Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजसीरियल की शूटिंग के दौरान निहंगों ने तलवार लेकर बोल दिया हमला: गुरुद्वारा वाला...

सीरियल की शूटिंग के दौरान निहंगों ने तलवार लेकर बोल दिया हमला: गुरुद्वारा वाला सेट बनाना भी अब ‘बेअदबी’, SGPC से आदेश जारी करने की माँग

हंगामे का पता चलते ही पंजाबी कलाकार जरनैल सिंह भी पहुँच गए। उन्होंने कहा कि वह खुद सिख हैं। वह मानते हैं कि सेंटीमेंट्स हर्ट हुए हैं। हालाँकि उन्होंने कहा किसी फिल्म में सिख युवक का विवाह आदि दिखाना तो किसी समाज की अच्छी गतिविधि है, उसका एक तरीका अवश्य होना चाहिए।

पंजाब के मोहाली में उडारियाँ सीरियल की शूटिंग के दौरान निहंग सिख आ धमके। उन्होंने प्रोडक्शन टीम के लोगों की जमकर पिटाई की और सेट पर तोड़फोड़ की। निहंग सिखों ने सेट पर गुरुद्वारा की डमी बनाए जाने का विरोध किया और कहा कि सेट पर निशान साहिब, पालकी का स्वरूप बनाकर और गुरुद्वारे की डमी बनाकर श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की जा रही है।

आनंद कारज का सीन होना था शूट

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उडारियाँ सीरियल में आनंद कारज (सिख परंपरा के अनुसार विवाह) का सीन शूट किया जाना था, जिसके लिए मोहाली के घडुँआ क्षेत्र में सेट बनाया गया था। शूटिंग की प्रोडक्शन टीम ने सेट पर ही गुरुद्वारा बनवाया था और वहाँ प्रतीक के तौर पर निशान साहिब और पालनी का स्वरूप सजाया था। इस सीन की शूटिंग के लिए 3 ग्रंथी भी बुलाए गए थे, लेकिन तभी निहंग सिख आ धमके। जानकारी के मुताबिक, निहंगों को किसी ने सूचना दी थी कि घडुँआ के अकालगढ़ में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की जा रही है। निहंग सिखों ने उडारियाँ के सेट पर आकर तोड़फोड़ की और शूटिंग रुकवा दी। उन्होंने क्रू मैंबर्स के साथ मारपीट भी की। इस दौरान कई घंटों तक जमकर हंगामा हुआ। वहीं, पुलिस मौके पर पहुँची और दोनों पक्षों को थाने लेकर गई।

एक-एक हजार रुपए में आए फर्जी ग्रंथी

निहंग बाबा निहाल सिंह बरौली ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि शूटिंग वाली जगह पर श्री गुरु ग्रंथ साहिब की पालकी सजाई गई थी और तीन ग्रंथी वीडियो बना रहे थे। इसके पीछे शरगुन मेहता और उनके पति का हाथ है। उन्हें सजा मिलनी चाहिए। अगर पुलिस ने सही तरीके से मामले को नहीं निपटाया, तो हम खुद इस मामले को अपने हाथों में लेंगे। निहंगों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने पूरे सेट की वीडियो बनाई है। किस तरह सब कुछ फर्जी तैयार किया गया था। एक-एक हजार रुपये में यह फर्जी ग्रंथी लेकर आए हुए थे। उन्हें सबसे ज्यादा दुख इस बात का है कि हमारे ही सिख खुद अपनी आंखों के सामने गुरु की बेअदबी करवा रहे थे।

शिरोमणि गुरुद्वारा कमेटी जारी करे आदेश

हंगामे का पता चलते ही पंजाबी कलाकार जरनैल सिंह भी पहुँच गए। उन्होंने कहा कि वह खुद सिख हैं। वह मानते हैं कि सेंटीमेंट्स हर्ट हुए हैं। हालाँकि उन्होंने कहा किसी फिल्म में सिख युवक का विवाह आदि दिखाना तो किसी समाज की अच्छी गतिविधि है, उसका एक तरीका अवश्य होना चाहिए। शिरोमणि कमेटी ने जैसे मैरिज पैलेसों में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के स्वरूप ले जाने पर पाबंदी लगा दी है, इसी तरह शूटिंग को लेकर भी साफ आदेश होने चाहिए। हालाँकि इससे पहले भी कई फिल्मों में इस तरह के सीन शूट किए जा चुके हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -