Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजटोपी वाले ने गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर खुलेआम पढ़ी नमाज, विरोध करते रह गए...

टोपी वाले ने गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर खुलेआम पढ़ी नमाज, विरोध करते रह गए लोग: वीडियो वायरल, कहा – आसपास कोई मस्जिद नहीं, इसीलिए…

उसने कहा कि उसे ट्रेन पकड़नी है। उसने दलील दी कि पास में कोई मस्जिद नहीं मिली और न ही कोई नमाज़ पढ़ने वाली जगह दिखी, इसलिए वह रेलवे स्टेशन में ही नमाज पढ़ रहा है।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर रेलवे स्टेशन में एक व्यक्ति के नमाज पढ़ने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जब वह नमाज पढ़ रहा था तब वहाँ मौजूद लोगों ने उसका विरोध किया। लेकिन, वह नहीं माना और नमाज पढ़ता रहा। वीडियो स्टेशन के कैब-वे गेट का बताया जा रहा है। वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने मामले का संज्ञान लिया है। फिलहाल, आरोपित की तलाश की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वायरल वीडियो गोरखपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक बने के कैब-वे गेट का है। वहाँ अधेड़ उम्र का एक व्यक्ति फर्स्ट क्लास गेट के अंदर बने टिकट काउंटर के बाहर बैठकर नमाज पढ़ता दिखाई दे रहा है। वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि व्यक्ति टोपी लगाए हुए नमाज पढ़ रहा है।

कहा जा रहा है कि जब नमाज पढ़ रहे इस व्यक्ति का रेलवे स्टेशन में मौजूद लोगों ने विरोध किया तो उसने कहा कि उसे ट्रेन पकड़नी है। उसने दलील दी कि पास में कोई मस्जिद नहीं मिली और न ही कोई नमाज़ पढ़ने वाली जगह दिखी, इसलिए वह रेलवे स्टेशन में ही नमाज पढ़ रहा है।

इस मामले में, आरपीएफ के प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार सिन्हा का कहना है कि पुलिस ने मामले का संज्ञान लिया है। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जाँच की जा रही है। साथ ही, आसपास स्थित खानपान के स्टॉल वालों और अन्य लोगों से पूछताछ की जा रही है। स्टेशन में नमाज पढ़ने वाले व्यक्ति की पहचान अब तक नहीं हो सकी है।

बता दें सार्वजनिक जगह में नमाज पढ़ने का यह मामला नहीं है। इससे पहले गत 21 अक्टूबर, 2022 को उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में सत्याग्रह एक्सप्रेस के स्लीपर कोच की गैलरी में नमाज पढ़ने का वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो में देखा गया था कि स्लीपर क्लास की बोगी में दोनों तरफ यात्री बैठे हुए थे। इसके बाद भी, गैलरी में चादर बिछाकर नमाज पढ़ी जा रही थी। इस दौरान एक अन्य व्यक्ति इन नमाज़ियों की रखवाली करते हुए आने-जाने वालों को रुकने और इंतज़ार करने के लिए कहता हुआ भी देखा गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -