Thursday, January 27, 2022
Homeदेश-समाजवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लॉन्च किया ₹6 लाख करोड़ का नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन...

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लॉन्च किया ₹6 लाख करोड़ का नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन प्रोग्राम: जानें इसकी प्रक्रिया

निर्मला सीतारमण ने कहा कि हम कोई जमीन नहीं बेच रहे हैं। केवल इसमें निजी हिस्सेदारी लाकर हम इसे बेहतर तरीके से मॉनेटाइज (मुद्रीकरण) करने जा रहे हैं। मॉनेटाइजेशन के बाद जो भी संसाधन प्राप्त किए जाएँगे, उससे हम आगे आधारभूत ढाँचा खड़ा करने के लिए बेहतर ढंग से निवेश करेंगे।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार (23 अगस्त) को नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन यानी एनएमपी प्रोग्राम को लॉन्च किया। इस दौरान वित्त मंत्री ने कहा कि भारत को यह समझना होगा कि हमारी संपत्ति का अधिकतम लाभ उठाने का समय आ गया है। सरकार केवल अंडर-यूटिलाइज्ड एसेट्स को ही बेचेगी। इसका हक सरकार के पास ही रहेगा, जबकि प्राइवेट सेक्टर के पार्टनर्स को तय समय के बाद अनिवार्य रूप से वापस करना होगा।

निर्मला सीतारमण ने कहा कि हम कोई जमीन नहीं बेच रहे हैं। केवल इसमें निजी हिस्सेदारी लाकर हम इसे बेहतर तरीके से मॉनेटाइज (मुद्रीकरण) करने जा रहे हैं। मॉनेटाइजेशन के बाद जो भी संसाधन प्राप्त किए जाएँगे, उससे हम आगे आधारभूत ढाँचा खड़ा करने के लिए बेहतर ढंग से निवेश करेंगे।

इस मौके पर नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन ने साल 2022 से 2025 तक 4 वर्ष की अवधि में केंद्र सरकार की कोर एसेट के माध्यम से 6 लाख करोड़ रुपए की कुल मुद्रीकरण क्षमता का अनुमान लगाया है। यानी सरकारी बुनियादी ढाँचा संपत्तियों को निजी क्षेत्र को कमाई के लिए लीज पर देकर केंद्र की मोदी सरकार करीब 6 लाख करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी कर रही है। इसमें सड़क, परिवहन और राजमार्ग, रेलवे, बिजली, पाइपलाइन और प्राकृतिक गैस, नागरिक उड्डयन, शिपिंग बंदरगाह और जलमार्ग, दूरसंचार, खाद्य और सार्वजनिक वितरण, खनन, कोयला और आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन में शामिल हैं।

अमिताभ कांत ने कहा, “हम नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन को कामयाब बनाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं। हमें लगता है कि बेहतर ऑपरेशन और मैनेजमेंट के लिए प्राइवेट सेक्टर में आना बेहद जरूरी है। इसलिए हम जमीनी स्तर पर मजबूती से काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।”

बता दें कि मोदी सरकार नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन में अपनी ब्राउनफील्ड इंफ्रास्ट्रक्चर संपत्तियों से पैसे जुटाने की योजना बना रही है। NMP केंद्र सरकार के 4 साल की योजनाओं के हिसाब से बनी एक योजना है। इसे सरकार की एसेट मॉनेटाइजेशन इनीशिएटिव के हिसाब से मध्यम अवधि का एक रोड मैप कहा जा सकता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe