Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजजिस रास्ते से अयोध्या आया शालिग्राम शिला, वहाँ NIA ने रेड में 8 को...

जिस रास्ते से अयोध्या आया शालिग्राम शिला, वहाँ NIA ने रेड में 8 को दबोचा: इनमें PFI सरगना रियाज भी शामिल, मंदिर को उड़ाने की मिली थी धमकी

PFI ने साल 2047 तक भारत तो इस्लामी राष्ट्र बनाने का एजेंडा सेट किया है। पिछले साल पटना के फुलवारी शरीफ में छापेमारी के बाद इसका टूलकीट सामने आया था। इसमें अयोध्या में बन रहे राम मंदिर की जगह फिर से मस्जिद बनाने की भी बात कही गई थी।

अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण कार्य तेजी से हो रहा है। नेपाल से दो शालिग्राम शिला भी अयोध्या पहुँच चुकी है। शिला की पूजा-अर्चना के बाद श्रीराम मंदिर न्यास को सौंपा जा चुका है। इस बीच राम मंदिर को बम से उड़ाने की धमकी दी गई है। इसके बाद सुरक्षा एजेंसियाँ अलर्ट मोड पर है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, राम मंदिर को उड़ाने की साजिश के बीच NIA ने शनिवार (4 फरवरी 2023) को बिहार में छापेमारी कर 8 संदिग्ध लोगों को पकड़ा है। इस दौरान प्रतिबंधित चरमपंथी इस्लामी संगठन PFI से जुड़े रियाज मारुफ़ को भी गिरफ्तार किया गया है। हालाँकि, अधिकारी दो लोगों की हिरासत की बात कह रहे हैं।

NIA की टीम ने मोतिहारी के चकिया थाना के कुंअवा गाँव में इस छापेमारी की। ये वही इलाका है, जहाँ से होकर शालिग्राम शिला नेपाल से अयोध्या पहुँचा था। बता दें कि रियाज का नाम पिछले साल फुलवारी शरीफ में PFI ट्रेनिंग सेन्टर चलाने में सामने आया था। उस दौरान भी NIA ने इस गाँव में छापेमारी की थी, लेकिन रियाज उससे पहले ही फरार हो गया था।

बता दें कि PFI ने साल 2047 तक भारत तो इस्लामी राष्ट्र बनाने का एजेंडा सेट किया है। पिछले साल पटना के फुलवारी शरीफ में छापेमारी के बाद इसका टूलकीट सामने आया था। इसमें अयोध्या में बन रहे राम मंदिर की जगह फिर से मस्जिद बनाने की भी बात कही गई थी।

इससे पहले गुरुवार (2 फरवरी 2023) को अयोध्या के रहने वाले मनोज कुमार तिवारी नाम को एक अज्ञात व्यक्ति ने काॅल करके मंदिर को बम से उड़ाने की धमकी दी थी। एक रिपोर्ट के मुताबिक धमकी देने वाले के तार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से भी जुड़े सामने आ रहे हैं। 

मामले के संबंध में पुलिस ने बताया, ”एक अज्ञात व्यक्ति ने अयोध्या के रहने वाले मनोज कुमार को यह धमकी भरा फोन किया था। फोन कॉल में राम जन्म भूमि परिसर को बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी। मनोज ने इस फोन कॉल की जानकारी पुलिस को दी।” बकौल पुलिस, फोन कॉल करने वाले ने गुरुवार सुबह 10 बजे मंदिर उड़ाने की धमकी दी थी।

पुलिस ने बताया कि राम मंदिर को उड़ाने की धमकी भरा कॉल आते ही सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर तैनात जवानों को अलर्ट कर दिया गया है। वहीं, इस संबंध में राम जन्म भूमि पुलिस स्टेशन के एसएचओ संजीव सिंह ने बताया कि मामला दर्ज कर जाँच की जा रही है। फोन करने वाले शख्स की तलाश की जा रही है।

पुलिस ने इस संबंध में दो टीमों का गठन किया है। इसमें सर्विलांस सेल भी शामिल है। रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस को मामले में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी भी हासिल हुई है। इस संबंध में एक टीम को दिल्ली भेजा गया है। 

अयोध्या निवासी मनोज ने बताया कि गुरुवार सुबह 5 बजे उन्हें कॉल आया। कॉल करने वाले ने बताया कि गुरुवार को 10 बजे तक राम मंदिर को उड़ा देगा। उसने कहा कि वह दिल्ली से बोल रहा है। नाम पूछे जाने पर व्यक्ति ने कॉल काट दिया। 

मोतिहारी पुलिस ने गिरफ़्तारी के संबंध में जानकारी देते हुए कहा, “कतिपय मीडिया चैनल्स और सोशल मीडिया पर आज सुबह एनआईए द्वारा मोतिहारी पुलिस के सक्रिय सहयोग से 3 पीएफआई संदिग्धों को गिरफ्तार करने की कार्रवाई को कथित राम मंदिर उड़ाने की धमकी से संबंधित घटना से जोड़कर दिखाया जा रहा है। इस संबंध में यह सुस्पष्ट किया जाता है कि पुलिस द्वारा अब तक के अनुसंधान में इस बात की पुष्टि नहीं हुई है। पुलिस द्वारा विधिवत अनुसंधान जारी है तथा सभी सुसंगत तथ्य पुलिस द्वारा ससमय साझा किए जाएँगे।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -