोतवाली अरविंद चौरसिया ने बताया कि दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। महिला के शौहर ताहिर को भी धारा 120b का मुजरिम बनाया गया है।

गौरतलब है कि मीडिया अक्सर मौलवियों को और फकीरों को ‘बाबा’ या ‘तांत्रिक’ लिख कर चलाता है, जिससे ऐसा लगता है जैसे आरोपित कोई हिन्दू साधु-संत ही हो। साथ ही फकीरों के झाड़-फूँक को भी ‘तंत्र-मंत्र’ लिख कर चलाता है। तांत्रिक शब्द से ऐसा प्रतीत होता है जैसे रेप का प्रयास करने वाला हिंदू हो, इसीलिए मीडिया भी फकीरों और मौलवियों के पकड़े जाने पर भी ‘धर्मगुरु’ और ‘तांत्रिक’ शब्द का धड़ल्ले से इस्तेमाल तो करता ही है, उसकी असली पहचान छिपाने के लिए खबर की हेडिंग से भी खेलता है। इस बार भी ‘आज तक’ और ‘अमर उजाला’ जैसे संस्थानों ने ऐसा ही खेल किया है। 

इससे पहले भी NDTV से लेकर कई मीडिया संस्थान भ्रामक हेडिंग्स के जरिए हिन्दुओं को बदनाम करते रहे हैं। मीडिया इससे पहले भी इस तरह का खेल कर चुका है। इसी तरह निकाह-हलाला के नाम पर एक युवती का बलात्कार करने वाले आरोपित अनवर खान का नाम NDTV ने उसे ‘बाबा’ कह कर छिपाया था, जैसे वो कोई हिन्दू साधु हो। इसी तरह एक अन्य बलात्कारी के मामले में नई दुनिया समेत कई मीडिया पोर्ट्ल्स ने इस खबर को प्रकाशित किया था और हेडलाइन में मुस्लिम आलिम की जगह ‘तांत्रिक’ शब्द का प्रयोग किया था।

इसी तरह उत्तर-पूर्वी दिल्ली के हर्ष विहार में एक मस्जिद में बलात्कार की घटना सामने आई थी। मस्जिद में पानी लेने गई 12 साल की लड़की का मौलवी इलियास ने रेप किया था। ‘दैनिक भास्कर’ ने लिखा था – ‘धार्मिक स्थल पर हुई वारदात। जब किसी छोटे से छोटे मामले में भी मंदिर की पहचान नहीं छिपाई जाती, तो फिर मस्जिद की पहचान छिपाने का क्या उद्देश्य था? कई अन्य मीडिया संस्थान ने भी ऐसा किया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

10 साल बाद KKR ने जीता IPL का खिताब, तीसरी बार चैंपियन बने: सनराइजर्स हैदराबाद को 8 विकेट से हराया, 10 ओवरों में किया...

आईपीएल 2024 का फाइनल मुकाबला कोलकाता नाइट राइडर्स ने जीत लिया। कोलकाता ने फाइनल मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को आठ विकेट से हराया।

‘मुस्लिम बस्ती में रहना है तो बनो मुसलमान, हिंदू देवताओं की पूजा बंद करो’ : फतेहपुर के शिव-कविता की घरवापसी की कहानी, 20 साल...

शिव और कविता वाराणसी के रहने वाले थे, लेकिन रोजगार की तलाश में वो फतेहपुर आ गए। यहाँ उन्हें मकान देने वाले अमिल शेख ने मजबूर करके इस्लाम कबूल करवाया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -