Sunday, June 26, 2022
Homeदेश-समाजरिया चकवर्ती और उसका भाई शौविक करते थे ड्रग्स का इस्तेमाल, सुशांत सिंह राजपूत...

रिया चकवर्ती और उसका भाई शौविक करते थे ड्रग्स का इस्तेमाल, सुशांत सिंह राजपूत के लिए खरीदे भी: स्पेशल कोर्ट में NCB, 12 जुलाई को सुनवाई

सुशांत सिंह राजपूत 14 जून 2020 को ब्रांदा के अपने फ्लैट में फंदे से लटके मिले थे। सीबीआई इस मामले के जाँच कर रही है।

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने स्पेशल कोर्ट में मसौदा आरोप दायर कर दिया है। इसमें सुशांत की गर्लफ्रेंड रहीं रिया चकवर्ती और उनके भाई शौविक पर वे आरोप बरकरार रखे गए हैं जो एजेंसी ने आरोप-पत्र में लगाए थे। हालाँकि कोर्ट ने अभी आरोप तय नहीं किए हैं। अब इस मामले की सुनवाई 12 जुलाई को होगी।

बुधवार (22 जुलाई 2022) को दाखिल की है। हालाँकि इस ड्राफ्ट पर अंतिम फैसला आरोपितों द्वारा दाखिल डिस्चार्ज एप्लिकेशन पर फैसला आने के बाद भी होगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामले की सुनवाई विशेष न्यायाधीश वी जी रघुवंशी कर रहे हैं। स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर अतुल सरपांडे ने बताया है कि आरोपितों के खिलाफ वे आरोप कायम रखे गए हैं, जिनका जिक्र अदालत में पूर्व में दाखिल आरोप-पत्र में किया गया था। इसके मुताबिक रिया और उसका भाई शौविक ड्रग्स का इस्तेमाल करते थे। साथ ही सुशांत के लिए ड्रग्स की खरीद में भी संलिप्त थे।

मार्च 2021 में NCB ने विशेष एनडीपीएस (NDPS) कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी। इसमें 33 लोग आरोपित बनाए गए थे। इनमें रिया चकवर्ती और उसके भाई शौविक का नाम शामिल था। 12000 से अधिक पन्नों के चार्जशीट में 200 चश्मदीदों के बयान का उल्लेख होने की बात सामने आई थी। उस समय की रिपोर्टों में बताया गया था कि करीब 50 हजार पन्ने डिजिटल फॉर्मेट में भी कोर्ट के सामने पेश किए गए हैं।

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत 14 जून 2020 को ब्रांदा के अपने फ्लैट में फंदे से लटके मिले थे। सीबीआई इस मामले के जाँच कर रही है। मामले में मनी लॉन्ड्रिंग के ऐंगल की जाँच के दौरान प्रवर्तन निदेशालय (ED) को बॉलीवुड सेलिब्रिटीज और ड्रग पैडलर्स के बीच कनेक्शन मिले थे। इसके बाद एनसीबी ने कार्रवाई करते हुए कई जगहों पर छापेमारी और गिरफ्तारियाँ की थी। सितंबर 2020 में रिया चक्रवर्ती को गिरफ्तार किया गया था। रिया लगभग 1 महीने जेल में रहीं थी। बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत जल्द बनेगा $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी’ : देश का मजाक उड़वाने के लिए NDTV ने पीयूष गोयल के बयान से की छेड़छाड़, पोल...

एनडीटीवी ने झूठ बोलकर पाठकों को भ्रमित करने का काम अभी बंद नहीं किया है। हाल में इस चैनल ने भाजपा नेता पीयूष गोयल के बयान को तोड़-मरोड़ के पेश किया।

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe