Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजरेप नहीं कर पाया तो गला दबाया, हड्डियाँ तोड़ी, पैर काटने का प्रयास: जिस...

रेप नहीं कर पाया तो गला दबाया, हड्डियाँ तोड़ी, पैर काटने का प्रयास: जिस नौशाद को हिन्दू परिवार मानता था बेटा, उसने ही घर की बच्ची को मार डाला

पीड़ित पिता के मुताबिक, उनकी बेटी की आँखों में मरने का डर उन्हें दिखा था। मृतका के परिजनों की माँग है कि आरोपित नौशाद को भी तड़पा-तड़पा कर मारा जाए।

उत्तर प्रदेश के बलिया में 14 अक्टूबर 2022 को एक नाबालिग हिन्दू लड़की के साथ रेप का प्रयास हुआ था। आरोप है कि उनके ही मोहल्ले के रहने वाले नौशाद ने बच्ची के साथ रेप में असफल रहने पर उसकी हत्या का प्रयास किया। बताया जा रहा है कि इस दौरान पीड़िता का न सिर्फ गला दबाया गया बल्कि हड्डियों को भी तोड़ कर पैरों को भी काटने का प्रयास किया गया। 21 अक्टूबर को बच्ची की मौत हो गई। पुलिस ने एक मुठभेड़ में बाद आरोपित नौशाद को गिरफ्तार कर लिया। उनके घर पर बुलडोजर भी चलाया गया है। पीड़िता के पिता का कहना है कि उन्होंने नौशाद को अपने बेटे की तरह माना था।

घटना नगरा थानाक्षेत्र के गाँव ताड़ीबड़ा की है। 13 वर्षीया पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक उनके दोनों हाथों की नसों को काट दिया गया था। चेहरे पर कई थप्पड़ मारे गए। बताया जा रहा है कि ऐसा मृतका द्वारा नौशाद की हरकतों का विरोध करने के बाद हुआ होगा। पीड़िता के पिता ने दैनिक भास्कर को बताया कि आरोपित नौशाद का घर उनके घर से महज 10 मीटर की दूरी पर है। वो नौशाद को अपने बेटे जैसा मानते थे। उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें पता ही नहीं कि नौशाद ने उनकी बेटी के साथ इतनी बर्बरता क्यों दिखाई। उन्होंने ये भी बताया कि नौशाद को उनके घर में फ्री एंट्री थी और आने पर चाय-पानी भी दिया जाता था।

पीड़ित पिता के मुताबिक, उनकी बेटी की आँखों में मरने का डर उन्हें दिखा था। मृतका के परिजनों की माँग है कि आरोपित नौशाद को भी तड़पा-तड़पा कर मारा जाए। एक अन्य वीडियो में स्थानीय पुलिस की कार्रवाई पर संतोष जताते हुए उन्होंने कहा कि जिले के SP ने उनकी मदद की है। इसी के साथ अपनी बेटी के अस्पताल के हालातों के बारे में उन्होंने बताया कि मृतका के पूरे शरीर पर पट्टी बँधी थी। उन्होंने कहा कि पीड़िता ठीक से आँखें भी नहीं खोल पा रही थी और वारदात के बाद वो कुछ बोलने में भी सक्षम नहीं थी।

मृतका अपनी सहेली के साथ मेला देखने गई थी जहाँ आरोप है कि नौशाद उसे घर तक छोड़ने के लिए कह कर साथ ले गया था। बाद में मृतका मेले से 5 किलोमीटर दूर मरणासन्न हालत में एक खेत में मिली थी। सुरक्षा की दृष्टि से गाँव में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -