Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजमेरठ से लापता किशोरी शाहीन बाग में मिली, शहजाद पर अगवा करने और धर्म...

मेरठ से लापता किशोरी शाहीन बाग में मिली, शहजाद पर अगवा करने और धर्म परिवर्तन की कोशिश का आरोप

कुछ दिनों पहले ही किशोरी की मुलाकात शहजाद से हुई थी। 25 जनवरी को वह अचानक गायब हो गई। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए उसे 28 जनवरी को शाहीन बाग से बरामद किया। किशोरी से पूछताछ के बाद आरोपित शहजाद को गिरफ्तार किया।

यूपी के मेरठ से लापता हुई किशोरी को पुलिस ने ढूँढ लिया है। किशोरी दिल्ली के शाहीन बाग से बरामद की गई। यह इलाका आजकल सीएए के खिलाफ विरोध और अपने कट्टरपंथी एजेंडे को लेकर चर्चा में है। पुलिस ने आरोपित शहजाद को भी गिरफ्तार कर लिया है। उस पर किशोरी को बहला-फुसलाकर ले जाने का आरोप है। यह भी कहा जा रहा है कि वह किशोरी का धर्म परिवर्तन कराना चाहता था। लेकिन उससे पहले ही यूपी पुलिस ने उसे दबोच लिया।

किशोरी मेरठ के परतापुर के सोरखा गाँव की रहने वाली है। कुछ दिनों पहले ही उसकी मुलाकात शहजाद से हुई थी और फिर 25 जनवरी को वह गायब हो गई। किशोरी के परिजनों ने आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। किशोरी के परिजनों ने शिकायत में आरोप लगाया कि शहजाद उसे अगवा कर जबरन उसका धर्म परिवर्तन करना चाहता है। इसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अपहृत किशोरी को मंगलवार (जनवरी 28, 2020) को दिल्ली के शाहीन बाग से बरामद किया। किशोरी से पूछताछ के बाद आरोपित शहजाद को गिरफ्तार किया।

दैनिक जागरण के मेरठ संस्करण में 29 जनवरी 2020 प्रकाशित खबर

इस घटना को लेकर हिंदू संगठनों के लोगों ने भी विरोध जताया है। परतारपुर के इंस्पेक्टर आनंद कुमार मिश्रा के हवाले से दैनिक जागरण की रिपोर्ट में बताया गया है कि शहजाद ने शनिवार को फोन कर किशोरी से संपर्क किया और उसे झॉंसे में लेकर दिल्ली चला गया। देर रात किशोरी के घर न लौटने पर परिजनों ने थाने में शिकायत की थी। एसपी सिटी डॉ. एएन सिंह का कहना है कि युवक से पूछताछ की जा रही है जबकि किशोरी के बयान दर्ज किए गए हैं। सीओ ब्रह्मपुरी चक्रपाणि त्रिपाठी का कहना है कि यह मामला अपहरण का है या नहीं, इसकी जाँच की जा रही है।

गौरतलब है कि बीते साल मेरठ की एक हिंदू युवती के इसी तरह झॉंसे में आकर दुबई चली जाने की खबर सामने आई थी। मेरठ के कंकड़खेड़ा के एक व्यापारी की बेटी पाकिस्तानी युवक नदीम ख़ान के चंगुल में फँस कर दुबई भागी थी। हालॉंकि करीब एक महीने बाद दिसंबर में वह घर लौट आई थी। 8 नवंबर को घर से कुछेक हज़ार रुपए लेकर निकली युवती ने बताया था, “मुझे नौकरी का झाँसा देकर पाकिस्तानी युवक नदीम इक़बाल ने बुलाया था, लेकिन वो मुझे दुबई में नहीं मिला। भारतीय दूतावास और केरल की एक फैमिली की मदद से मैं अपने घर लौट सकी हूँ।”

14 साल की लड़की का अपहरण: जबरन धर्म परिवर्तन… फिर किडनैपर अब्दुल से ही निकाह

अनुज से शादी के लिए शबाना बनी सरिता: लड़की के घर वालों ने दोनों की जिन्दा जलाने की दी धमकी

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe