Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजMP में शोएब, अकरम और अब्दुल से NIA की पूछताछ: छापेमारी में मिले इलेक्ट्रॉनिक...

MP में शोएब, अकरम और अब्दुल से NIA की पूछताछ: छापेमारी में मिले इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और आपत्तिजनक साहित्य, टेरर फंडिंग का है मामला

इस मामले में सिवनी एसपी रामजी श्रीवास्तव ने कहा है कि साल 2021 में दिल्ली में दर्ज हुए एक मामले को लेकर एनआईए ने 3 लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की थी।

टेरर फंडिंग को लेकर राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में छापेमारी की। इस छापेमारी में एनआईए ने दो लोगों को हिरासत में लिया। हालाँकि, पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया। साथ ही नोटिस देकर बेंगलुरु तलब किया है। जाँच एजेंसी ने आरोपितों के ठिकाने से इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, आपत्तिजनक साहित्य और हार्ड डिस्क, सिम सहित कई चीजें बरामद किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शनिवार (11 मार्च 2023) को एनआईए और प्रदेश पुलिस ने संयुक्त रूप से कार्रवाई करते अब्दुल अजीज, शोएब खान और अकरम के घर पर छापेमारी की थी। इनमें से दो घरों से सिम, हार्ड डिस्क, आपत्तिजनक साहित्य और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस बरामद किया। इसके बाद एनआईए ने तीनों आरोपितों के पूछताछ की।

हालाँकि, पूछताछ के बाद जाँच एजेंसी ने अकरम को छोड़ दिया। वहीं, आगे की पूछताछ और कार्रवाई के लिए शोएब खान और अब्दुल अजीज को हिरासत में लेकर जबलपुर ले जाया गया था। लेकिन, बाद में उन दोनों को भी छोड़ दिया।

इस मामले में सिवनी एसपी रामजी श्रीवास्तव ने कहा है कि साल 2021 में दिल्ली में दर्ज हुए एक मामले को लेकर एनआईए ने 3 लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की थी। मामला टेरर फंडिंग से जुड़ा हुआ है। जाँच एजेंसी ने 3 लोगों से पूछताछ की है। इसमें पूछताछ के बाद अकरम को छोड़ दिया। वहीं, अजीज और शोएब खान को अपने साथ जबलपुर ले गई। बाद में उन्हें भी छोड़ दिया। जाँच एजेंसी ने आरोपितों के ठिकानों से सिम, हार्ड डिस्क, आपत्तिजनक साहित्य और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस समेत कुल 26 सामान जब्त किए हैं।

वहीं, इस मामले में मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि एनआईए ने पूछताछ के बाद हिरासत में लिए गए युवकों को छोड़ दिया है। साथ ही नोटिस देकर आगे की पूछताछ के लिए बेंगलुरु तलब किया है। गृह मंत्री ने यह भी कहा है कि जाँच पूरी होने तक कुछ भी कहना मुश्किल है। उन्होंने कहा, “मध्य प्रदेश शांति का टापू रहा है। इसलिए किसी भी प्रकार की संदिग्ध गतिविधि पनपने नहीं दी जाएगी। पुलिस पूरी तरह से तैयार है। बीते कुछ सालों में पीएफआई के सदस्यों समेत ऐसे कई आरोपित गिरफ्तार हुए हैं। मध्य प्रदेश का खुफिया तंत्र ऐसे तत्वों पर नजर रख रहा है। किसी भी मामले में संलिप्तता पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -