Monday, March 1, 2021
Home देश-समाज कोरोना से दूसरे समुदाय के लोगों की मौत के बढ़ते मामलों से परेशान उद्धव...

कोरोना से दूसरे समुदाय के लोगों की मौत के बढ़ते मामलों से परेशान उद्धव सरकार, अब इमाम और उर्दू का लेगी सहारा

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण से हुई तीन मई तक 548 मौतों में से 239 मौतें समुदाय विशेष के लोगों की हैं, जो कि राज्य की कुल मौतों में से 44 प्रतिशत हैं। दरअसल, राज्य की समुदाय विशेष की आबादी 12 प्रतिशत से भी कम है, इसके हिसाब से यह आँकड़ा महाराष्ट्र सरकार के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।

महाराष्ट्र में कोरोन वायरस के बढ़ते मामले, विशेष रूप से समुदाय विशेष के बीच बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य की उद्धव सरकार ने चुनिंदा हॉटस्पॉट्स इलाकों में कोरोना वायरस के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए उर्दू में संदेश जारी करने का फैसला किया है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार ने कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए महामारी विभाग को इस्लामिक धर्मगुरू और स्थानीय मौलवियों के साथ योजना बनाने के लिए भी कहा है।

रिपोर्टों के अनुसार महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण से हुई तीन मई तक 548 मौतों में से 239 मौतें समुदाय विशेष के लोगों की हैं, जो कि राज्य की कुल मौतों में से 44 प्रतिशत हैं। दरअसल, राज्य की कथित अल्पसंख्यकों की आबादी 12 प्रतिशत से भी कम है, इसके हिसाब से यह आँकड़ा महाराष्ट्र सरकार के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।

इस बात का अंदाजा इन आँकड़ों से लगाया जा सकता है कि 17 मार्च से 15 अप्रैल के बीच राज्य में कोरोना से कुल 187 लोगों की मौत हुई, लेकिन इनमें से 89 मजहब विशेष के लोगों की मौत हुई। इसी तरह 15 अप्रैल से 3 मई के बीच हुई 361 मौतों में से 150 समुदाय से थे।

इस बीच संयोग से राज्य में एक फिलीपींस के नागरिक की मौत हुई, जो कि दिल्ली तबलीगी जमात के से जुड़ा हुआ था। वहीं महाराष्ट्र में 69 कोरोन वायरस वायरस के मामले तबलीगी जमात से जुड़े हुए भी पाए गए हैं।

महाराष्ट्र ने धार्मिक सभाओं में प्रतिबंध लागू करने की दिशा में देर से काम किया: विशेषज्ञ

राज्य के अधिकारियों और विशेषज्ञों ने समुदाय विशेष के बीच फैलते कोरोना वायरस को लेकर कई कारण बताए हैं। अधिकारियों ने बताया कि खाड़ी से आने वाले यात्रियों पर देरी से प्रतिबंध लगाया गया। यहाँ तक कि कई मस्जिदों में 20 मार्च तक शुक्रवार की नमाज अदा की जाती रही।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक समुदाय विशेष का एक बड़ा हिस्सा आसपास रहता है, जहाँ सोशल डिस्टेंसिंग रखना मुश्किल है। वहीं बढ़ती जनसंख्या और गरीबों तक स्वास्थ्य सेवाओं का न पहुँचना कोरोना के मामले बढ़ने का एक प्रमुख कारण है।

राज्य महामारी विज्ञान विशेषज्ञ प्रदीप आप्टे ने बताया कि खाड़ी देशों में काम करने वाले बहुत से लोग घर लौट आए और इनमें से कुछ लोग हवाई अड्डों पर स्क्रीनिंग कराने से चूक गए। यह भी राज्य में कोरोना वायरस को तेजी से फैलने का एक बड़ा कारण रहा।

इसी तरह गाइड लाइन के मुताबिक सरकार ने 16 मार्च को पहली बार संयुक्त अरब अमीरात, कतर, ओमान और कुवैत से आने वाले यात्रियों को क्वारंटाइन करना शुरू किया था। इसी दिन, यूरोपीय संघ, तुर्की और यूके के यात्रियों को प्रतिबंधित कर दिया गया था साथ ही 22 मार्च से सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को प्रतिबंधित कर दिया गया था।

मलिन बस्तियों डिस्टेंसिंग रखना बेहद मुश्किल है।

प्रदीप आप्टे ने कहा कि ये मामले एक विशेष मजहबी समूह की वजह से नहीं, बल्कि खराब जीवनशैली के कारण झुग्गियों में फैल रहे हैं। दरअसल, मलिन बस्तियों में मजहब के लोग बड़ी संख्या में हैं और एक छोटे से कमरे में कम से कम 8-10 लोग रहते हैं, जहाँ सोशल डिस्टेंसिंग रखना बेहद मुश्किल है। मुंबई में जी-साउथ वार्ड (वर्ली) के बाद दूसरा सबसे बड़ा अग्रीपाड़ा और नागपाड़ा कोरोना वायरस के वार्ड हैं, जहाँ 34 मौतें दर्ज की गईं।

बीएमसी के सहायक आयुक्त प्रशांत गायकवाड़ ने कहा कि इस वार्ड में कई लोग चॉल में रहते हैं और वहाँ कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। यहाँ की एक आवासीय भवन में समुदाय विशेष के लोगों के साथ 26 लोग थे, जिन्होंने विदेश यात्रा की थी, लेकिन इनमें से केवल एक को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। पूरी इमारत में संक्रमण नहीं फैला। मगर चॉल में एक ही संक्रमित केस कई लोगों को भी संक्रमित कर सकता है।

सरकार ने लिया मौलाना और मस्जिदों का साथ

इसी क्रम में महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने समुदाय विशेष में कोरोना वायरस के प्रति जागरूकता संदेश देने के लिए मस्जिदों और स्थानीय मौलानाओं का सहारा लिया है। आप्टे ने कहा कि हम जाने-माने लोगों की तलाश कर रहे हैं, जो एक संदेश वाहक का काम कर सकते हैं और स्थानीय स्तर पर बीमारी के बारे में जानकारी का प्रसार कर सकें।

हम जल्द ही अल्पसंख्यक तक पहुँच बनाने लिए हॉटस्पॉट्स इलाकों जैसे मालेगाँव और मुंबई में उर्दू में जागरूकता संदेश जारी करेंगे। इस बीच महाराष्ट्र में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 16758, जबकि इससे हुई मौतों का आँकड़ा 651 दर्ज किया गया है। राज्य के कुल केसों का 75 प्रतिशत मुंबई और पुणे शहर में है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

बंगाल ‘लैंड जिहाद’: मटियाब्रुज में मोहम्मद शेख और उसके गुंडों का उत्पात, दलित परिवारों पर टूटा कहर

हिंदू परिवारों को पीटा गया। महिला, बुजुर्ग, बच्चे किसी के साथ कोई रहम नहीं। पीड़ित अस्पताल से भी लौट आए कि कहीं उनके घर पर कब्जा न हो जाए।

रुपए भर की सिगरेट के लिए जब नेहरू ने फूँकवा दिए थे हजारों: किस्सा भोपाल-इंदौर और हवाई जहाज का

अनगिनत तस्वीरों में नेहरू धूम्रपान करते हुए दिखाई देते हैं। धूम्रपान को स्टेटस सिंबल या 'कूल' दिखने का एक तरीका माना जा सकता है लेकिन...

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

आस मोहम्मद पर 50+ महिलाओं से रेप का आरोप, एक के पति ने तलवार से काट डाला: ‘आज तक’ ने ‘तांत्रिक’ बताया

गाजियाबाद के मुरादनगर थाना क्षेत्र स्थित गाँव जलालपुर में एक फ़क़ीर की हत्या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।

पत्थर चलाए, आग लगाई… नेताओं ने भी उगला जहर… राम मंदिर के लिए लक्ष्य से 1000+ करोड़ रुपए ज्यादा मिला समर्पण

44 दिन तक चलने वाले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान से कुल 1100 करोड़ रुपए आने की उम्मीद की गई थी, आ गए 2100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा।

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

असम-पुडुचेरी में BJP की सरकार, बंगाल में 5% वोट से बिगड़ रही बात: ABP-C Voter का ओपिनियन पोल

एबीपी न्यूज और सी-वोटर ओपिनियन पोल के सर्वे की मानें तो पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी की सरकार बनती दिख रही है।

‘मैं राम मंदिर पर मू$%गा भी नहीं’: कॉन्ग्रेस नेता राजाराम वर्मा ने की अभद्र टिप्पणी, UP पुलिस ने दर्ज किया मामला

खुद को कॉन्ग्रेस का पदाधिकारी बताने वाले राजाराम वर्मा ने सोशल मीडिया पर अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर को लेकर अभद्र टिप्पणी की है।

आस मोहम्मद पर 50+ महिलाओं से रेप का आरोप, एक के पति ने तलवार से काट डाला: ‘आज तक’ ने ‘तांत्रिक’ बताया

गाजियाबाद के मुरादनगर थाना क्षेत्र स्थित गाँव जलालपुर में एक फ़क़ीर की हत्या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,846FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe