Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजJNU के 65% छात्रों ने भर भी दी नई हॉस्टल फीस, इस मुद्दे पर...

JNU के 65% छात्रों ने भर भी दी नई हॉस्टल फीस, इस मुद्दे पर महीनों से बवाल काट रहे हैं वामपंथी

“15 जनवरी को विंटर सेमेस्टर के लिए रजिस्ट्रेशन की अंतिम तारीख थी। इसकी वजह से फीस काउंटर्स पर छात्रों की भारी भीड़ जमा रही। कई स्टूडेंट्स तारीख बढ़ाने की गुजारिश के साथ हमारे पास पहुँचे। उनकी उनकी सुविधा को देखते हुए रजिस्ट्रेशन की तारीख आखिरी बार 2 दिन के लिए बढ़ा दी गई है।”

जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्याल (JNU) के हॉस्टल फीस में हुई वृद्धि को लेकर पिछले कई महीनों से बवाल चल रहा है। इस बीच जेएनयू प्रशासन ने बताया कि 65% से ज्यादा स्टूडेंट्स ने नई हॉस्टल फीस भरकर विंटर सेमेस्टर के लिए रजिस्ट्रेशन करा लिया है। जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने गुरुवार (जनवरी 16, 2019) को इसकी जानकारी दी। बता दें कि छात्रों ने होस्टल फीस नई दरों के हिसाब से जमा की है।

वीसी ने बताया कि 8500 स्टूडेंट्स जेएनयू में पढ़ते हैं और इनमें से 6450 हॉस्टल में रहते हैं, बाकी डे-स्कॉलर्स हैं और 95 प्रतिशत डे स्कॉलर्स ने भी अपनी बकाया सेमेस्टर फीस जमा कर दिया है। वीसी जगदीश कुमार ने कहा, “कैंपस के हॉस्टल में रहने वाले 65% से अधिक छात्रों ने अपने बकाया शुल्क का भुगतान कर दिया है। कुछ छात्र जो इस बीच अपने घर चले गए थे वे भी वापस कैंपस में लौट रहे हैं।” यानी कि शुल्क का भुगतान करने वाले छात्रों की संख्या में और भी वृद्धि होने की संभावना है।

इसके साथ ही प्रशासन ने रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख को भी दो दिन आगे बढ़ा दिया है। जगदीश कुमार ने अपनेे बयान में कहा, “15 जनवरी को विंटर सेमेस्टर के लिए रजिस्ट्रेशन की अंतिम तारीख थी, जिसकी वजह से फीस काउंटर्स पर छात्रों की भारी भीड़ जमा रही। कई स्टूडेंट्स तारीख बढ़ाने की गुजारिश के साथ हमारे पास पहुँचे। जिसके बाद उनकी सुविधा को देखते हुए रजिस्ट्रेशन की तारीख आखिरी बार 2 दिन के लिए बढ़ा दी गई है। अब छात्र 17 जनवरी तक रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। छात्र इस तारीख के बाद भी रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं, लेकिन यूनिवर्सिटी रूल्स के अनुसार उन्हें इसके लिए लेट फीस भी भरनी पड़ेगी।”

जेएनयू प्रशासन के अनुसार सभी स्कूलों और केंद्रों ने अपना टाइम टेबल घोषित कर दिया है और वे उन छात्रों की परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं जो पिछला सेमेस्टर पास नहीं कर पाए हैं। उन्होंने कहा कि जेएनयू प्रशासन वह सभी कोशिशें कर रहा है जिससे कि छात्र अपनी पढ़ाई लगातार जारी रख सकें।

JNUSU के नेतृत्व में आंदोलन और बहिष्कार के बारे में बात करते हुए विश्वविद्यालय के वीसी जगदीश कुमार ने कहा कि सभी स्कूलों और केंद्रों ने अपना टाइम टेबल घोषित कर दिया है और वे उन छात्रों के लिए परीक्षा आयोजित करने पर काम कर रहे हैं, जो पिछला सेमेस्टर पास नहीं कर पाए हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय छात्रों के शैक्षणिक हितों को देखते हुए वह सभी कोशिशें कर रहा है जिससे कि छात्र अपनी पढ़ाई जारी रख सकें।

एक भी छात्र न हुआ तब भी दूँगा लेक्चर: आइशी घोष की क्लास बंद करने की धमकी पर JNU प्रोफेसर का बयान

JNU हिंसा: लेफ्ट की पोल खोलते हुए ABVP ने जारी किए 8 वीडियो, दिखी CPI के बड़े नेता की बेटी

प्रोफेसरों व वामपंथी छात्रों ने मिल कर किया प्रताड़ित: JNU के छात्र मनीष ने बताया कैसे ‘मीडिया’ भी है साज़िश में शामिल

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एग्जिट पोल के दिन शेयर बाजार में नहीं हुई हेरफेर या इनसाडर ट्रेडिंग: जाँच के बाद SEBI के सूत्रों ने बताया, राहुल गाँधी ने...

सेबी का कहना है कि लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल के दिन शेयर बाजार में कोई हेराफेरी या इनसाडर ट्रेडिंग नहीं हुई थी। इसकी गहन जाँच की गई है।

बांग्लादेशी महिला के 5 छोटे बच्चे, 3 लड़कियाँ… इसलिए इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दे दी जमानत: सपा विधायक की मदद से भारत में रहने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने जेल में बंद एक बांग्लादेशी महिला हिना रिजवान को जमानत दे दी। महिला अपने बच्चों के साथ अवैध रूप से भारत में रही थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -