Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजअब तक 141 मौतें, BJP सांसद के 12 रिश्तेदारों की भी मौत: चश्मदीद का...

अब तक 141 मौतें, BJP सांसद के 12 रिश्तेदारों की भी मौत: चश्मदीद का दावा- कुछ लोग हिला रहे थे मोरबी का हैंगिंग ब्रिज

मोरबी म्युनिसिपल चीफ अफसर संदीप सिंह झाला ने कहा है कि पुल को खोलने से पहले अनुमति नहीं ली गई थी। पुल पर सामान्य तौर पर एक साथ 20 से 25 लोगों को जाने की अनुमति ही दी जाती है। लेकिन हादसे के वक्त करीब 500 लोग पुल पर थे।

गुजरात के मोरबी में हुए हादसे में अब तक 141 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। स्थानीय बीजेपी सांसद मोहनभाई कुंदरिया के 12 रिश्तेदार भी इनमें शामिल हैं। राहत और बचाव के काम चल रहे हैं। मच्छु नदी पर बना केबल पुल रविवार (30 अक्टूबर 2022) शाम टूट गया था।

अभी भी करीब 200 लोग लापता बताए जा रहे हैं। 140 साल पुराने इस पुल को रिनोवेशन के बाद कुछ दिन पहले ही खोला गया था। लेकिन अब यह तथ्य सामने आ रहा है कि ऐसा बिना फिटनेस सर्टिफिकेट के ही कर दिया गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना की जाँच के लिए 5 सदस्यों की SIT का गठन किया गया है। शुरुआती जाँच के मुताबिक घटना के समय पुल पर क्षमता से अधिक भीड़ मौजूद थी। साथ ही लोगों को रोकने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई थी। गुजरात के गृह मंत्री ने बताया कि पुलिस ने मामले में IPC की धारा 304, 308 और 114 के तहत FIR दर्ज कर के जाँच शुरू कर दी है। उन्होंने जानकारी दी है कि राहत और बचाव कार्यों के लिए NDRF, नेवी के साथ स्थानीय प्रशासन की टीमें सक्रिय हैं।

हिलाया जा रहा था पुल को

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा। एक वीडियो में दावा किया जा रहा है कि कुछ लोग पुल को हिलाने का प्रयास कर रहे है। इस दौरान किसी ने भी उन्हें रोकने की कोशिश नहीं की। इसको लेकर दावा किया जा रहा है कि कुछ लोग पुल को हिलाने की कोशिश कर रहे थे। आपइंडिया इन दावों की पुष्टि नहीं करता। लेकिन एनडीटीवी ने विजय गोस्वामी नाम के एक प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से ऐसा ही दावा किया है। विजय का कहना है कि युवकों द्वारा की गई इस हरकत को देख वे कर वो आधे पुल से परिवार सहित वापस लौट आए थे।

न फिटनेस, न ही अनुमति

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मोरबी म्युनिसिपल चीफ अफसर संदीप सिंह झाला ने कहा है कि पुल को खोलने से पहले अनुमति नहीं ली गई थी। उन्होंने बताया कि पुल का फिटनेस सर्टिफिकेट भी नहीं था। उन्होंने बताया कि पुल पर सामान्य तौर पर एक साथ 20 से 25 लोगों को जाने की अनुमति ही दी जाती है। लेकिन हादसे के वक्त करीब 500 लोग पुल पर थे। इस पुल का ठेका ओरेवा के पास है।

177 को बचाया गया, 19 का इलाज जारी

एक रिपोर्ट के मुताबिक नदी में गिरे 177 लोगों को अब तक बचाया जा चुका है। 19 घायलों का इलाज अस्पताल में चल रहा है। गुजरात के CM भूपेन्द्र पटेल ने रविवार को मोरबी पहुँच घटनास्थल का निरीक्षण किया। अस्पताल में भर्ती घायलों और उनके परिजनों से मिले।

राज्य सरकार द्वारा मृतकों के परिजनों को 4 लाख रुपए और केंद्र सरकार द्वारा उन्हें 2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता की घोषणा हुई है। इसके अलावा घायलों के परिजनों को केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा 50-50 हजार रुपए की मदद दी जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -