Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजभीमा कोरेगाँव: कबीर कला मंच के 3 'एक्टिविस्ट्स' गिरफ्तार, प्रतिबंधित माओवादी संगठन से हैं...

भीमा कोरेगाँव: कबीर कला मंच के 3 ‘एक्टिविस्ट्स’ गिरफ्तार, प्रतिबंधित माओवादी संगठन से हैं सम्बन्ध

लेडी सदस्य ज्योति सहित गिरफ्तार आरोपितों ने जंगल में जाकर खतरनाक हथियारों का प्रयोग और बम विस्फोट करने का प्रशिक्षण लिया था। ये वही 'कबीर कला मंच' है, जहाँ आयोजित कार्यक्रम में भड़काऊ भाषण दिए गए थे, जिसके बाद भीमा-कोरेगाँव में हिंसा भड़क उठी थी।

‘नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी (NIA)’ ने ‘कबीर कला मंच’ के तीन कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है। बताया गया है कि ‘कबीर कला मंच’ प्रतिबंधित संगठन सीपीआई (माओवादी) का एक भाग है। ये संगठन माओवादी विचारधारा को फैलाता है और नक्सली गतिविधियों को बढ़ावा देता है। गिरफ्तार तीनों आरोपितों को भीमा-कोरेगाँव मामले में सह-आरोपित बनाया गया है। इन्हें NIA की मुंबई शाखा द्वारा गिरफ्तार किया गया।

तीनों आरोपित सागर तात्याराम गोरखे, रमेश मुरलीधर गायचोर, ज्योति राघोबा जगताप भगोड़े मिलिंद तेलतुंबड़े से लगातार सम्पर्क में थे और साथ ही सीपीआई (माओवादी) के अर्बन नेटवर्क का जिससे थे। ज्योति ‘कबीर कला मंच’ की ‘लेडी’ सदस्य हैं। गिरफ्तार आरोपितों ने जंगल में जाकर खतरनाक हथियारों का प्रयोग और बम विस्फोट करने का प्रशिक्षण लिया था। इन्हें माओवादी आंदोलन से जुड़े ‘जागरूकता अभियानों’ का भी हिस्सा बनाया गया था।

32 वर्षीय सागर पुणे के वकाड का रहने वाला है। 36 वर्षीय रमेश भी पुणे के ही यरवदा का निवासी है। जगदप पुणे के कोंडवा की रहने वाली है। इन सभी को यूएपीए और आईपीसी की विभिन्न धाराओं के अंतर्गत गिरफ्तार किया गया है। बता दें कि दिसंबर 2017 में ‘कबीर कला मंच’ द्वारा आयोजित कार्यक्रम में एल्गार परिषद के एक्टिविस्ट्स ने शनिवारवाड़ा में भड़काऊ भाषण दिए थे, जिसके बाद भीमा-कोरेगाँव में हिंसा भड़क उठी थी।

जनवरी 24, 2020 से ही NIA इस मामले की जाँच कर रही है। इस मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें से अधिकतर खुद को एक्टिविस्ट बताते रहे हैं। गौतम नवलखा, सुधा भारद्वाज और वरवरा राव सहित कई आरोपित पहले से ही जेल में बंद हैं। एनआईए की एक स्पेशल कोर्ट ने गिरफ्तार तीनों आरोपितों को 11 सितम्बर तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया है। पुणे पुलिस की चार्जशीट में भी इन तीनों के नाम दर्ज थे।

इससे पहले भीमा कोरेगाँव मामले में हिंदू कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी के अंग्रेजी विभाग के एक प्रोफेसर, पीके विजयन को पूछताछ के सम्बन्ध में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी द्वारा नोटिस भेजा गया था। ये समन भारतीय दंड संहिता (IPC) और गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) के कई सेक्शन के तहत जारी किए गए थे। NIA ने इसी तरह के एक मामले में दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हनी बाबू को गिरफ्तार किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सबको मार डालेंगे’: धमकी देकर गायब हो गए थे मिजोरम सांसद, CM सरमा ने दिया FIR वापस लेने का आदेश

मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने दोस्ताना रुख अपनाते हुए असम पुलिस को आदेश दिया है कि मिजोरम सांसद वनलालवेना के खिलाफ FIR को वापस लिया जाए।

‘रिस्क है, भारत काम नहीं देगा’: Pak के कश्मीर लीग में नहीं खेलेंगे मोंटी पनेसर, BCCI के बाद ECB ने भी चेताया

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर मोंटी पनेसर ने पाकिस्तान द्वारा आयोजित किए जा रहे 'कश्मीर प्रीमियर लीग (KPL)' में हिस्सा नहीं लेने का फैसला लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,557FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe