Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजनूहं में शोभा यात्रा को RDX से उड़ा देंगे: सावन के आखिरी सोमवार से...

नूहं में शोभा यात्रा को RDX से उड़ा देंगे: सावन के आखिरी सोमवार से पहले धमकी, 28 अगस्त को जलाभिषेक यात्रा करने का VHP का ऐलान

31 जुलाई को बृजमंडल जलाभिषेक शोभायात्रा के दौरान ही उस पर मुस्लिम दंगाइयों द्वारा हमला बोल दिया गया था। जिसमें 6 व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। लगभग 100 से ज्यादा घायल हुए हैं। दंगाइयों ने सैकड़ों गाड़ियाँ भी फूँक दी थीं। इसके बाद इलाके में अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाते हुए करीब 750 से अधिक अवैध निर्माण ध्वस्त किए गए।

नूहं में हिंदुओं की धार्मिक यात्रा पर कट्टरपंथी मुस्लिमों के हमले के बाद अधूरी रह गई जलाभिषेक यात्रा को इस सावन के आखिरी सोमवार को पूरा किया जाएगा। विश्व हिंदू परिषद ने ऐलान किया है कि सावन के आखिरी सोमवार को नल्हड़ में महादेव के जलाभिषेक के साथ बृजमंडल यात्रा फिर से शुरू होगी।

विहिप का कहना है कि फिरोजपुर झिरका में जलाभिषेक के बाद पुन्हाना के सिंगार मंदिर में जलाभिषेक तक ये यात्रा अनवरत रूप से जारी रहेगी। विहिप के इस ऐलान के बाद प्रशासन ने हरियाणा सरकार को पत्र लिख कर इंटरनेट पर बैन लगाने की सिफारिश की है। इस बीच, एक हिंदू संगठन को यात्रा करने पर आरडीएक्स से हमले की धमकी मिली है।

विहिप ने किया ऐलान, बृजमंडल यात्रा को करेंगे पूरा

विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री सुरेंद्र जैन ने कहा कि नूहं में 28 अगस्त को पूरे दल-बल के साथ बृजमंडल शोभायात्रा निकाली जाएगी। इस बारे में प्रशासन को सूचित कर दिया गया है। इसके लिए अनुमति माँगने की जरूरत ही नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रशासन से इस बारे में चर्चा जरूर हो सकती है कि यात्रा में लोगों की संख्या को कम ज्यादा किया जा सके, लेकिन यात्रा को पूरा हर हाल में किया जाएगा। बता दें कि हिंसा के बाद पलवल में हुई सर्व समाज की महापंचायत में इस यात्रा को पूरा करने का ऐलान किया गया था।

5000 लोगों के लेकर जाएगी हिंदू युवा वाहिनी

पश्चिमी उत्तर प्रदेश से हिन्दू युवा वाहिनी ने ऐलान किया है कि वह नल्हड़ मंदिर में जलाभिषेक के लिए 28 अगस्त को 5000 लोगों के साथ नूहं पहुँचेगी। जलाभिषेक के लिए हरिद्वार और वाराणसी से गंगाजल मँगवाया है। इसको लेकर पुलिस प्रशासन और खुफिया एजेंसियाँ सतर्क हो गई हैं। कहा जा रहा है कि इसको देखते हुए 25 अगस्त से इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है।

अब इंटरनेट पर रोक लगाने की तैयारी

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा था कि विहिप ने सावन के आखिरी सोमवार को यात्रा निकालने की अनुमति माँगी है, लेकिन प्रशासन ने जी-20 की बैठकों और तनाव को देखे हुए इस यात्रा की अनुमति नहीं दी है। अब विहिप के ऐलान के बाद प्रशासन ने हरियाणा के गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर इंटरनेट पर 4 दिनों के लिए बैन लगाने की सिफारिश की है, ताकि किसी भी तरह की अफवाह को फैलने से रोका जा सके। उपायुक्त धीरेंद्र खडगटा ने ये पत्र हरियाणा सरकार को लिखकर कहा है कि 25 अगस्त से 29 अगस्त तक इंटरनेट को बंद रखा जाए।

यात्रा पर आरडीएक्स से हमले की मिली धमकी

इस बीच विश्व हिंदू तख्त के अंतर्राष्ट्रीय प्रमुख और एंटी टेररिस्ट फ्रंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष वीरेश शांडिल्य को धमकी मिली है कि अगर नल्हड़ महादेव मंदिर से फिर किसी यात्रा को निकालने की कोशिश की गई तो उसे आरडीएक्स से उड़ा दिया जाएगा। इस मामले में उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने कहा कि धमकी देने की वजह से हम पीछे नहीं हटेंगे।

नूहं में 31 जुलाई को हुआ था हमला

गौरतलब है कि 31 जुलाई को बृजमंडल जलाभिषेक शोभायात्रा के दौरान ही उस पर मुस्लिम दंगाइयों द्वारा हमला बोल दिया गया था। जिसमें 6 व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। लगभग 100 से ज्यादा घायल हुए हैं। दंगाइयों ने सैकड़ों गाड़ियाँ भी फूँक दी थीं। इसके बाद इलाके में अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाते हुए करीब 750 से अधिक अवैध निर्माण ध्वस्त किए गए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -